देश बांटने के लिए BJP लाई है ‘लव जिहाद’ जैसा शब्द,ये चाल है: गहलोत

बीजेपी शासित राज्य एक के बाद एक ‘लव जिहाद’ पर ‘नियंत्रण’ के लिए कानून लाए जाने का ऐलान कर रहे हैं.

Published
पॉलिटिक्स
3 min read
देश बांटने के लिए BJP लाई है ‘लव जिहाद’ जैसा शब्द,ये चाल है: गहलोत
i

बीजेपी शासित राज्य एक के बाद एक 'लव जिहाद' पर 'नियंत्रण' के लिए कानून लाए जाने का ऐलान कर रहे हैं. 20 नवंबर को न्यूज एजेंसी ANI ने यूपी के गृह विभाग के हवाले से यह जानकारी दी कि प्रदेश में जल्द ही 'लव जिहाद' के खिलाफ सख्त कानून लाया जाएगा. गृह विभाग ने ये भी बताया है कि कानून विभाग को इससे संबंधित एक प्रस्ताव भेजा गया है.

अब 'लव जिहाद' पर चल रही इन तैयारियों पर सवाल भी उठ रहे हैं. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का कहना है कि लव जिहाद जैसा शब्द बीजेपी देश को बांटने के लिए लेकर आई है, ये बीजेपी की चाल है जिससे समाज में संघर्ष बढ़े, भेदभाव बढ़े.

गहलोत ने एक के बाद एक किए गए तीन ट्वीट में लिखा है-

लव जिहाद शब्द बीजेपी ने बनाया है जिससे देश को बांटा जा सके और सांप्रदायिक सद्भाव बिगड़े. शादी एक व्यक्तिगत स्वतंत्रता का मामला है, एक कानून बनाकर इसपर अंकुश लगाना पूरी तरह से असंवैधानिक है और ये कोर्ट में भी जायज नहीं ठहराया जा सकेगा. प्यार में जिहाद की कोई जगह नहीं है.
अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री, राजस्थान
ये देश में एक ऐसा माहौल बना रहे हैं जिसमें वयस्कों को स्टेट पॉवर की दया पर रहना होगा. शादी निजी फैसला होता है और ये इसपर अंकुश लगा रहे हैं, ये व्यक्तिगत स्वतंत्रता को छीनने जैसा है.
अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री, राजस्थान
ये सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का की एक चाल है, सामाजिक संघर्ष को बढ़ावा देने जैसा है. एक स्टेट किसी भी आधार पर अपने नागरिकों के साथ भेदभाव नहीं करता, ऐसे संवैधानिक प्रावधानों की अवहेलना करने जैसा है.
अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री, राजस्थान

'लव जिहाद' पर यूपी के सीएम का बयान

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि वह ‘लव जिहाद’ को सख्ती से रोकने के लिए प्रभावी कानून बनाएंगे. उन्होंने चेतावनी दी थी कि जो लोग बहू-बेटियों की इज्जत से खिलवाड़ करते हैं, वे अगर सुधरे नहीं तो ‘राम नाम सत्य है’ की उनकी अंतिम यात्रा निकलने वाली है. देवरिया और जौनपुर में जनसभाओं को संबोधित करते हुए योगी ने कहा था कि ‘लव जिहाद’ में शामिल लोगों के पोस्टर चौराहों पर लगाए जाएंगे.

हरियाणा के मुख्यमंत्री का क्या था बयान?

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा था कि केंद्र और राज्य सरकार 'लव जिहाद' को लेकर कानूनी प्रावधानों पर विचार कर रही हैं. हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज भी कह चुके हैं, ‘‘हरियाणा में लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने पर विचार किया जा रहा है.’’

मध्य प्रदेश से क्या बयान आया है?

हाल ही में मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने हाल ही में ट्वीट कर कहा था, ''सरकार प्रदेश में धर्मांतरण के लिए विवाह पर रोक लगाने वाला विधेयक विधानसभा के अगले सत्र में लाने की तैयारी कर रही है. इसे गैर जमानती अपराध घोषित कर मुख्य आरोपी और इसमें सहभागियों को 5 साल की कठोर सजा का प्रावधान किया जा रहा है.''

आंकड़े कहां हैं?

बीजेपी शासित राज्य लव जिहाद पर माहौल तो बना रहे हैं लेकिन क्या लव जिहाद पर सरकार के पास कोई सबूत, कोई आंकड़े हैं? जवाब है नहीं. साल 2020 के फरवरी में संसद में एक सवाल पूछा गया लव जिहाद से जुड़ा. इसके जवाब में केन्द्रीय राज्य गृह मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा, “लव जिहाद नाम का टर्म कानून के तहत परिभाषित नहीं है. किसी भी केन्द्रीय एजेंसी द्वारा ऐसा कोई भी केस रिपोर्ट नहीं किया गया है.”

उन्होंने ये भी कहा कि संविधान का अनुच्छेद 25 नागरिकों को किसी भी धर्म को स्वीकार, प्रैक्टिस, और प्रचारित करने की स्वतंत्रता देता है. बशर्ते पब्लिक ऑर्डर, नैतिकता और स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए ये किया जाए.

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!