ADVERTISEMENT

पहले दिन 1.33 करोड़ रजिस्ट्रेशन, सिस्टम की फूली सांसें...

रजिस्ट्रेशन में समस्या, पंजाब, राजस्थान, ओडिशा, झारखंड, महाराष्ट्र समेत कई राज्यों ने कहा वैक्सीन की है कमी

Updated
भारत
2 min read
Co-WIN एप
i

28 अप्रैल को शाम 4 बजे से 18 साल से ऊपर के मरीजों के लिए वैक्सीनेशन का रजिस्ट्रेशन शुरू हुआ. इसके कुछ देर बाद ही सोशल मीडिया में लोगों ने अपनी समस्याएं शेयर करनी शुरू कर दी. कुछ यूजर्स ने आरोप लगाते हुए लिखा कि ओटीपी के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है. तो वहीं कुछ यूजर्स ने लिखा कि उनको ये मैसेज मिल रहा है कि अभी सिर्फ 45+ लोगों का ही रजिस्ट्रेशन हो रहा है. इन तमाम समस्याओं को लेकर सोशल मीडिया पर कई हैशटैग ट्रेंड होते रहे. जिसमें यूजर्स ने स्क्रीनशॉट भी शेयर किए हैं.

केंद्र सरकार के Aarogya Setu एप की ओर से ट्वीट में कहा गया है, Co-win पोर्टल काम कर रहा है. शाम को थोड़ी खराबी आ गई थी, जिसे ठीक कर दिया गया है. 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोग इस पर रजिस्‍टर कर सकते हैं.

ADVERTISEMENT

रजिस्ट्रेशन जरूरी, पहले ही दिन आंकड़ा पहुंचा 1.33 करोड़ के पास

सरकार की ओर से कहा गया है कि 18 साल से 45 साल के उम्र के लोगों को बिना रजिस्ट्रेशन के वैक्सीन नहीं लगाई जाएगी. इस आयु वर्ग के लोगों को कोरोना वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन कराना होगा और अपाइंटमेंट बुक करना होगा. इसलिए जैसे ही रजिस्ट्रेशन पोर्टल शुरू हुआ वैसे ही लोग रजिस्ट्रेशन कराने में जुट गए. लोगों उत्साह ऐसा रहा कि पहले ही दिन लगभग 1.33 करोड़ रजिस्ट्रेशन देखने को मिले.

वैक्सीनेशन पर काम कर रही नेशनल हेल्थ अथॉरिटी के सीईओ आरएस शर्मा ने अपने ट्वीट में रजिस्ट्रेशन का आंकड़ा साझा किया.

ADVERTISEMENT

बंपर रजिस्ट्रेशन से आने वाले दिनों में सरकारों को हो सकती है समस्या

जिस तरह पहले ही दिन 1.33 करोड़ के आस-पास लोगों ने रजिस्ट्रेशन करवाया है. उसको देखते हुए आगे भी इसमें बड़ी आबादी जुड़ने की उम्मीद है. लेकिन वैक्सीन की कमी के कारण केंद्र और राज्य सरकारों को आने वाले दिनों में भारी समस्या हो सकती है. पंजाब, राजस्थान, महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, असम, ओडिशा, तमिलनाडु और झारखंड जैसे कुछ राज्यों ने तो अभी से ही हाथ खड़े कर दिए हैं.

ADVERTISEMENT

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट में एम्स के एक डॉक्टर ने कहा है कि समय से टीकाकरण करना भी एक बड़ी चुनौती होगा. लोगों को टीका लगवाने के बाद अपने काम पर भी लौटना होगा. ऐसे में इतना बड़ा अभियान आसान नहीं है. देश में लगभग 59 करोड़ की आबादी 18 से 44 साल के बीच की है. जब 60 साल से ऊपर वालों के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू हुआ था, तो एक दिन में 25 लाख के करीब रजिस्ट्रेशन होते थे. इसके बाद दूसरे चरण में लोग बिना रजिस्ट्रेशन के भी टीका लगवाने आते थे.

59.46 करोड़
भारत में 18 से 45 वर्ष के लोगों की आबादी की बात करें तो यह आंकड़ा है .
ADVERTISEMENT

स्टॉक का हाहाकार, बिना वैक्सीन लौट रहें हैं लोग

राज्य सरकारें पहले से ही कह रही हैं कि उनके पास वैक्सीन का पर्याप्त का स्टॉक नहीं है. स्थिति यह है कि टीके की कमी के चलते 45+ लोगों को ही बिना वैक्सीनेशन के टीकाकरण केंद्र से वापस भेजा जा रहा है.

  • इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक ओडिशा के हेल्थ डिपार्टमेंट की ओर से कहा गया है कि केंद्र सरकार वैक्सीन की सप्लाई करने में विफल रही है. इसलिए तीसरे चरण के वैक्सीनेशन में देरी होना संभव है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT