ADVERTISEMENT

बिहार चुनाव : राज्य की राजनीति ने दुश्मनों को भी सिखा दी दोस्ती

चुनावी हवा नीतीश कुमार के खिलाफ है

Published
चुनावी हवा नीतीश कुमार के खिलाफ है
i

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 सितंबर को कोसी रेल महासेतु का उद्घाटन किया और उसे राष्ट्र के नाम समर्पित किया. कई दूसरे रेल प्रॉजेक्ट्स का भी उद्घाटन किया गया. निर्वाचन आयोग बिहार का चुनावी बिगुल बजाता, इससे पहले ही प्रधानमंत्री मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शिलान्यासों और उद्घाटनों का शंख फूंक दिया है. नीतीश बिहार में लगातार चौथी बार मुख्यमंत्री बनने का सपना देख रहे हैं और राज्य कोविड-19, बाढ़ और प्रवासियों के संकट से जूझ रहा है.

देश में कोविड के बाद पहली बार किसी राज्य में चुनाव हो रहे हैं और इनसे भारत में ‘डिजिटल राजनीति’ का भविष्य तय हो सकता है.  

मीडिया और राजनैतिक दिग्गजों के एक तबके का अनुमान है कि इन चुनावों में एनडीए की लहर में तेजस्वी यादव के नेतृत्व वाले महागठबंधन का सूपड़ा साफ होने वाला है. लेकिन सच तो यह है कि एनडीए और महागठबंधन, दोनों को अपने सहयोगी दलों के आपसी मतभेदों से जूझना पड़ रहा है.

चुनावी हवा नीतीश कुमार के खिलाफ है

सत्ता में 15 साल रहने पर विरोधी लहर होना कोई बड़ी बात नहीं. वोटर्स के दिलो दिमाग में एक शिथिलता, बोरियत सी घर करने लगती है. नीतीश कुमार महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड का हाल देख चुके हैं. इन सभी जगहों पर भाजपा को चुनावी डगर बहुत आसान लग रही थी. इसीलिए नीतीश कुमार कोई जोखिम नहीं उठाना चाहते.

यूं चौथे कार्यकाल का सपना देखने वाले कई नेताओं ने विधानसभा चुनावों में मुंह की खाई है- तरुण गोगोई (असम), शिवराज सिंह चौहान (मध्य प्रदेश), रमन सिंह (छत्तीसगढ़), शीला दीक्षित (दिल्ली), बिधान चंद रॉय (पश्चिम बंगाल) और लालू प्रसाद यादव/राबड़ी देवी (बिहार).

नवीन पटनायक, ज्योति बसु और नरेंद्र मोदी ही ऐसे मुख्यमंत्री रहे जिन्होंने इस रुझान को बदला.  

बिहार में नीतीश कुमार के खिलाफ तेज हवा बह रही है और उनके पास इस हवा को पलटने की कोई तरकीब नहीं है. 2005 के चुनाव उन्होंने ‘बिहारी अस्मिता’ और जंगल राज के नाम पर जीते थे, 2010 में सुशासन के नाम पर. 2015 में लालू की पार्टी के साथ गठबंधन करने के साथ उन्होंने मोदी के डीएनए वाले बयान का इस्तेमाल किया था और सीधे मोदी को ही चुनौती दी थी.

अब 2020 में नीतीश भाजपा और मोदी की जुबान बोल रहे हैं और पूछ रहे हैं कि राजद ने सत्ता में 15 साल रहकर क्या काम किया था. वैसे ही जैसे भाजपा कांग्रेस से ’70 साल का हिसाब’ मांगती है. लेकिन नीतीश के पक्के समर्थकों का भी यही मानना है कि तीसरे कार्यकाल में नीतीश ने कुछ हासिल नहीं किया. बस, ज्यादातर वक्त अपनी कुर्सी ही बचाते रहे.

ADVERTISEMENT

नीतीश-मोदी के रिश्ते और नीतीश की प्रधानमंत्री पद की तमन्ना

नीतीश कुमार और प्रधानमंत्री मोदी का रिश्ता उतार-चढ़ाव भरा रहा है. एक वह दौर था जब नीतीश इस बात पर अड़ गए थे कि भाजपा चुनावी मैदान में मोदी को स्टार प्रचारक के तौर पर न उतारे. उन्होंने 2010 में गुजरात की तरफ से आए बाढ़ राहत फंड को भी वापस कर दिया था.

