ट्रंप बोले- क्लाइमेट चेंज के बारे में नहीं जानती विज्ञान 

ट्रंप ने क्लाइमेट चेंज के बारे में वैज्ञानिकों की ऑब्जर्वेशन्स पर संदेह जताया है

Updated
दुनिया
2 min read
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप
i

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने क्लाइमेट चेंज के बारे में वैज्ञानिकों की ऑब्जर्वेशन्स पर संदेह जताया है और अनुमान लगाया है कि यह जल्द ही ''ठंडा पड़ जाएगा.'' इस बीच, ट्रंप ने कैलिफॉर्निया और ओरेगन में जंगल की आग के लिए 'वन कुप्रबंधन' को जिम्मेदार ठहराया है.

द हिल के मुताबिक, कैलिफॉर्निया सेक्रेटरी फॉर नेचुरल रिसोर्सेज वेड क्रोफुट ने क्लाइमेंट चेंज को लेकर कहा, "हम आपके साथ काम करना चाहते हैं ताकि वास्तव में जलवायु में बदलाव को पहचान सकें और ये कि हमारे जंगलों के लिए इसका क्या मतलब है, और वास्तव में उस विज्ञान के साथ मिलकर काम करना चाहिए. विज्ञान अहम होने जा रही है क्योंकि अगर हम उस विज्ञान को अनदेखा करते हैं और...सोचते हैं कि यह सब वनस्पति प्रबंधन के बारे में ही है, तो हम कैलिफॉर्निया वालों की रक्षा करने के लिए एक साथ सफल नहीं होने जा रहे हैं."

उनकी इस चिंता पर ट्रंप ने जवाब दिया, ‘’यह ठंडा पड़ने लगेगा, आप बस देखिए.’’ जब क्रोफुट ने कहा, ‘’मेरी कामना है कि विज्ञान आपसे सहमत हो.’’ इस पर अमेरिकी राष्ट्रपति ने जवाब दिया, “मुझे नहीं लगता कि विज्ञान असल में (इसे) जानता है.’’

ट्रंप ने जंगलों की आग को लेकर कहा, ''जब थोड़े समय बाद पेड़ गिरते हैं तो वे बहुत शुष्क हो जाते हैं - वास्तव में माचिस की तीली की तरह... और वे एक्सप्लोड हो सकते हैं, पत्ते भी. जब जमीन पर सूखे पत्ते होते हैं तो यह आग के लिए सिर्फ ईंधन होता है.''

कैलिफॉर्निया डिपार्टमेंट ऑफ फोरेस्ट्री एंड फायर प्रोटेक्शन ने पुष्टि की है कि जंगल में आग लगने से अब तक कुल 22 लोगों की मौत हो चुकी है. डिपार्टमेंट ने आगे बताया कि 4100 से ज्यादा संरचनाएं नष्ट हो गई हैं और 16,750 से ज्यादा फायरफाइटर्स पूरे कैलिफॉर्निया में 29 प्रमुख जंगल की आग को रोकने के लिए काम कर रहे हैं.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!