बिहार में फिर नतीश सरकार, लेकिन नतीजों ने बदल दिए समीकरण

बिहार चुनाव में कहीं कोई हार के भी जीत गया है, तो कोई जीत के भी हार चुका है.

Published
पॉडकास्ट
1 min read
बिहार चुनाव में कहीं कोई हार के भी जीत गया है, तो कोई जीत के भी हार चुका है.
i

रिपोर्ट: फबेहा सय्यद
असिस्टेंट एडिटर: मुकेश बौड़ाई
म्यूजिक: बिग बैंग फज

'बिहार में फिर एक बार नीतीश कुमार सरकार', नतीजों के बाद अब नीतीश समर्थकों की जुबान पर यही नारा है. लेकिन इस बार का बिहार विधानसभा चुनाव काफी दिलचस्प रहा. तमाम एग्जिट पोल गलत साबित हुए और नीतीश कुमार एंटी इनकंबेंसी फैक्टर के बावजूद कुर्सी बचाने में कामयाब रहे. वहीं तेजस्वी यादव का सीएम बनने का सपना भी फिलहाल अधूरा रह गया. वो सबसे बड़ी सिंगल पार्टी होने के बावजूद हार गए.

तो बिहार की मशहूर लाइन 'एक बिहारी सब पृर भारी' आखिर किस पर फिट बैठती है?

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!