फारूक का आरोप- मुझे नजरबंद किया, शाह का जवाब- वो तो मौज में हैं

फारूक का आरोप- मुझे नजरबंद किया, शाह का जवाब- वो तो मौज में हैं

भारत

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारुक अब्दुल्ला ने आर्टिकल 370 हटाए जाने पर गहरी नाराजगी जताई है. श्रीनगर में अपने आवास पर मीडिया से बातचीत में अब्दुल्ला ने कहा कि वह सरकार के फैसले के खिलाफ कोर्ट जाएंगे.

अब्दुल्ला ने सरकार पर गंभीर आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि सरकार उनकी हत्या कराना चाहती है.

Loading...
ये फैसला पूरी तरह से अलोकतांत्रिक है. सरकार ने हमारी बात नहीं सुनी. हम लड़ेंगे. हम कोर्ट जाएंगे. हम पत्थरबाज नहीं हैं. हम हथगोले फेंकने वाले नहीं हैं. हम शांति पसंद लोग हैं. वे (सरकार) हमारी हत्या कराना चाहते हैं. हमारा सीना तैयार है, वे गोली मार दें. लेकिन हमारे पीठ पर वार ना करें. हम इस देश के साथ खड़े हुए थे. मेरा बेटा (उमर अब्दुल्ला) जेल में है. 
फारूक अब्दुल्ला, नेता, नेशनल कॉन्फ्रेंस

संसद में झूठ बोल रहे हैं गृह मंत्रीः फारूक अब्दुल्ला

संसद नहीं जाने के सवाल पर फारूक अब्दुल्ला ने कहा, ‘गृह मंत्री संसद में झूठ बोल रहे हैं कि मुझे नजरबंद नहीं रखा गया है. वह झूठ बोल रहे हैं कि मैं अपनी मर्जी से अपने घर पर हूं. जैसे ही गेट खुलेंगे. हमारे लोग बाहर आएंगे...हम लड़ेंगे.’

कनपटी पर बंदूक रखकर फारूक अब्दुल्ला को बाहर नहीं ला सकतेः गृह मंत्री

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने बिल पर चर्चा के दौरान कहा कि यह भारत के लोकतंत्र के लिए काला दिन है क्योंकि वहां 6 महीने से चुनाव नहीं हो पाए, पूर्व मुख्यमंत्री गिरफ्तार हो चुके हैं, हमारे सहयोगी फारूक अब्दुल्ला कहां हैं, इसका भी पता नहीं है.

इस पर अमित शाह ने कहा-

फारूक अब्दुल्ला जी अपने घर पर हैं. उन्हें नजरबंद नहीं रखा गया है. ना ही उन्हें किसी हिरासत में रखा गया है. वह स्वस्थ हैं, मौज-मस्ती में हैं...उनको नहीं आना है तो गन कनपटी पर रखकर बाहर नहीं ला सकते हम.

ये भी पढ़ें : पीओके, अक्साई चीन सहित जम्मू एवं कश्मीर भारत का अभिन्न अंग : शाह

अपनी मर्जी से अपने घर पर हैं फारूक अब्दुल्लाः गृह मंत्री

गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को लोकसभा में कहा कि नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और सांसद फारूक अब्दुल्ला को न तो हिरासत में लिया गया है और न ही गिरफ्तार किया गया है, वह अपनी मर्जी से अपने घर पर हैं.

गृह मंत्री की यह टिप्पणी सदन में एनसीपी की सुप्रिया सुले द्वारा फारूक अब्दुल्ला के सदन में उपस्थित नहीं होने का जिक्र किये जाने पर आई.

सुप्रिया सुले ने सदन में अपनी सीट के पास वाली सीट की ओर इशारा करते हुए कहा कि आज वह (फारूख) सदन में नहीं हैं, उनकी आवाज नहीं सुनी जा सकी. इस पर गृह मंत्री अमित शाह ने कहा,

‘‘वह न तो हिरासत में हैं और न ही गिरफ्तार किया गया है, वह अपनी मर्जी से अपने घर पर हैं.’’

जब सुले ने कहा कि हो सकता है नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता अस्वस्थ हों. इस पर शाह ने कहा कि इसके बारे में डॉक्टर बता सकते हैं. शाह ने कहा-

‘‘मैं इलाज नहीं कर सकता, यह डॉक्टरों को करना है.’’

लोकसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक 2019 और जम्मू-कश्मीर संबंधी संकल्प पर चर्चा के दौरान सुप्रिया सुले के अलावा कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी और द्रमुक के टी आर बालू ने भी नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता के बारे में जानना चाहा.

ये भी पढ़ें : आर्टिकल 370 लागू होने से खत्म होने तक - कश्मीर की पूरी कहानी

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our भारत section for more stories.

भारत
    Loading...