ADVERTISEMENTREMOVE AD

क्या मोदी सरकार ने 2014 के बाद से कोई भी सरकारी कंपनी नहीं बनाई?

वायरल दावा झूठा है. 2014 और 2020 के बीच, सरकार ने 82 नए CPSE को शामिल किया है.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

सोशल मीडिया पर यह दावा बड़े स्तर पर शेयर किया जा रहा है कि भारत के इतिहास में नरेंद्र मोदी ही एकमात्र ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने एक भी सरकारी कंपनी नहीं बनाई या सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम (PSE) को शामिल नहीं किया है.

वायरल दावे में यह भी कहा गया है कि 2014 के बाद से, केंद्र में मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने पिछले दस वर्षों में 23 सार्वजनिक उपक्रमों का निजीकरण (या विनिवेश) किया है.

वायरल दावा झूठा है. 2014 और 2020 के बीच, सरकार ने 82 नए CPSE को शामिल किया है.

इस पोस्ट का आर्काइव यहां देखा जा सकता है.

(सोर्स: इंस्टाग्राम/Altered by The Quint)

एक इंस्टाग्राम यूजर की इस रील को यह रिपोर्ट लिखे जाने तक 9.4 लाख से ज्यादा बार देखा जा चुका था.

(सोशल मीडिया पर अन्य दावों के अर्काइव आप यहां, यहां और यहां देख सकते हैं.)

ADVERTISEMENTREMOVE AD

क्या यह सही है?: नहीं, वायरल दावा गलत है.

2014 के बाद से भारत सरकार ने 179 केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उद्यमों (CPSE) से विनिवेश किया है.

2014 और 2020 के बीच, सरकार ने 82 सीपीएसई को शामिल भी किया है.

हमनें सच का पता कैसे लगाया ?: 'CPSE list India' सर्च करने पर हम बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों (PSU) की वेबसाइट पर पहुंचे.

  • इसमें 23 मई 2024 तक उन एंटरप्राइज का ऐतिहासिक डेटाबेस शामिल है, जिनसे भारत सरकार ने विनिवेश किया है.

  • इस डेटा को क्रोनोलॉजी के मुताबिक देखते हुए हमने वित्त वर्ष 2014-15 से सूचीबद्ध हुई एंटरप्राइज की संख्या देखी.

  • क्रम संख्या 171 से शुरू करते हुए, हमने देखा कि 2014 के बाद से सरकार ने जिन सार्वजनिक उपक्रमों से विनिवेश किया है, उनकी सूची क्रम संख्या 350 पर समाप्त होती है.

इससे पता चलता है कि 2014 और 2024 के बीच, नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने 179 सीपीएसई से विनिवेश किया है, न कि 23 से, जैसा कि दावा किया गया है.

(लिस्ट के दो स्क्रीनशॉट देखने के लिए दाएं स्वाइप करें.)

CPSE को शामिल करना: हमने वायरल दावे के दूसरे हिस्से को लेकर इस आधिकारिक डेटा की तलाश की कि क्या पीएम मोदी के शासन के तहत कोई नया सीपीएसई शामिल नहीं किया गया था ?

  • हमारी सर्च हमें सार्वजनिक उद्यम विभाग की वेबसाइट तक ले गई, जहां एक दस्तावेज में बताया गया था कि 26 जून, 2023 तक 182 सक्रिय CPSE थे.

  • 'CPSEs incorporation data' के लिए एक कीवर्ड सर्च करने पर हमें data.gov.in लिंक पर सरकारी डेटा प्लेटफ़ॉर्म पर लौटे.

  • यहां, हमें '31.3.2020 तक विभिन्न मंत्रालयों/विभागों के तहत केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम' टाइटल वाले पेज पर 2014 से 2020 तक का प्रासंगिक डेटा मिला.

  • इस डेटा को हालिया डेटा से सबसे पुराने तक मिलाने पर, हमने देखा कि 2014 और 2020 के बीच, सरकार ने 82 नए CPSE को शामिल किया था.

वायरल दावा झूठा है. 2014 और 2020 के बीच, सरकार ने 82 नए CPSE को शामिल किया है.

82 सूचीबद्ध PSE हैं जिन्हें 2014 और 2020 के बीच शामिल किया गया था.

(सोर्स: Data.gov.in/Screenshot)

वायरल दावा झूठा है. 2014 और 2020 के बीच, सरकार ने 82 नए CPSE को शामिल किया है.

यह सबसे ताजा आधिकारिक डेटा है.

(सोर्स: Data.gov.in/Screenshot)

निष्कर्ष: वायरल दावा गलत है, पीएम मोदी के शासन के तहत, सरकार ने 82 नए सीपीएसई (CPSE) को शामिल किया है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

(अगर आपक पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर  9540511818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×