जानिए वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन का किराया कितना सस्ता,कितना महंगा?
वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन में यात्रा करना सस्ता नहीं होगा.
वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन में यात्रा करना सस्ता नहीं होगा.(फोटो:IANS) 

जानिए वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन का किराया कितना सस्ता,कितना महंगा?

भारत के पहले स्वदेश निर्मित इंजन-रहित रेल- ट्रेन 18 की शुरुआत 15 फरवरी से होने जा रही है. इसे वंदे भारत एक्सप्रेस के नाम से भी जाना जाता है. इस ट्रेन में यात्रा करने के लिए आपको अपनी जेब थोड़ी ज्यादा ढीली करनी पर सकती है. मेक इन इंडिया के तहत बने इस स्वदेशी ट्रेन में यात्रा करना सस्ता नहीं होगा.

रेल मंत्रालय ने पहले ही दे दिया था संकेत

रेल मंत्रालय ने पहले ही संकेत दे दिया था कि ट्रेन 18 का किराया शताब्दी एक्सप्रेस की तुलना में 40-50 फीसदी ज्यादा होगा. वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन से दिल्ली से वाराणसी के एसी चेयर कार कोच का किराया 1850 रुपये और एक्जीक्यूटिव क्लास का किराया 3520 रुपये होने की संभावना है.

वंदे भारत एक्सप्रेस में चेयर कार का किराया समान दूरी के लिए दौड़ रही शताब्दी के चेयर कार के मुकाबले 1.5 गुना ज्यादा है तो वहीं एग्जिक्युटिव क्लास का किराया एसी फर्स्ट क्लास सिटिंग से 1.4 गुना ज्यादा.

वापसी यात्रा के दौरान चेयर कार का किराया 1795 रुपये जबकि एक्जीक्यूटिव कार का टिकट 3470 रुपये का होगा.

ट्रेन अपनी 755 किलोमीटर की यात्रा में दो स्टेशनों कानपुर और प्रयागराज में रुकेगी. इस रूट पर यह सबसे ज्यादा तेज गति से चलने वाली ट्रेन होगी. यह यात्रा 8 घंटे में तय होगी.

खाने के लिए भी करनी होगी जेब ढीली

वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के किराये में कैटरिंग शुल्क भी शामिल है. एग्जीक्यूटिव क्लास में नई दिल्ली से वाराणसी जाने वाले यात्रियों से सुबह की चाय, नाश्ते और दोपहर के भोजन के लिए 399 रुपये लिए जाएंगे जबकि चेयर कार के यात्रियों को 344 रुपये देने होंगे. यात्रियों के लिए खाने-पीने का सामान उनके टिकट का हिस्सा होगा. यानी वह इसे विकल्प की तौर पर ‘चुन या हटा' नहीं सकते हैं, जैसा कि शताब्दी, राजधानी और दुरंतो एक्सप्रेस में होता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 फरवरी को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से सुबह 10 बजे इस ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने पहले कहा था कि स्वदेश निर्मित ट्रेन आठ घंटे में 755 किलोमीटर की दूरी पूरी कर लेगी, जो इस रूट की अन्य सबसे तेज ट्रेनों की तुलना में 35 फीसदी ज्यादा तेज है. ट्रायल रन के दौरान 180 किमी प्रति घंटे से ज्यादा की गति से चली ट्रेन 18, भारत की सबसे तेज गति से चलने वाली ट्रेन है.

(इनपुट: IANS)

ये भी पढ़ें : राफेल डील:‘द हिंदू’ का एक और खुलासा, हटा दिया था एंटी करप्शन क्लॉज

ये भी पढ़ें : ट्रेनों में सीनियर सिटिजन को IRCTC की छूटों के बारे में जान लीजिए

(My रिपोर्ट डिबेट में हिस्सा लिजिए और जीतिए 10,000 रुपये. इस बार का हमारा सवाल है -भारत और पाकिस्तान के रिश्ते कैसे सुधरेंगे: जादू की झप्पी या सर्जिकल स्ट्राइक? अपना लेख सबमिट करने के लिए यहां क्लिक करें)


Follow our भारत section for more stories.

    वीडियो