ADVERTISEMENTREMOVE AD

राजस्थान: टोंक में दो समुदाय के बीच जमकर पत्थरबाजी, 6 लोग घायल-12 गिरफ्तार

Tonk Violence: मामले में पुलिस की लापरवाही की बात भी सामने आ रही है. बताया जा रहा है कि पुलिस देरी से पहुंची थी.

Updated
राज्य
2 min read
छोटा
मध्यम
बड़ा

राजस्थान (Rajasthan) के टोंक जिले (Tonk Violence) में रविवार, 23 अप्रैल को दो पक्ष में विवाद हो गया. मामला मालपुरा कस्बे का है, जहां पुरानी तहसील के पास दो समुदायों के बीच किसी बात को लेकर पहले कहासुनी हुई. फिर बात इतनी बढ़ गई कि दोनों पक्षों के बीच पथराव शुरू हो गया. इस दौरान पत्थरबाजों ने कई वाहनों में भी तोड़फोड़ की और आग लगाने की कोशिश की, लेकिन कामयाब नहीं हुए. बदमाशों ने लाठियां और तलवारें भी लहराईं. जिसके बाद इलाके में तनाव फैल गया. पुलिस ने इस मामले में 12 लोगों को गिरफ्तार किया है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

पत्थरबाजी में 6 लोग घायल

पत्थरबाजी में दो पुलिसकर्मी सहित 6 लोग घायल हुए हैं. सभी को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. इनमें से एक व्यक्ति को गंभीर हालत में जयपुर रेफर किया गया है. गंभीर रूप से घायल शख्स की पहचान नाथुलाल गुर्जर के रूप में हुई है.

Tonk Violence: मामले में पुलिस की लापरवाही की बात भी सामने आ रही है. बताया जा रहा है कि पुलिस देरी से पहुंची थी.

बदमाशों ने लाठियां और तलवारें भी लहराई

(फोटो: क्विंट)

मामले में पुलिस की लापरवाही की बात भी सामने आ रही है. बताया जा रहा है कि दो से तीन घंटे तक पत्थरबाजी और तनाव के बाद पुलिस मौके पर पहुंची. हालात को काबू में करने के लिए इलाके में अतिरिक्त पुलिसबल तैनात किया गया है. इसके साथ ही पुलिस की टीमें इलाके में गश्त भी कर रही है.

क्यों दो पक्षों में हुआ विवाद?

एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि सुबह 11 बजे दूसरे पक्ष के 3-4 लोग तेज रफ्तार में बाइक दौड़ा रहे थे. बाइक सवार हॉर्न बजाते हुए गलियों से निकल रहे थे. हमने उनसे कहा कि गाड़ी धीरे चलाओ, जिसके बाद वो चले गए. दो घंटे बाद सभी लोग फिर लौटकर आए. उनके पास 8-10 बाइक थी, जो तेज रफ्तार में चला रहे थे. इसी बात को लेकर टोकने पर विवाद खड़ा हो गया.

एसडीएम महिपाल सिंह ने बताया कि नागौरी मोहल्ला और गुर्जरों के मोहल्ले के बीच विवाद हुआ था. दोनों गुटों में पथराव की घटना भी हुई है. पुलिस की देरी से आने के सवाल पर उन्होंने कहा कि एसएचओ के छुट्टी पर होने के चलते पुलिस जाब्ता को आने में थोड़ा समय लगा.

वहीं कलेक्टर चिन्मयी गोपाल ने कहा कि घबराने की जरूरत नहीं है, स्थिति नियंत्रण में है. दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. इसके साथ ही उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने और घरों में रहने की अपील की है.

(इनपुट-पंकज सोनी)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×