ADVERTISEMENTREMOVE AD

मेरठ: मेयर-पार्षद शपथ ग्रहण में वंदे मातरम पर बवाल, BJP-MIM पार्षदों में मारपीट

Meerut News: AIMIM के पार्षदों का कहना है कि वंदे मातरम गाना कोई जरूरी नहीं है यह किसी भी कानून में नहीं लिखा है.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

मेरठ नगर निगम महापौर (Meerut Municipal Corporation Mayor) और पार्षदों का 26 मई को शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया गया था. शपथ ग्रहण समारोह शुरू होने से ठीक पहले वंदे मातरम का आयोजन किया गया. वंदे मातरम के उद्घोष के साथ भारत माता की जयकारे भी लगे, लेकिन आरोप है कि वंदे मातरम पूरा होने के तुरंत बाद ही AIMIM के पार्षदों और कार्यकर्ताओं के साथ बीजेपी पार्षदों और कार्यकर्ताओं ने मारपीट कर दी. इस शपथ ग्रहण समारोह में मेरठ के महापौर और 90 वार्ड के नए पार्षद सहित अन्य कार्यकर्ता और नेता भी मौजूद रहे.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

AIMIM बनाम BJP 

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के सुभाष चंद्र प्रेक्षा गृह में शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया गया. पूरा ऑडिटोरियम खचाखच भरा हुआ था और इसी बीच AIMIM और मुस्लिम लीग के पार्षदों के साथ बीजेपी के पार्षदों की हाथापाई हो गई. मामला इतना तूल पकड़ चुका था कि सीओ अरविंद चौरसिया और एसपी ट्रैफिक जितेंद्र श्रीवास्तव दोनों पक्षों को अलग करवाते रहे लेकिन काफी देर तक भी हाथापाई रुकी नहीं.

जैसे तैसे पुलिसकर्मियों ने मामले को शांत कराया और एआईएमआईएम और मुस्लिम लीग के वहां मौजूद पार्षदों और अन्य कार्यकर्ताओं को ऑडिटोरियम से बाहर लेकर गए. जहां डीएम दीपक मीणा ने समझा बुझाकर मामला शांत कराया.

"वंदे मातरम गाना कोई जरूरी नहीं है. यह किसी भी कानून में नहीं लिखा है. राष्ट्रीय गान का पूरा सम्मान किया जाएगा, लेकिन वंदे मातरम को जबरदस्ती गाने के लिए नहीं कहा जा सकता."
AIMIM पार्षद

हरिकांत अहलूवालिया के पहले कार्यकाल 2012 से 2017 के बीच भी वंदे मातरम को लेकर विपक्षी दल के कुछ पार्षदों ने विरोध जताया था. हरिकांत अहलूवालिया ने नामांकन भरते हुए यह घोषणा की थी कि अगर वह मेयर बनते हैं तो सबसे पहले वंदे मातरम से शुरुआत करेंगे. हरिकांत अहलूवालिया एक बार फिर से मेयर बने और आज शपथ ग्रहण समारोह के दौरान वंदे मातरम गाया गया. और इस बार भी वंदे मातरम गाने को लेकर विवाद हुआ.

महापौर पद के लिए बीजेपी ने हरिकांत अहलूवालिया को प्रत्याशी घोषित किया था हरिकांत अहलूवालिया पूर्व में भी बीजेपी से महापौर रह चुके हैं.
0

'जिसे वंदे मातरम नहीं गाना, पाकिस्तान चले जाएं' - बीजेपी नेता 

वहीं, बीजेपी के व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष विनीत शारदा हमेशा अपने विवादित बयान को लेकर चर्चाओं में रहते हैं. इस मामले को लेकर भी विनीत शारदा का विवादित बयान सामने आया है. विनीत शारदा का कहना है कि...

"भारत देश में रहना होगा तो वंदे मातरम् कहना होगा और अगर किसी को दिक्कत है तो पाकिस्तान चला जाए."
विनीत शारदा, BJP

मेरठ से सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने कहा कि AIMIM के पार्षदों और बाकी सभी पार्षदों से अपील है कि सभी पार्षद मिलकर रहे हैं और सबको जनता के विकास के लिए सोचना चाहिए. सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने ये भी कहा कि वंदे मातरम् कोई धार्मिक गीत नहीं है ये शहीदों के सम्मान का गीत है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×