ADVERTISEMENT

देवघर की सब्जी मंडी में गंदगी से परेशान लोग, सुन नहीं रहा प्रशासन

लोगों का सवाल है कि देवघर नगर निगम किस बात की टैक्स ले रहा है

Published

देवघर की सब्जी मंडी 'मीना बाजार' के सब्जी विक्रेता लंबे समय से नगर निगम की अनदेखी से परेशान हैं. उन्हें लगता है कि अथॉरिटी उनसे टैक्स वसूल रही है लेकिन सफाई और इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं दे पा रही है.

मंडी की सफाई और सीवर सिस्टम की मरम्मत के लिए विभाग ने सफाईकर्मियों को लगाया है. ये बाजार यहां का सबसे व्यस्त इलाका है लेकिन गंदगी बहुत ज्यादा है.

ADVERTISEMENT

सब्जी मंडी सालाना रेवेन्यू का एक बड़ा हिस्सा देती है लेकिन विक्रेताओं का कहना है कि उन्हें इसके बदले में कुछ हासिल नहीं होता. मंडी में आने वाले लोग और मीना बाजार में दुकान लगाने वाले लोग दोनों ही समस्याओं का सामना कर रहे हैं. मैं जब वहां पहुंचा तो देखा कि रास्तों में कचरा पड़ा है, पूरी सड़क मिट्टी से भरी हुई है.

कभी निगम के अध्यक्ष मीना बाजार आकर देखें तो उन्हें पता चलेगा कि लोगों को कितनी समस्या है और कितनी मुश्किल से सब्जी खरीदते हैं.
मोहम्मद महफूज, सब्जी विक्रेता

प्रशासन ने यहां कूड़ेदान की व्यवस्था की भी बात कही थी, लेकिन कई साल गुजर जाने के बाद भी व्यवस्था नहीं हुई है.

ADVERTISEMENT
आज तक सड़क नहीं बनी है. न ही नाली, न ही बिजली है और न ही पानी की सुविधा है.ब्लीचिंग पाउडर का भी छिड़काव नहीं होता है, शौचालय में ब्लीचिंग पाउडर से सफाई हो रही है लेकिन मीना बाजार में नहीं.
संतोष कुमार शाह, सब्जी विक्रेता

मीना बाजार बीमारियों का घर बना हुआ है. सब तरफ गंदगी ही गंदगी है.

पूरी सब्जी मंडी गंदगी से भरी हुई है. अगर अंदर आते ही आप नाक पर रुमाल नहीं रखते हैं तो आप 100% बीमार हो जाएंगे. इतनी गंदगी है कि पजामा ऊपर करके ही बाजार में आना पड़ता है.
जयतिला कुमार, ग्राहक
ADVERTISEMENT

प्रशासन कब लेगा सुध?

सब्जी विक्रेताओं ने कई बार नगर निगम को लिखित शिकायत भी दर्ज की है लेकिन अब तक कोई कदम नहीं उठाया गया.

लिखकर भी दिया गया है कि सफाई कर्मचारियों को बढ़ाया जाए, यहां एक ही लाइट है, उसी से मीना बाजार का काम चल रहा है.
अनिल रावत, सब्जी विक्रेता

सीवेज लाइन के बिना सफाई के लिए कोई नियम नहीं बनाया गया है, न ही पानी की कोई सुविधा दी गई है. मीना बाजार के लोगों का कहना है देवघर नगर निगम किस बात का टैक्स ले रहा है?

मैं यही कहना चाहूंगा कि एक बार वो (नगर निगम अध्यक्ष) अपने आप आएं, खुद पूरी व्यवस्था को देखें और उसके बाद जो विचार करेंगे, जो निर्णय लेंगे, वो हमें मंजूर होगा. नगर निगम कहता है कि हम जो सफाई करते हैं वो अव्वल नंबर पर आते हैं, अव्वल नंबर के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा देते हैं.
मोहम्मद महफूज, सब्जी विक्रेता

महफूज आगे कहते हैं कि सर्वे आता है लेकिन उसके अलावा उन्हें कुछ दिखाई नहीं देता, गंदगी क्या है ये उनको (नगर निगम) पता ही नहीं है.

ADVERTISEMENT

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT