73 दिनों में कोरोना की भारतीय वैक्सीन आने की उम्मीद, बड़े अपडेट

देश के करीब 17 सेंटर पर 1600 वॉलन्टियर्स के बीच ऑक्सफॉर्ड-SII का ट्रायल 22 अगस्त को शुरू हुआ था.

Updated
भारत
2 min read
73 दिनों में कोरोना की भारतीय वैक्सीन आने की उम्मीद, बड़े अपडेट

भारत में कोरोना वायरस की तीन वैक्सीन के ट्रायल चल रही हैं. उम्मीद की जा रही है कि ऑक्सफॉर्ड-सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) की वैक्सीन 'Covishield' जल्द ही मार्केट में उपलब्ध होगी. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 73 दिनों में वैक्सीन के कॉमर्शियल होने की उम्मीद है.

बिजनेस टुडे ने SII के एक बड़े अधिकारी के हवाले से बताया कि सरकार से उन्हें स्पेशल मैन्युफैक्चरिंग प्रायॉरिटी लाइसेंस मिला है, जिसके बाद ट्रायल प्रोटोकॉल प्रोसेस को फास्ट-ट्रैक कर दिया गया है. अधिकारी ने बताया, “सरकार ने हमें स्पेशल मैन्युफैक्चरिंग प्रायॉरिटी लाइसेंस दिया है और ट्रायल को 58 दिनों में पूरा करने के लिए ट्रायल प्रोटोकॉल प्रोसेस को फास्ट-ट्रैक कर दिया गया है. इससे, फाइनल फेज (फेज 3) का पहला डोज आज होगा और अगल 29 दिनों बाद होगा. फाइनल ट्रायल डेटा दूसरे डोज के 15 दिनों बाद आएगा. तब तक हम इसे कॉमर्शियलाइज करना का प्लान कर रहे हैं.”

रिपोर्ट के मुताबिक, नेशनल इम्युनाइजेशन प्रोग्राम (NIP) के तहत सभी को वैक्सीन के फ्री शॉट्स दिए जाएंगे.

देश के करीब 17 सेंटर पर 1600 वॉलन्टियर्स के बीच ये ट्रायल 22 अगस्त को शुरू हुआ था.

वहीं, हैदराबाद की भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड और ICMR द्वारा डेवलप की जा रही वैक्सीन Covaxin को सेंट्रल ड्रग स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDSCO) से स्किन ट्रायल की मंजूरी मिल गई है.

साल के अंत तक आएगी वैक्सीन - स्वास्थ्य मंत्री

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने भी शनिवार को कहा कि देश में साल के अंत तक कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीन आ जाएगी. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अगले चार से पांच महीनों में कोविड-19 की वैक्सीन उपलब्ध होने की संभावना है. मंत्रालय ने कहा कि तीन कोविड-19 वैक्सीन उम्मीदवारों में से एक ने प्री क्लीनिकल ह्यूमन ट्रायल के तीसरे चरण में प्रवेश किया है.

भारत में भी कोरोना वैक्सीन के तीन ट्रायल चल रहे हैं, जिसमें से दो भारतीय हैं और एक ट्रायल ऑक्सफॉर्ड का है. पुणे का सीरम इंस्टीट्यूट, ऑक्सफॉर्ड यूनिवर्सिटी-AstraZeneca के वैक्सीन ट्रायल का मैन्युफैक्चरिंग पार्टनर है.

कोविड-19 पर राष्ट्रीय टास्क फोर्स के प्रमुख वी. के पॉल के मुताबिक, तीसरे चरण में प्रवेश करने वाले वैक्सीन कैंडिडेट ने अपने परीक्षण के प्रारंभिक चरणों में अच्छे परिणाम प्राप्त किए हैं. पॉल ने कहा कि अन्य दो वैक्सीन वर्तमान में अपने प्री क्लीनिकल ट्रायल के चरण एक या दो में हैं. अधिकारियों ने हालांकि अपने परीक्षण चरण के बारे में बोलते हुए वैक्सीन उम्मीदवारों के नामों का खुलासा नहीं किया.

चीन की वैक्सीन की टेस्टिंग शुरू

चीन ने इंसेक्ट सेल से बनी वैक्सीन का इंसानों में टेस्टिंग की इजाजत दे दी है. इस वैक्सीन को शियुान यूनिवर्सिटी के वेस्ट चीन अस्पताल ने डेवलप किया है. क्लीनिकल ट्रायल के लिए इसे नेशनल मेडिकल प्रोडक्ट्स एडमिनिस्ट्रेशन से मंजूरी मिल गई है.

सरकारी नोटिस के मुताबिक, बंदरों पर जब परीक्षण किया गया, तो SARS-CoV-2 संक्रमण से बचा देखा गया, वहीं इसमें कोई साइड-इफेक्ट भी नहीं सामने आया है.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!