ADVERTISEMENTREMOVE AD

Surya Grahan 2020: ग्रहण के दौरान इस मंदिर के पट नहीं होते बंद 

21 जून आषाढ़ अमावस्या को लगने वाले सूर्य ग्रहण का सूतक काल माना जाएगा

story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

21 जून, रविवार के दिन सूर्य ग्रहण लगने वाला है. ये ग्रहण सुबह 9 बजकर 15 मिनट से शुरू होगा और दिन में 03 बजकर 03 मिनट तक रहेगा. भारत में ये सूर्य ग्रहण दिखाई देगा. भारत के अलावा अमेरिका, दक्षिण पूर्व यूरोप और अफ्रीका में भी दिखाई देगा.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

विशेषज्ञों का कहना है कि सूर्य ग्रहण देखने वाले लोगों को सावधानी बरतनी चाहिए और उन्हें सुरक्षित उपकरणों तथा उचित तकनीकों का उपयोग करना चाहिए क्योंकि सूर्य की अवरक्त और पराबैंगनी किरणें आंखों को गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त कर सकती हैं.

0

भारत समेत इन देशों में देखा जा सकता ग्रहण

भारत में यह ग्रहण आंशिक रूप से नयी दिल्ली, मुम्बई, हैदराबाद, कोलकाता, चंडीगढ़, बंगलौर, लखनऊ, चैन्नई जैसे कुछ प्रमुख शहरों में देखा जा सकता है. इसके अलावा यह नेपाल, यूऐई, पाकिस्तान, सऊदी अरब, एथोपिया और कोंगों जैसे देशों में भी दिखेगा.

ADVERTISEMENT

सूतक काल

ग्रहण होने के 12 घंटे पहले सूतक लग जाता है. सूतक के समय को सामान्यता अशुभ माना जाता है. इस दौरान शुभ कार्य करना वर्जित होता है. सूर्य ग्रहण के 12 घंटे से पूर्व ही सूतक लगने के कारण मंदिरों के पट भी बंद कर दिए जाते है. ऐसे में पूजा, उपासना या देव दर्शन नहीं किए जाते हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

ग्रहण के दौरान इस मंदिर के पट बंद नहीं होते

देश में एक ऐसा मंदिर भी है जो ग्रहण के सूतक मे भी खुला रहता है. ये आंध्र प्रदेश का मशहूर कालहस्ती मंदिर है. जहां सूर्य ग्रहण के दौरान देश के सभी मंदिर 12 घंटों के लिए बंद हैं वहीं इकलौते इस मंदिर में राहू और केतू पूजा अर्चना की जाती है, इसलिए ग्रहण के दौरान भी ये मंदिर खुला रहता है. यह मंदिर भगवान शिव का मंदिर है.

मध्यप्रदेश के उज्जैन में स्थित विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग भगवाम महाकालेश्वर मंदिर के पट गुरुवार को सूर्यग्रहण के दौरान भी खुले रहते हैं. इस दौरान मंदिर के पुजारियों ने भगवान महाकाल का जाप किया जाता है. हालांकि, देश के ज्यादातर मंदिरों के पट इस दौरान बंद कर दिये जाते हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×