ध्यानचंद: ‘हॉकी का जादूगर’, जिन्होंने  दुश्मनों को धूल चटाई  

ध्यानचंद को उनके शानदार प्रदर्शन के लिए 1956 में पद्मभूषण किया गया था. 

Updated03 Dec 2019, 02:03 AM IST
जिंदगी का सफर
2 min read

हॉकी के नामचीन खिलाड़ी और कप्तान रहे मेजर ध्यानचंद का जन्म 29 अगस्त 1905 को इलाहाबाद में हुआ. उन्‍हें भारत और विश्व हॉकी में सबसे महान खिलाड़ियों में शामिल किया जाता है. मेजर ध्यानचंद का जन्मदिन भारत में "नेशनल स्पोर्ट्स डे" के रूप में मनाया जाता है. इसी दिन स्पोर्ट्स में खास परफॉर्मेंस दिखाने वाले खिलाड़ियों को अर्जुन अवॉर्ड और द्रोणाचार्य अवॉर्ड से सम्मानित किया जाता है. साल 1956 में भारत सरकार ने मेजर ध्यानचंद को भारत के प्रतिष्ठित नागरिक सम्मान पद्म भूषण से नवाजा. जानिए ध्यानचंद से जुड़ी कुछ खास बातें:

1922 में ध्यानचंद 16 साल की उम्र में सेना में शामिल हो गए थे और वहीं से शुरू हुआ उनके हॉकी प्लेयर बनने का सफर-

ध्यानचंद: ‘हॉकी का जादूगर’, जिन्होंने  दुश्मनों को धूल  चटाई  
फोटो:Wikipedia

1928 में एम्सटर्डम ओलंपिक में उनके नाम 14 गोल दर्ज हैं. इसी टूर्नामेंट में जीत के बाद उन्हें 'हॉकी का जादूगर' नाम से जाना जाने लगा.

ध्यानचंद: ‘हॉकी का जादूगर’, जिन्होंने  दुश्मनों को धूल  चटाई  
फोटो:Twitter

ध्यानचंद ने 1928,1932 और 1936 में देश को हॉकी में गोल्ड दिलाया. वो भारतीय टीम के हॉकी कप्तान भी रहे. उनकी कप्तानी में ही टीम ने ओलंपिक में गोल्ड जीता.

ध्यानचंद: ‘हॉकी का जादूगर’, जिन्होंने  दुश्मनों को धूल  चटाई  
फोटो:Twitter

नीदरलैंड्स में ध्यानचंद की हॉकी स्टिक तोड़कर चेक किया गया था कि कहीं इसमें चुंबक तो नहीं लगी.

ध्यानचंद: ‘हॉकी का जादूगर’, जिन्होंने  दुश्मनों को धूल  चटाई  
फोटो:Twitter

ऑस्ट्रिया की राजधानी वियना में एक स्पोर्टस क्लब में ध्यानंचद की मूर्ति लगी हुई है इस मूर्ति में उनके चार हाथ हैं. इन चारों हाथों में हॉकी स्टिक है. यह मूर्ति उनके खेल का जादू दिखाने का परिचायक देने के लिए लगाई गई है कि उनकी हॉकी में कितना जादू था.

ध्यानचंद को उनके शानदार प्रदर्शन के लिए 1956 में पद्मभूषण किया गया था. हालांकि अब तक उन्हें भारत रत्न अभी तक नहीं दिया गया है, लेकिन इसके लिए लगातार मांग की जा रही है.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 29 Aug 2018, 03:26 AM IST

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!