सोहराबुद्दीन शेख और कौसर बी को पुलिस मुठभेड़ में मार गिराया गया था
सोहराबुद्दीन शेख और कौसर बी को पुलिस मुठभेड़ में मार गिराया गया थाफोटो: द क्विंट
  • 1. कैसे हुआ एनकाउंटर
  • 2. सोहराबुद्दीन शेख आखिर था कौन?
  • 3. क्या सोहराबुद्दीन आतंकी था?
  • 4. किस आधार पर एनकाउंटर को फेक बताया गया
  • 5. सीबीआई ने अपनी जांच रिपोर्ट में क्या कहा
सोहराबुद्दीन शेख एनकाउंटर केस क्‍या है, विस्‍तार से समझिए

मुंबई की विशेष सीबीआई अदालत ने शुक्रवार को सोहराबुद्दीन शेख एनकाउंटर केस में सभी 22 आरोपियों को बरी कर दिया. सीबीआई ने इस एनकाउंटर को राजनीतिक और पैसों के लिए की गई साजिश करार दिया था. इस मामले में कुल 38 आरोपी थे, जिनमें बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और पुलिस अधिकारी रहे डीजी बंजारा समेत 16 आरोपियों को पहले ही बरी कर दिया गया था.

विशेष सीबीआई अदालत ने कहा कि वो मजबूरी में ये फैसला कर रहे हैं, क्योंकि सभी गवाह और सबूत हत्या और साजिश को साबित नहीं कर पाए. इसके अलावा फैसले में कहा गया है कि तुलसीराम प्रजापति की साजिश के तहत हत्या का आरोप सही नहीं पाया गया. आइए जानते हैं, क्या था यह पूरा मामला...

  • 1. कैसे हुआ एनकाउंटर

    सोहराबुद्दीन शेख और कौसर बी को पुलिस मुठभेड़ में मार गिराया गया था
    (फोटो: ट्विटर)

    23 नवंबर 2005 को सोहराबुद्दीन शेख अपनी पत्नी कौसर बी के साथ एक बस में हैदराबाद से अहमदाबाद जा रहा था. रात के 1:30 बजे, गुजरात पुलिस के एंटी-टेरर स्क्वॉड (ATS) ने महाराष्ट्र के सांगली में बस रुकवाई. इसके बाद ATS ने सोहराबुद्दीन और उसकी पत्नी को बस से उतारा.  3 दिन बाद यानी 26 नवंबर 2005 की सोहराबुद्दीन की गोली लगने से मौत हो गई, जिसे पुलिस के डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल डीजी वंजारा ने एनकाउंटर करार दिया.

    पुलिस ने अपने बयान में कहा, ''शेख अहमदाबाद के नरोल इलाके से ऑपरेट कर रहा था. जब पुलिस ने उसे विशाला सर्कल के पास मोटरसाइकल पर देखा, तो उसे रोकने की कोशिश की. मगर जब वो नहीं रुका, तो पुलिस वालों पर उसने फायरिंग की. पुलिस वालों ने अपनी रक्षा के लिए जो कार्रवाई की, उसमें वो मारा गया.''

पीछे/पिछलाआगे/अगला

Follow our कुंजी section for more stories.

वीडियो