2013 में जब मोदी भाजपा की कैंपेन कमिटी के चीफ बनाए गए तब नीतीश ने एनडीए का दामन छोड़ दिया था. तब यह स्पष्ट था कि मोदी भाजपा के प्रधानमंत्री पद के दावेदार हैं.

यूं प्रधानमंत्री बनने की उमंग नीतीश में भी है.  

उन्होंने एनडीटीवी को दिए एक इंटरव्यू में कहा था, ‘इस देश के लोग विघटनकारी ताकतों को कभी स्वीकार नहीं करेंगे. उनका मकसद इस देश को बांटना और राज करना है. हमें पता था कि यही होगा. हम उनके लिए सिर्फ यही कह सकते है- विनाश काले, विपरीत बुद्धि.’

2014 में जबरदस्त हार के साथ जदयू को जब सिर्फ दो सीटें मिलीं तो नीतीश ने लालू यादव से हाथ मिला लिया- इसके बावजूद कि लालू नीतीश के प्रतिद्वंद्वी तो हैं ही, उन्हें अप्रिय भी हैं.  

इस महागठबंधन में जदयू और राजद के अलावा कांग्रेस भी शामिल थी. 2015 के बिहार चुनावों में महागठबंधन ने भाजपा के विजयरथ को रोका. नीतीश मुख्यमंत्री बने रहे और मोदी को जोर का झटका लगा. उस समय नीतीश बिहार में मोदी से भी ज्यादा लोकप्रिय थे.

2015 के चुनाव अभियान के दौरान दोनों ने एक दूसरे पर आग उगली थी. एक रैली में मोदी ने कहा था कि ‘नीतीश के राजनैतिक डीएनए में कुछ गड़बड़ है’, तभी वह अपने राजनैतिक साथियों को बदलते रहते हैं. बदले में नीतीश ने कहा था कि मोदी ने बिहार के लोगों का अपमान किया है. इसके बाद एक अभियान चलाया गया था जिसमें जदयू ने दावा किया था कि 50 लाख लोगों ने मोदी को जांच के लिए अपने ‘डीएनए सैंपल’ भेजे हैं.

ADVERTISEMENT

नीतीश ने मोदी की नोटबंदी योजना की भी आलोचना की थी

उन्होंने कहा था कि ‘केंद्र को हमें बताना होगा कि नोटबंदी के क्या फायदे हुए हैं. जब दुनिया में कहीं भी कैशलेस या लेस कैश अर्थव्यवस्था काम नहीं कर पाई है तो भारत जैसे देश में यह कैसे काम करेगी?’

2017 में जब लालू और उनके परिवार पर भ्रष्टाचार के नए आरोप लगाए गए तो नीतीश एनडीए में वापस चले गए. उन्हें इस का विश्वास था कि वह मोदी-शाह को साबित कर सके हैं कि उनके समर्थन के बिना भी वह जीत सकते हैं.

2019 में उन्होंने भाजपा से सीटों के लिए सौदेबाजी की, बराबर की सीटों (17) पर चुनाव लड़ा और एक को छोड़कर सभी जीतीं.  

हालांकि चुनाव नतीजे आने के बाद मोदी ने एक बार फिर उनकी अनदेखी की. जदयू के सिर्फ एक सांसद को कैबिनेट में जगह देने का प्रस्ताव दिया. नीतीश ने कम से कम छह पदों की मांग की थी इसलिए इस पेशकश को ठुकरा दिया. उनका कहना था कि कम सांसदों वाली पार्टियों (अकाली दल और पासवान की एलजेपी) को भी इतना ही प्रतिनिधित्व मिल रहा है.

भाजपा का मानना था कि जदयू के अच्छे प्रदर्शन की वजह मोदी का करिश्मा है. बिहार में 35 प्रतिशत लोगों ने चुनाव के वक्त प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार को महत्व दिया था, जबकि अखिल भारतीय आधार पर 17 प्रतिशत लोगों के यह मानना था कि उन्होंने प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार को देखकर वोट दिया है. तो, बिहार का औसत राष्ट्रीय औसत से दुगुना था.

ADVERTISEMENT

JDU और BJP के बीच तनाव कैसे खत्म हुआ

लोकसभा के नतीजों के बाद जब जदयू को कैबिनेट में मनमर्जी की जगह नहीं मिली तो कई तरह की अफवाहों का बाजार गर्म हुआ. यह बात फैली कि नीतीश एनडीए को छोड़कर अकेले विधानसभा चुनाव लड़ेंगे या राजद के साथ कदमताल करेंगे. हालांकि जब भाजपा ने ऐलान किया कि नीतीश ही गठबंधन में मुख्यमंत्री पद के दावेदार होंगे, दोनों पार्टियों के बीच तनाव छंट गया.

गठबंधन सहयोगी चिराग पासवान के हमलों के बावजूद भाजपा नीतीश के पीछे खड़ी रही.  

कई इंफ्रास्ट्रक्चर प्रॉजेक्ट्स का उद्घाटन करते वक्त प्रधानमंत्री ने नीतिश को ही एनडीए का मुख्यमंत्री चेहरा बताया और उनकी वाहवाही की.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘प्रगति की राह में बिहार को आगे ले जाने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बड़ी भूमिका निभानी है. हमें बिहार में सुशासन सुनिश्चित करना है. राज्य में पिछले 15 वर्षों के दौरान जो अच्छा काम हुआ है, उसे जारी रहना चाहिए.’

ADVERTISEMENT

बिहार में एनडीए के सुनहरे भविष्य के लिए नीतीश-मोदी का समीकरण जरूरी है

संभव है, 69 वर्ष के नीतीश का यह आखिरी संघर्ष हो, इसीलिए उन्हें इसमें जीत हासिल करने के लिए मोदी का साथ चाहिए. यह वही मोदी हैं जिनके साथ उनका लाग-डाट का रिश्ता रहा है. मोदी की लोकप्रियता फिलहाल काफी अधिक है. कोरोनावायरस महामारी को काबू में करने में विफल रहने और सीमा पर चीन की घुड़कियों के बीच भी लोग उनसे खुश हैं.

चूंकि चुनाव धीरे धीरे प्रेसिडेंशियल स्टाइल में लड़े जा रहे हैं, इसलिए नीतीश को उम्मीद है कि चुनावों में युवा तेजस्वी यादव के मुकाबले उनकी और मोदी की जोड़ी भारी पड़ेगी.  

उन्हें यह भी उम्मीद है कि भले ही उनका नेतृत्व कमजोर पड़ जाए लेकिन मोदी की लोकप्रियता तिलस्म रच सकती है. वैसे क्राउडविजडम360 के अनुसार, भरोसे, समझदारी और क्षमता जैसे मापदंडों के आधार पर नीतीश तेजस्वी से पिछड़ गए हैं.

2019 में महाराष्ट्र और झारखंड में चुनावी जंग हारने के बाद भाजपा और मोदी कोई मौका गंवाना नहीं चाहते.  

हार ‘गलत संदेश’ देगी. इसीलिए बिहार में एनडीए की किस्मत मोदी-नीतीश के समीकरण पर टिकी हुई है.

एनडीए की जीत के बाद भी नीतीश कुमार को अपने पद पर टिके रहने के लिए मोदी के ‘आशीर्वाद’ की जरूरत होगी. जमीनी स्तर की खबरों के अनुसार, भाजपा को जदयू से ज्यादा सीटें मिलने की उम्मीद है. इससे पूरा परिदृश्य बदल सकता है और इस नई नई दोस्ती में खलल पड़ सकता है.

(लेखक एक स्वतंत्र पॉलिटिकल कमेंटेटर हैं. वह @politicalbaaba पर ट्विट करते हैं. यह एक ओपिनियन पीस है. यहां व्यक्त विचार लेखक के अपने हैं. द क्विट न इसका समर्थन करता है और न ही इसके लिए जिम्मेदार है.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT