बुलंदशहर : योगी अवैध बूचड़खानों पर खफा,इंस्पेक्टर का जिक्र भी नहीं
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(फोटोः PTI)

बुलंदशहर : योगी अवैध बूचड़खानों पर खफा,इंस्पेक्टर का जिक्र भी नहीं

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुलंदशहर हिंसा को लेकर मंगलवार शाम अफसरों की बैठक बुलाई. लेकिन बैठक का फोकस गोकशी रोकने पर था. योगी ने बुलंदशहर हिंसा को बड़ी साजिश का हिस्सा बताया. उन्होंने अफसरों को गोकशी में शामिल सभी लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई के निर्देश दिए. योगी ने कहा कि अगर किसी भी जिले में अवैध स्लॉटर हाउस संचालित होता है, तो उसकी सामूहिक जिम्मेदारी डीएम और एसपी की होगी.

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने प्रदेश के मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक, प्रमुख सचिव गृह, खुफिया विभाग के अपर पुलिस महानिदेशक के साथ बैठक की.

यूपी सरकार की प्रेस रिलीज 
यूपी सरकार की प्रेस रिलीज 
यूपी  सरकार की वेबसाइट 

सीएम को साजिश का शक

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुलंदशहर हिंसा की घटना की समीक्षा करने और इस घटना की गंभीरता से जांच कर गोकशी में शामिल सभी लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के आदेश दिए, कठोर कार्रवाई के निर्देश दिए. गोकशी से संबंध रखने वाले प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष सभी को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाए.

मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि एक अभियान चलाकर जो तत्व माहौल खराब कर रहे हैं उनको बेनकाब कर इस तरह की साजिश रचने वालों के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई की जाए.

अवैध बूचड़खानों को लेकर योगी के सख्त तेवर

यूपी में सत्ता संभालते ही योगी सरकार ने 19 मार्च 2017 से राज्य में अवैध बूचड़खानों को बंद करा दिया था. अब बुलंदशहर हिंसा के बाद योगी ने एक बार फिर अवैध बूचड़खानों को लेकर सख्त तेवर दिखाए हैं.

इस घटना के बाद योगी ने सभी जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों को यह निर्देश दिया है कि जिले स्तर पर अवैध बूचड़खाने संचालित ना हों. उन्होंने कहा अगर किसी जिले में अवैध बूचड़खाने संचालित होते हैं, तो यह जिले के डीएम और एसपी की सामूहिक जिम्मेदारी होगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक यह सुनिश्चित करें कि इस आदेश का जिले स्तर पर अनुपालन किया जाए.

ये भी पढ़ें : बुलंदशहर हिंसा: ‘गोमांस’ और बेकाबू भीड़ के पीछे छिपे हैं कई सवाल

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

Follow our भारत section for more stories.

    वीडियो