छपाक के बाद अब लक्स के पीछे पड़े लोग,बोले- दीपिका पादुकोण को हटाओ

दीपिका पादुकोण के जेएनयू जाने पर थम नहीं रहा बवाल

Published
बॉलीवुड
2 min read
दीपिका पादुकोण के जेएनयू जाने पर थम नहीं रहा बवाल
i

बॉलीवुड एक्टर दीपिका पादुकोण को लेकर विवाद खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है. उनके जेएनयू जाने के बाद से सोशल मीडिया का एक तबका उनके खिलाफ खड़ा हो गया है. पहले वो उनकी फिल्म 'छपाक' का विरोध कर रहा था, और अब दीपिका के एंडोर्स किए ब्रांड्स के खिलाफ भी उतर आया है. ट्विटर पर लेटेस्ट ट्रेंड्स में ये लोग दीपिका को हटाकर लक्स को बचाने के लिए कह रहे हैं.

सोशल मीडिया पर #दीपिका_हटाओ_लक्स_बचाओ ट्रेंड कर रहा है. यूजर्स का कहना है कि लक्स कंपनी दीपिका को अपने  ब्रांड एंबैस्डर से हटा दे, नहीं तो कंपनी का बहिष्कार किया जाएगा. इतना ही नहीं, दीपिका को ब्रांड एंबैस्डर बनाने पर एक यूजर ने लक्स को एंटी-नेशनल साबून तक बता दिया.

एक यूजर ने लिखा कि वो लक्स की बजाय पीयर्स साबुन का इस्तेमाल कर रही हैं.

“एंटी-नेशनल साबुन भी हो गया लक्स”

दीपिका ने दिया था JNU छात्रों को समर्थन

5 जनवरी की शाम जेएनयू छात्रों के साथ हॉस्टल में मारपीट और हिंसा के बाद, दीपिका पादुकोण 7 जनवरी को जेएनयू कैंपस गई थीं. दीपिका जेएनयू के साबरमती टी प्वाइंट पहुंचीं और छात्रों को समर्थन दिया. उन्होंने जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष से मुलाकात भी की थी. कन्हैया कुमार के आजादी और इंकलाब जिंदाबाद के नारों के वक्त भी दीपिका वहां मौजूद थीं. हालांकि, उन्होंने वहां मीडिया या छात्रों को संबोधित नहीं किया और चुपचाप वहां से निकल गईं.

जेएनयू में छात्रों के साथ खड़ीं थीं दीपिका पादुकोण
जेएनयू में छात्रों के साथ खड़ीं थीं दीपिका पादुकोण
(फोटो: क्विंट हिंदी)

इसके बाद से ही सोशल मीडिया पर उन्हें और ‘छपाक’ को बॉयकॉट करने का जैसे कैंपेन चल पड़ा था. ट्विटर पर #BoycottDeepika और #BoycottChhapaak जैसे हैशटैग्स ट्रेंड किए गए थे. दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने भी ट्वीट कर दीपिका की फिल्म ‘छपाक’ को बॉयकॉट करने के लिए कहा था.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!