तिरंगे में लिपटकर अपने घरों को लौटे लड़ते-लड़ते शहीद हुए जवान 

जानिए उन 20 बहादुर जवानों को जिन्होंने सीमा पर लड़ते-लड़ते अपने प्राणों को देश के लिए बलिदान कर दिया.

Published18 Jun 2020, 05:11 PM IST
पॉडकास्ट
1 min read

रिपोर्ट और साउंड डिज़ाइन: फबेहा सय्यद

एडिटर: मुकेश बौड़ाई

वॉइस ओवर: वैभव पलनीटकर, चमन शगुफ्ता, शमीम अख्तर, शोरबोरी पुरकायस्थ

भारत और चीन के जवानों के बीच हुए खूनी संघर्ष के बाद हमले के बाद प्रधान मंत्री ने भी बयान दिया और कहा कि भारत शांति ही चाहता है लेकिन उकसाने पर हमें जवाब देना आता है. वहीं विपक्ष भी लगातार सरकार से इस घटना को लेकर सवाल पूछ रहा है. एक ऐसे ही सवाल का जवाब गुरुवार को विदेश मंत्री एस जयशंकर ने दिया. जिसमें कहा जा रहा था कि हिंसक झड़प के दौरान भारतीय सैनिक निहत्थे थे. विदेश मंत्री ने कहा:

‘आइए फैक्ट्स को सीधा रखते हैं- सीमा पर तैनात सभी सैन्य दल हमेशा हथियार साथ रखते हैं, खासकर जब पोस्ट छोड़कर कहीं जाते हैं तो. 15 जून को गलावन में तैनात जवानों ने भी ऐसा ही किया. ये पुरानी प्रथा है (1996 और 2005 के समझौते के मुताबिक) कि फेस ऑफ के वक्त फायर आर्म्स का इस्तेमाल नहीं किया जाता.’ 
एस जयशंकर, विदेश मंत्री

यानी इस घटना को लेकर सरकार हो या विपक्ष हर तरफ से कुछ न कुछ बयान सामने आ रहे हैं. ऐसे ही और बयान और सवाल आगे भी सामने आते रहेंगे. लेकिन आज हम बात करेंगे उन 20 बहादुर जवानों की जिन्होंने सीमा पर लड़ते-लड़ते अपने प्राणों को देश के लिए बलिदान कर दिया.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!