हमसे जुड़ें
ADVERTISEMENTREMOVE AD

निर्भया के रिश्तेदार से CMO ने पूछा-निर्भया कौन,दिल्ली क्यों भेजा?

बलिया में डॉक्टरों की मांग को लेकर धरने पर बैठे ग्रामीणों और निर्भया के रिश्तेदार की CMO से बहस हो गई.

Published
भारत
2 min read
निर्भया के रिश्तेदार से CMO ने पूछा-निर्भया कौन,दिल्ली क्यों भेजा?
i
Hindi Female
listen

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

यूपी के बलिया में निर्भया के एक रिश्तेदार से बदसलूकी का मामला सामने आया है. बलिया में डॉक्टरों और बुनियादी सुविधाओं की मांग को लेकर धरने पर बैठे ग्रामीणों और निर्भया के रिश्तेदार की CMO से बहस हो गई. इसी दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी (CMO) ने निर्भया के रिश्तेदार से पूछा, "कौन निर्भया? अगर वह मेडिकल की पढ़ाई कर रही थी, तो दिल्ली क्यों गई?"

ADVERTISEMENTREMOVE AD

निर्भया के रिश्तेदार और CMO के बीच बहसबाजी का एक वीडियो सामने आया है. वीडियो में CMO निर्भया के रिश्तेदार से बहसबाजी करते नजर आ रहे हैं.

CMO ने निर्भया के रिश्तेदार से पूछा-

आज तक यहां गांव में किसी ने भी डॉक्टर की पढ़ाई नहीं की, तो डॉक्टर कैसे होगा? अस्पताल बनवाना हमारा काम नहीं है. गांव में डॉक्टर पैदा नहीं हुआ, तो डॉक्टर कहां से आएगा? यहां डॉक्टर है ही नहीं, तो आएंगे कहां से?

बलिया के CMO ने ये भी कहा कि पहले डॉक्टर बनाओ, फिर इसी अस्पताल में डॉक्टर बन जाओ. जब निर्भया के रिश्तेदार ने पूछा निर्भया को नहीं जानते क्या? इस पर CMO ने कहा, "कौन निर्भया? अगर वह मेडिकल की पढ़ाई कर रही थी, तो दिल्ली क्यों गई?"

ADVERTISEMENTREMOVE AD

निर्भया के दोषियों को अब तक नहीं हुई फांसी

निर्भया गैंगरेप मामले में दोषियों को अबतक फांसी की सजा नहीं हुई है. चारों दोषियों की फांसी की सजा पर रोक के खिलाफ केंद्र की याचिका को दिल्ली हाई कोर्ट ने खारिज कर दिया था, जिसके बाद केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी. दिल्ली हाई कोर्ट ने 5 फरवरी को कहा था कि चारों दोषियों को एक साथ फांसी दी जाएगी न कि अलग-अलग.

16 दिसंबर, 2012 की रात को दक्षिण दिल्ली में एक चलती बस में 23 साल की पैरामेडिकल छात्रा (निर्भया) के साथ गैंगरेप और बर्बरता की गई थी. सिंगापुर के एक अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
और खबरें
×
×