ADVERTISEMENTREMOVE AD

Varanasi: दो बदमाशों ने बच्ची और मां को घर में बनाया बंधक, जानिए पुलिस ने कैसे बचाया?

Varanasi: बच्ची और मां को बंधक बनाकर बदमाशों ने 10 लाख रुपये, सेना-चांदी और भागने के लिए कार की मांग की थी

Published
छोटा
मध्यम
बड़ा

यूपी के वाराणसी (Varanasi) में दिन दहाड़े छोटी बच्ची को बरामदे से दो लोगों ने अगवा करने की कोशिश की. लेकिन जब आसपास लोगों ने अपराधियों को देख लिया तो दोनों ने घर के अंदर घुस कर बच्ची और उसकी मां को बंधक बना लिया और लाखों रुपये समेत सोना-चांदी की मांग की.

लेकिन पुलिस ने 1 घंटा ऑपरेशन चलाने के बाद बच्ची और उसकी मां को सुरक्षित बचा लिया.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

क्या है मामला?

मामला वाराणसी के शिवपुर थाना क्षेत्र स्थित वीडीए कालोनी का है. यहां एक इंजीनियर भैया लाल की ढाई साल की बेटी बरामदे में खेल रही थी. तभी अचानक चेहरे पर गमछा लपेटे दो बदमाशों ने उसे जबरन उठाया और उन्होंने बच्ची को लेकर भागने की कोशिश की.

लेकिन इस दौरान आसपास के लोगों ने उन्हें देख लिया. लोगों को देख बदमाश घबरा गए और वे बच्ची को लेकर उसके घर के अंदर जा घुसे और मुख्य दरवाजे को अंदर से बंद कर लिया. घर में घुस कर बदमाश ने बच्ची और उसकी मां दोनों को बंधक बना लिया.

बदमाशों ने बच्ची की मां से 10 लाख रुपये, सोना-चांदी और भागने के लिए एक कार का बंदोबस्त करने की मांग की. बदमाशों से इस दौरान बच्ची और मां को चाकू की नोक पर तान कर रखा था.
0

पुलिस ने कैसे बदमाशों को कैसे पकड़ा?

जब पड़ोसियों ने बदमाशों को घर में घुसते देखा तो उन्होंने तुरंत इसकी जानकारी बच्ची के पिता को दी. बच्ची के पिता ने शिवपुर थाना पुलिस को घटना की जानकारी दी. इसके बाद शिवपुर थाने की पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम ने आकर घर की घेराबंदी की.

पुलिस ने बच्ची के पिता को बदमाशों की मांग पूरी करने के लिए कहा, जब बच्ची के पिता ने बदमाशों से फोन पर बात की तो उन्होंने बदमाशों को उनकी मांग अनुसार सारी चीजें देने का आश्वासन दिया. बदमाश जैसे ही पैसे और बाकी चीजें लेने के लिए बाहर आए तभी बाहर खड़ी पुलिस ने दोनों बदमाशों को दबोच लिया.

एसीपी कैंट अतुल अंजान त्रिपाठी ने अपनी पुलिस की की टीम के साथ इस ऑपरेशन को अंजाम दिया जो एक घंटे से ज्यादा देर तक चला. वहीं बच्ची और उसकी मां को सुरक्षित बचा लिया गया.

वाराणसी के पुलिस कमिश्नर अशोक मुथा जैन ने बताया कि जब पुलिस अधिकारी बदमाशों से बात करने के लिए अंदर गए तो उन्होंने बच्ची के गले पर चाकू लगा कर रखा था. ऐसे में पुलिस के पास चुनौती थी कि बच्ची की जान भी बचानी है और बदमाशों को भी पकड़ना है. उन्होंने कहा कि पुलिस की सूझ बूझ से बच्ची बच पाई.

इनपुट: चंदन पांडेय

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×