हरिवंश राय बच्चन के छूने से जब खिल उठी थी अमिताभ की कविता
मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में जगा था अमिताभ बच्चन के भीतर का कवि
मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में जगा था अमिताभ बच्चन के भीतर का कविफोटो: द क्विंट

हरिवंश राय बच्चन के छूने से जब खिल उठी थी अमिताभ की कविता

कुछ रातें बहुत लंबी होती हैं. लंबी.. काली और डरावनी. 24 जुलाई, 1982 की रात भी कुछ ऐसी ही थी. इसी दिन कुली फिल्म की शूटिंग के दौरान अमिताभ बच्चन को वो चोट लगी, जिसने उन्हें करीब-करीब मौत के मुंह तक पहुंचा दिया.

उन दिनों अमिताभ अपनी लोकप्रियता के शिखर पर थे. उस हादसे से पूरा देश जैसे ठहर गया. मंदिर की घंटी से दिल की दुआ और चौराहे की चर्चा से अखबार की सुर्खी तक हर जगह अमिताभ थे. जिंदगी और मौत की वो जंग आखिरकार अमिताभ ने जीत ली, लेकिन एक महीने से ज्यादा का वक्त उन्हें मुंबई में ब्रीच कैंडी अस्पताल में बिताना पड़ा.

Loading...
उनके छोटे से कमरे की खिड़की समंदर की तरफ खुलती थी. ‘बाहर और भीतर’ के उन बेबस दिनों में अमिताभ ने समंदर की लहरें से दोस्ती कर ली. वो उन लहरों को निहारते थे, अपना दुख-दर्द बांटते थे, उनसे बातें करते थे.

उन्हीं किन्हीं जज्बाती लम्हों में अमिताभ ने 29 अगस्‍त, 1982 को एक कविता लिखी, इंग्लिश में. उस कविता का तर्जुमा उनके पिता हरिवंश राय बच्चन ने किया, हिंदी में. कलाकार अमिताभ के दिल से निकली उस रचना को जब कवि हरिवंश राय ने छुआ, तो वो और निखर गई. ठीक वैसे ही जैसे बारिश की बूंदों में नहाकर पेड़ के पत्ते और निखरते हैं.

अमिताभ बच्चन की अंग्रेजी में लिखी कविता 
अमिताभ बच्चन की अंग्रेजी में लिखी कविता 
(साभार: वाणी प्रकाशन)
हरिवंश राय बच्चन का हिंदी अनुवाद
हरिवंश राय बच्चन का हिंदी अनुवाद
(साभार: वाणी प्रकाशन)

31 अगस्त को हिंद के नामचीन साहित्यकार धर्मवीर भारती और उनकी पत्नी पुष्पा भारती अमिताभ से मिलने गए. उसी मुलाकात में अमिताभ ने कहा था:

कचरे में फाड़कर फेंक देने लायक मेरी लाइनों को बच्चन जी ने कविता बना दिया.

बेटे की इस तारीफ से पिता का दर्द भी छलक उठा. हरिवंश जी बोले:

असल में अमिताभ की ‘एगोनी’ (पीड़ा) से हमने खुद को ‘आइडेंटिफाई’ कर लिया था. उन्हें जब पहली बार हमने यहां बिस्तर पर देखा, तो हमारे मन में यही उठा कि I should have been here. WHY HE? WHY HE? 

यह भी पढ़ें: ग्राफिक नॉवेल | ‘इंकलाब’ से अमिताभ बच्चन तक, ‘शहंशाह’ का पूरा सफर

ब्रीच कैंडी अस्पताल से इलाज के बाद लौटे अमिताभ बच्चन पिता हरिवंश राय बच्चन को सांत्वना देते हुए
ब्रीच कैंडी अस्पताल से इलाज के बाद लौटे अमिताभ बच्चन पिता हरिवंश राय बच्चन को सांत्वना देते हुए
(साभार: वाणी प्रकाशन)

तो आगे से कभी हरिवंश जी की कोई कविता सुनते वक्त आपको लगे कि अमिताभ बच्चन की आवाज में इतनी गहराई कैसे आ जाती है, तो पिता-पुत्र के बीच हुए इस भावुक किस्से को याद कर लीजिएगा.

ये भी पढ़ेंं-

पॉडकास्ट: जब पिता हरिवंश ने गुस्साए अमिताभ को कविता में दी नसीहत

(तथ्य और फोटो, वाणी प्रकाशन से छपी पुष्पा भारती की किताब ‘अमिताभ आख्यान’ से लिए गए हैं)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our वॉटरकूलर section for more stories.

    Loading...