कोरोना, आइसोलेशन और अकेलापन, इन सबसे निपटने के लिए क्या करें?

आइसोलेशन में अकेले पड़े रहने से जो ‘मेन्टल इलनेस’ जैसे एंग्जायटी और डिप्रेशन हो रही है, उससे कैसे निपटना चाहिए?

Published27 Jul 2020, 05:16 PM IST
पॉडकास्ट
1 min read

कुछ हफ्ते पहले महानायक अमिताभ बच्चन के कोविड पॉजिटिव होने की खबरों ने सुर्ख़ियों का रूप ले लिया. अब जिस अस्पताल में उनका इलाज हो रहा है, वहां वो अकेलापन महसूस कर रहे हैं. सोशल मीडिया पर उन्होंने एक वीडियो शेयर किया है जिस में वो आइसोलेशन वार्ड में बैठ कर अपने पिता, कवि हरिवंश राय बच्चन को याद करते हुए उनकी एक कविता पढ़ रहे हैं.

अमिताभ बच्चन की इस ट्वीट से आइसोलेशन की वजह से होने वाले अकेलेपन की बात हर कोई कर रहा है. क्यूंकि ऐसे लाखों लोग इस वायरस के चलते खुद को अपनों से दूर पाने लगे हैं जो खुद कोविड पॉजिटिव हैं और आइसोलेटेड हैं. इससे बड़ा सवाल सामने ये आता है कि एक बीमारी से बचने के लिए दूसरी बीमारी को होने से कैसे रोका जाए? यानी आइसोलेशन या फिर कोविड हॉस्पिटल में अकेले पड़े रहने से जो 'मेन्टल इलनेस' जैसे एंग्जायटी और डिप्रेशन हो रही है, उससे कैसे निपटना चाहिए? इसी को लेकर आज इस पॉडकास्ट में बात करेंगे.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!