ADVERTISEMENT

न्यूज चैनलों पर ‘जहरीली बहस’ पर फिर सोचने की जरूरत क्यों है?

क्या न्यूज चैनल के एंकरों और एडिटर्स तक को फिर से जर्नलिज्म की बुनियादी तालिम की जरूरत है?

Published
न्यूज चैनलों पर  ‘जहरीली बहस’ पर फिर सोचने की जरूरत क्यों है?
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

पिछले कुछ सालों से न्यूज चैनलों पर चल रही बहसों में जिस टॉक्सिसिटी जहरीलेपन की बात होती आई है. वो 12 अगस्त को सोशल मीडिया पर अपने चरम पर दिखी. ये जहरीलापन किस कदर नुकसान पहुंचाता है, दिमाग और सेहत पर इसका असर होता है इसकी भी खूब बात हुई. दरअसल, कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी का 12 अगस्त को निधन हो गया. निधन के कुछ मिनटों पहले वो एक नेशनल न्यूज चैनल पर चल रही डिबेट में अपनी पार्टी का पक्ष रख रहे थे. ज्यादातर डिबेट्स की तरह इस डिबेट में भी एक दूसरे पर आरोप लग रहे थे, गरमा-गरमी चल रही थी, पर्सनल अटैक तक हो रहे थे. बताया जा रहा है कि इस दौरान ही राजीव त्यागी को सीने में तकलीफ होनी शुरू हुई. कुछ देर बाद वो बेहोश हो गए गाजियाबाद के यशोदा हॉस्पिटल उन्हें ले जाया गया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया.

मैंने महज एक मिनट में ये सारी बात आपको बता दी लेकिन ये बात न्यूज चैनलों के लाखों घंटों की बहस को अपने अंदर समेटे हुए है. इस मौत पर सवाल उठ रहे हैं. ये भी पूछा जा रहा है क्या न्यूज चैनल के एंकरों और एडिटर्स तक को फिर से जर्नलिज्म की बुनियादी तालिम की जरूरत है? यही आज के के पॉडकास्ट का विषय भी है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×