ADVERTISEMENTREMOVE AD

यूरोप के खाली चर्च में हिंदू मंदिर की स्थापना का नहीं वीडियो, ये रहा पूरा सच

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

मंदिर के उद्घाटन का एक वीडियो सोशल मीडिया पर यूरोप (Europe) का बताकर शेयर किया जा रहा है. दावा है कि वहां के एक खाली चर्च में मंदिर की स्थापना कर दी गई.

(दावे दखने के लिए दाईं तरफ क्लिक करें)

  • पोस्ट का अर्काइव यहां देखें

    सोर्स : स्क्रीनशॉट/ट्विटर

हमारी वॉट्सऐप टिपलाइन पर भी हमें ये वीडियो पड़ताल के लिए प्राप्त हुआ. यही दावा करते अन्य पोस्ट्स के अर्काइव यहां, यहां और यहां देखें.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

क्या ये दावे सच हैं ? : ये वीडियो अमेरिका के एलमिरा राज्य का है और इसमें परानित्या नरसिम्हा मंदिर का उद्घाटन होता दिख रहा है.

  • रिपोर्ट्स के मुताबिक नवंबर 2021 में अमेरिका के इस शहर में चर्च Our Lady of Lourdes और एक अन्य चर्च को बंद कर दिया गया था.

  • दोनों चर्चों में बहुत ज्यादा मरम्मत की जरूरत थी, जो बजट से बाहर जा रहा था.

  • Our Lady of Lourdes चर्च को बाद में भक्ति मार्ग संगठन को बेच दिया गया.

हमने ये सच कैसे पता लगाया ? वीडियो के की-फ्रेम को गूगल लैंस की मदद से सर्च करने पर हमें 'परमहंस श्री स्वामी विवेकानंद' नाम के इंस्टाग्राम पेज पर यही वीडियो मिला.

  • वीडियो 1 सितंबर को अपलोड किया गया था

  • डिस्क्रिप्शन में बताया गया है कि ये वीडियो एलमिरा में परानित्य नरसिम्हा मंदिर के उद्घाटन के पहले दिन का है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
  • हमने Bhakti Marga संस्था की वेबसाइट भी देखी, जिसमें बताया गया था कि मंदिर का उद्घाटन होगा. यहां ये भी जानकारी दी गई है कि उद्घाटन से जुड़े सभी कार्यक्रम 31 अगस्त से 3 सितंबर के बीच किए जाएंगे.

इसमें लिखा है कि मंदिर का उद्घाटन जल्द ही होने जा रहा है

फोटो : स्क्रीनशॉट/Bhakri Marga

हमें 'Bhakti Marga America' के जनवरी 2022 के यूट्यूब चैनल पर भी एक वीडियो मिला, जिसमें एक शख्स मंदिर के बारे में बोलता दिख रहा है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
  • वीडियो में ये शख्स खुद को स्वामी तुलसीदास बता रहे हैं और कह रहे हैं कि आश्रम और मंदिर न्यूयॉर्क के एलमिरा में होंगे.

  • वो आगे कहते हैं कि "यह आश्रम Lady of Lourdes को समर्पित एक चर्च है या था. कुछ दिन यह ननों के रहने की जगह थी. इसलिए बेहतर होगा कि हम उस आध्यात्मिकता, प्रेम और अनुग्रह का निर्माण करने में सक्षम होंगे जो वहां पहले से ही मौजूद है."

  • वो कहते हैं कि संस्थान इस जगह के अतीत का सम्मान करेगी और रंगीन कांच की खिड़की को पहले जैसा ही छोड़ा जाएगा. कैथोलिक चर्च ने भी भक्ति मार्ग को ये अनुमति दे दी कि वे मुख्य मदर मैरी को देवी काली के साथ स्थापित कर सकते हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD
  • वीडियो के डिस्क्रिप्शन में बताया गया है कि ये आश्रम परनित्य नरसिम्हा का घर होगा.

चर्च का क्या हुआ ? : Catholic Courier की रिपोर्ट के मुताबिक Our Lady of Lourdes और अन्य चर्च नवंबर निर्वासन के आदेश के बाद नवंबर 2021 में बंद कर दिए गए थे. यह आदेश संस्थान की प्रेस्बिटरल काउंसिल के परामर्श के बाद जारी किया गया था. वित्त की कमी और कुछ अन्य वजहों से ये आदेश जारी हुआ.

  • फिर चर्च और कॉन्वेंट को बेच दिया गया.

  • इसमें आगे कहा गया कि चर्चों को बंद कर दिया गया है क्योंकि उन्हें "पैरिश की वर्तमान क्षमता से ज्यादा और बड़े पैमाने पर मरम्मत की जरूरत थी.

  • एक अन्य रिपोर्ट में कहा गया कि राजस्व और यहां आने वाले लोगों की गिरती संख्या के चलते ये चर्च बंद कर दिए गए.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

चर्च भक्ति मार्ग को बेच दिए गए: हमें The Pillar में छपी एक रिपोर्ट मिली, जिसमें कहा गया था कि बंद चर्च को जनवरी 2022 में भक्ति मार्ग को बेंच दिया गया था.

  • यह अमेरिका का पहला मंदिर संगठन है. रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि नवीकरण के बाद चर्च का उपयोग हिंदू पूजा के लिए किया जाएगा.

  • हमने भक्ति मार्ग संगठन से भी संपर्क किया है, उनका जवाब आने पर स्टोरी को अपडेट किया जाएगा.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

गूगल मैप से मंदिर को ढूंढा : हमने ''भक्ति मार्ग परानित्य नरसिम्हा मंदिर'' को गूगल मैप पर ढूंढा और स्ट्रीट व्यू ऑप्शन के जरिए इस तक पहुंचे.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

निष्कर्ष : मतलब साफ है कि सोशल मीडिया पर किया जा रहा दावा गलत है. मंदिर का उद्घाटन न्यूयॉर्क के एलमिरा में एक चर्च के बिकने के बाद हुआ. ये वीडियो यूरोप का नहीं है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9643651818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×