ADVERTISEMENT

'Go Back Modi' लिखा पोस्टर पकड़े महिला की ये फोटो एडिटेड है

ये तस्वीर हाल में बाली में आयोजित हुए G20 शिखर सम्मेलन से जोड़कर शेयर की जा रही है.

Published

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

सोशल मीडिया पर एक महिला की एडिटेड फोटो वायरल हो रही है. फोटो में महिला ने एक पोस्टर पकड़ रखा है, जिस पर "Go back Modi... again Go back Modi" लिखा हुआ है.

क्या है दावा?: फोटो शेयर कर दावा किया जा रहा है कि ये इंडोनेशिया के बाली की है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सहित G20 देशों के नेता हाल ही में 17वें G20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए बाली में इकट्ठा हुए थे.

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

स्टोरी लिखते समय तक इस फोटो को 2000 से ज्यादा रिट्वीट और 13000 से ज्यादा लाइक्स मिल चुके हैं. इसी तरह के दूसरे पोस्ट का आर्काइव आप यहां देख सकते हैं.

ADVERTISEMENT

सच क्या है? : हमने पाया कि वायरल फोटो एडिटेड है. ओरिजिनल फोटो में दिख रहे पोस्टर में अमेरिकी राजनीति के बारे में लिखा हुआ है, न कि पीएम मोदी के बारे में. इसके अलावा, ये तस्वीर जुलाई से इंटरनेट पर मौजूद है जबकि G20 शिखर सम्मेलन हाल में ही नवंबर महीने में आयोजित किया गया था.

हमने सच का पता कैसे लगाया? : फोटो को रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें एक ऑथर का ट्वीट मिला जिसमें ओरिजिनल तस्वीर का इस्तेमाल किया गया था. हालांकि, इसमें पीएम मोदी के बारे में कुछ भी नहीं लिखा था.

  • ऑथर वजाहत अली के 1 जुलाई के ट्वीट में हाथ में पोस्टर पकड़े उसी महिला की फोटो का इस्तेमाल किया गया है, जो वायरल फोटो में दिख रही है.

  • ट्वीट में उन्होंने लिखा, ''ये महिला बीच चौराहे में इस चिह्न को पकड़े हुए खड़ी है, एकदम शांत एक भी शब्द नहीं. मुझे अभी भी लगता है कि ये देश महिलाओं और जेन जी (Gen Z) के गुस्से को कम समझ रहा है. वो बैठेंगी नहीं. वो वापस नहीं जाएंगी.''

ADVERTISEMENT
  • इस तस्वीर में हाथ में जो पोस्टर दिख रहा है उसमें लिखा हुआ है, "Democrats and independents must unite to vote out Republicans. Vote blue this November. Paid for by concerned citizen."

  • हाल में ही 8 नवंबर को अमेरिका में मध्यावधि चुनाव हुए हैं. इस पोस्टर में 'नवंबर में हुए चुनावों' के बारे में बताया गया है.

  • इसमें अमेरिका के राजनीतिक दलों का जिक्र है.

  • हम स्वतंत्र रूप से ये नहीं पता कर पाए कि ओरिजिनल तस्वीर की लोकेशन और तारीख क्या है. ये जानने के लिए हमने वजाहत अली से संपर्क किया है. जवाब आते ही स्टोरी अपडेट की जाएगी.

निष्कर्ष: मतलब साफ है G20 शिखर सम्मेलन से पहले की तस्वीर को एडिट कर पीएम मोदी के खिलाफ लिखा गया है और उसे गलत दावे से शेयर किया जा रहा है.

ADVERTISEMENT

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9643651818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×