ADVERTISEMENTREMOVE AD

Nikki Yadav Murder: झज्जर में अंतिम संस्कार,पड़ोसी बोले-मीडिया झूठ फैलाना बंद करे

निक्की यादव हत्याकांड: FIR के अनुसार मृतिका के गर्दन पर गला घोंटने के निशान मिले, कमर और पैरों पर भी चोट के निशान

Published
भारत
3 min read
छोटा
मध्यम
बड़ा
ADVERTISEMENTREMOVE AD

दिल्ली मर्डर केस मामले (Delhi Nikki Yadav Murder case) के आरोपी साहिल गहलोत (Sahil Gehlot) को पांच दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. दूसरी तरफ बुधवार, 15 फरवरी निक्की यादव (Nikki Yadav) का अंतिम संस्कार उसके पैतृक गांव झज्जर में किया गया. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) द्वारा दर्ज किए गए एफआईआर के मुताबिक निक्की के गर्दन पर गला घोंटने के निशान थे, साथ ही उसकी कमर और पैरों पर चोट के निशान भी पाए गए.

शव तक पुलिस को खुद ले गया आरोपी- FIR

9 और 10 फरवरी की रात, निक्की की कथित तौर पर उसके लिव-इन पार्टनर 24 वर्षीय साहिल ने हत्या कर दी थी, जिसके बाद उसने दिल्ली के बाहरी इलाके मित्रांव गांव में एक ढाबे पर शव को फ्रिज में बंद कर दिया था. साहिल ने उसी दिन दूसरी महिला से शादी कर ली थी.

13 फरवरी को साहिल गहलोत को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया. स्पेशल सीपी (क्राइम) रवींद्र सिंह यादव ने दावा किया था कि आरोपी ने अपने मोबाइल फोन के डेटा केबल की मदद से पीड़िता का गला घोंटा था.

द्वारका जिले के बाबा हरिदास नगर पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 302 (हत्या) और 201 (अपराध के साक्ष्य को गायब करना) के तहत एफआईआर दर्ज की गई है.

0

एफआईआर के मुताबिक साहिल गहलोत पुलिस के साथ उस ढाबे पर गया, जहां निक्की के शव को फ्रिज के अंदर रखा गया था. एफआईआर में दावा किया गया है कि साहिल ने एक टिन के कमरे के अंदर रखे एक फ्रिज की ओर इशारा किया और कहा कि यहीं पर उसने निक्की यादव के शव को छिपाया है.

इसके बाद उप-निरीक्षक ने फ्रिज खोला और एक महिला की लाश मिली, जिसमें से बदबू आ रही थी.

एक सीनियर अधिकारी ने द क्विंट से बात करते हुए कहा कि अभी तक मामले में किसी अन्य व्यक्ति के शामिल होने की बात सामने नहीं आई है.

एफआईआर के मुताबिक क्राइम टीम और एफएसएल ने फ्रिज के दरवाजे से बालों के गुच्छे, फ्रिज के नीचे वाले हिस्से से स्वैब का सैंपल, एक सफेद बिजली का तार जिसे बांधने के लिए इस्तेमाल किया जाता है...जैसी चीजें पाई गई हैं.

एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक डीसीपी क्राइम ब्रांच सतीश कुमार ने बताया कि आरोपी पांच दिन की रिमांड पर है. जांच की जा रही हैं. हमारी कई टीमें उस रात के रास्ते की पहचान करने के लिए काम कर रही हैं. हम सीसीटीवी फुटेज भी खंगाल रहे हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

'हम न्याय चाहते हैं'

निक्की के पिता सुनील यादव ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमारी बेटी चली गई है, वह अब नहीं है. हम अब केवल न्याय चाहते हैं. अपराधी को सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए. उसको फांसी दी जानी चाहिए.

पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक निक्की की बहन निधि ने कहा कि मेरा दिमाग नहीं काम कर रहा है, मुझे नहीं पता कि क्या कहूं. मैं फिलहाल बोलने की स्थिति में नहीं हूं क्योंकि मैं अभी तक इस बात से सहमत नहीं हूं कि मेरी बहन के साथ क्या हुआ है.

निक्की के बड़े चचेरे भाई जगदीश यादव ने कहा कि उन्हें निक्की के साहिल के साथ संबंधों के बारे में पता नहीं था और न ही उसने कभी अपने परिवार के किसी सदस्य को उस व्यक्ति के बारे में बताया था.

उन्होंने कहा कि वह एमए की पढ़ाई कर रही थी और आगे पीएचडी करना चाहती थी, इसीलिए उत्तमनगर में किराए के फ्लैट में रहती थी.

उसके अपने माता-पिता और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ बहुत ही दोस्ताना संबंध थे. वह अपने माता-पिता से रोजाना फोन पर बात करती थी लेकिन उसने कभी इस लड़के (साहिल) का जिक्र नहीं किया. उसका फोन शुक्रवार को स्विच ऑफ था, जिसके बाद उसके पिता ने दिल्ली में उसके दोस्तों से संपर्क करने की कोशिश की, इसके बाद पता चला कि उसका फोन साहिल के पास है.
जगदीश यादव, निक्की का चचेरा भाई
ADVERTISEMENTREMOVE AD

निक्की के चाचा परवीन कुमार ने कहा कि परिवार ने अपनी बेटी को खो दिया है और अब इससे बुरा और क्या हो सकता है.

मृतका निक्की के गांव एक पड़ोसी ने मीडिया से बात करते हुए दावा किया कि निक्की साहिल के साथ लिव-इन में नहीं रह रही थी. यह बिल्कुल झूठ है, मीडिया द्वारा यह प्रचार बंद कर देना चाहिए, हम इसका बिल्कुल खंडन करते हैं और यह हमारे समाज का अपमान है.

"जब किसी लड़की के साथ इस तरह का अपराध होता है तो उसकी पहचान उजागर नहीं होती. अब तो गांव और परिवार की पहचान भी उजागर हो चुकी है... यह तो भगवान की खुशनसीबी है कि पुलिस ने डेड बॉडी को रिकवर कर लिया अन्यथा वह श्रद्धा की तरह हमारी बेटी के भी टुकड़े करता"

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×