‘हमें पहले सरकारी नौकरी का सोचना पड़ता था,फिर खेलने का’:अनूप कुमार

‘हमें पहले सरकारी नौकरी का सोचना पड़ता था,फिर खेलने का’:अनूप कुमार

अन्य खेल

प्रो कबड्डी लीग ने भारत में कबड्डी को अलग स्तर पर पहुंचाया है और कई कबड्डी खिलाड़ियों को शौहरत दिलाई है. जब तक प्रो कबड्डी लीग शुरू नहीं हुई थी तब तक खिलाड़ियों को पहले अपनी नौकरी की चिंता होती थी ताकि जीवन चल सके. लेकिन अब ऐसा नहीं हैं. भारत के पूर्व कबड्डी कप्तान अनूप कुमार का मानना है कि अब खिलाड़ियों के कबड्डी खेलने की वजह सिर्फ सरकारी नौकरी की ख्वाहिश नहीं है

Loading...

भारत को एशियन गेम्स और कबड्डी वर्ल्ड कप का चैंपियन बनाने वाले ‘कैप्टन कूल’ अनूप कुमार एक बार फिर लौट आए हैं कबड्डी की मैट पर. 2018 में करीब 14 साल के कबड्डी करियर के बाद संन्यास लेने वाले अनूप इस बार प्रो कबड्डी लीग की टीम पुणेरी पलटन के कोच बनकर लीग में लौटे हैं.

अनूप कहते हैं कि जब उन्हें लगा कि भारतीय कबड्डी की नई पीढ़ी अब तैयार है और युवा खिलाड़ियों को खेल की अच्छी समझ होने लगी है, तो उन्होंने संन्यास का फैसला किया.

“हर चीज का एक वक्त होता है. एक खिलाड़ी का भी होता. मेरा भी था. जब तक मेरा गेम अच्छा था, मैं परफॉर्म कर रहा था, तो मैं खेला. जब मुझे लगा कि युवा अच्छे और उनकी खेल पर पकड़ अच्छी होने लगी है. ऐसा होता भी. सीनियर खिलाड़ी धीरे धीरे रिटायर होते हैं.”
अनूप कुमार

प्रो कबड्डी लीग के पहले 6 सीजन में अनूप कुमार ने एक्टिव तौर पर हिस्सा लिया. यहां तक कि पहले ही सीजन में यू-मुंबा की ओर से खेलते हुए वो लीग के मोस्ट वैल्युएबल प्लेयर भी बने. 2018 में जयपुर पिंक पैथर्स की ओर से खेलने के बाद अनूप ने इस खेल से संन्यास ले लिया.

अनूप भारत के सबसे सफल कबड्डी खिलाड़ियों में से हैं. अनूप 2010 और 2014 के एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल जीतने वाली भारतीय कबड्डी टीम का बेहद अहम हिस्सा थे. जबकि 2016 में भारत ने अनूप की कप्तानी में कबड्डी का वर्ल्ड कप अपने नाम किया. वहीं 2012 में भारत सरकार ने अनूप को अर्जुन पुरस्कार से नवाजा.

अनूप का मानना है कि उनकी जिंदगी का सबसे खास मौका था जब उन्होंने देश के लिए मेडल जीते और दूसरा जब सरकार ने उन्हें अर्जुन पुरस्कार दिया.

“देश के लिए मेडल जीतना मेरे लिए गर्व की बात थी. हर खिलाड़ी का सपना होता है कि वो देश का प्रतिनिधित्व करे और मेडल जीते. दूसरा मेरे लिए था जब सरकार ने मुझे अर्जुन अवॉर्ड दिया.”
अनूप कुमार

अनूप का मानना है कि आज कबड्डी खिलाड़ियों के सामने उतनी परेशानियां नहीं हैं जैसे पहले के खिलाड़ियों के लिए थी, क्योंकि उस वक्त पहला लक्ष्य होता था सरकारी नौकरी ढूंढ़ना और फिर कबड्डी खेलना है.

अनूप के मुताबिक प्रो कबड्डी लीग के आने के बाद से खिलाड़ियों के सामने से ये चिंता कुछ दूर हो गई है.

“आज जो खिलाड़ी अच्छा खेलता है, तो उसे जॉब की जरूरत नहीं है. वो पहले लीग खेलेगा और दिखाएगा कि वो कितना अच्छा है. हमारे टाइम में पहले ऐसा नहीं था. हमे सबसे पहले अपने लिए जॉब ढूंढनी थी. लेकिन अब पीकेएल (कबड्डी लीग) खेलता है तो उसकी लाइफ पहले से ही सिक्योर है.”
अनूप कुमार

संन्यास के बाद अनूप कुमार चाहते हैं कि उन्हें भारतीय टीम की कोचिंग का एक मौका मिले ताकि वो देश के खिलाड़ियों को मेडल के लिए तैयार कर पाएं.

“मैं फेडरेशन से रिक्वेस्ट करूंगा कि अगर उनको लगता है कि अनूप कुमार इस स्तर का कोच है तो मैं चाहूंगा कि वो मुझे एक मौका दें. मैं चाहूंगा कि मेरे देश के खिलाड़ी अच्छे से ट्रेनिंग कर सकें और मेडल जीत सकें.”
अनूप कुमार

संन्यास के बाद अनूप कुमार को कबड्डी लीग में कोचिंग के कई ऑफर मिले और अभी वो पुणेरी पलटन के कोच हैं.

ये भी पढ़ें : ‘प्रो कबड्डी लीग का नया फॉर्मेट सभी टीमों के लिए बराबरी का मौका’

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our अन्य खेल section for more stories.

अन्य खेल
    Loading...