Exclusive: मनोज तिवारी बोले, ‘गोली मारो के नारे गलत, लेकिन...’ 

मनोज तिवारी ने कहा-हमारी पार्टी दिल्ली की सुरक्षा का मुद्दा उठा रही है

Updated
न्यूज वीडियो
4 min read

कैमरा: शिव कुमार मौर्या

वीडियो एडिटर: विवेक गुप्ता और विशाल कुमार

दिल्ली चुनाव में अपने प्रचार के दौरान बीजेपी दिल्ली सरकार और अरविंद केजरीवाल पर कड़े प्रहार कर रही है. दिल्ली चुनाव में बीजेपी की ओर से दिए जा रहे विवादित बयानों से लेकर शाहीन बाग, बिरयानी, और दिल्ली के स्कूल के सवालों पर ‘क्विंट हिंदी’ ने दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी से खास बात की. बातचीत में मनोज तिवारी ने बीजेपी नेता के गोली मारो बयान की निंदा की है और कहा नेताओं को ऐसे बयान नहीं देने चाहिए.

दिल्ली की सत्ता से बीजेपी 22 सालों से बाहर है. ऐसे में दिल्ली चुनाव 2020 बीजेपी के लिए कड़ा इम्तिहान है, साथ ही साथ यह मनोज तिवारी के लिए भी परीक्षा जैसा है क्योंकि वह दिल्ली में पार्टी अध्यक्ष हैं. ऐसे में उनके ऊपर पार्टी को जिताने का दारोमदार है.

क्या मनोज तिवारी अपने बड़े इम्तिहान में पास होंगे?

बीजेपी की तैयारी अच्छे नंबरों से पास करने की है. हमने दिल्ली को खुशहाल दिल्ली बनाने की तैयारी की है. दिल्ली में 5 साल में 5 लाख बच्चे फेल हो गए. इस पर दिल्ली सरकार का ध्यान नहीं है. बोर्ड का रिजल्ट अच्छा हो इसके लिए केजरीवाल सरकार ने कमजोर बच्चों को 9वीं में ही फेल करवा दिया. बच्चे खुद कह रहे हैं कि उनके स्कूल में पढ़ाई नहीं होती है.

एमसीडी बीजेपी के पास है तो एमसीडी स्कूल के टीचरों को सैलरी में देरी क्यों?

जब मनोज तिवारी से MCD स्कूल के हाल और वहां के टीचर की सैलरी समय पर नहीं मिलने के सवाल उठाए गए तो उन्होंने कहा कि हां ये सच है कि एमसीडी के स्कूलों के टीचरों का वेतन सही वक्त पर नहीं मिलता है, क्योंकि इन टीचरों का वेतन दिल्ली सरकार के एजुकेशन डिपार्टमेंट से ही आता है. और सरकार ने 20 हजार करोड़ रुपये रोक रखे हैं. दिल्ली सरकार कक्षा 6 से नीचे के कक्षाओं को अपना मानती ही नहीं, जो एमसीडी के अंदर आती है. हालांकि मनोज तिवारी ने उम्मीद जताई किअगर उनकी सरकार आती है तो 3 महीने में शिक्षकों की सैलरी की परेशानी दूर कर देंगे.

दिल्ली के चुनाव में शाहीन बाग मुद्दा क्यों?

मनोज तिवारी से जब सवाल किया गया कि दिल्ली चुनाव में शाहीन बाग मुद्दा क्यों है, क्या इस चुनाव इंडिया पाकिस्तान के बीच होगा जो बीजेपी के नेता कपिल मिश्रा ने अपने बयान में कहा था.

मनोज तिवारी ने इस सवाल पर कहा कि हमारी पार्टी दिल्ली की सुरक्षा का मुद्दा उठा रही है. दिल्ली सरकार के इशारे पर शहर में दंगा और शाहीन बाग खड़ा किया जा रहा है . “खुद ही दंगा फैला रहे हैं. चुनाव इंडिया और पाकिस्तान के बीच होगा इसका जवाब शाहीन बाग को खड़ा करने वाले दे सकते हैं. जो शाहीन बाग के साथ खड़े हैं उनसे पूछना चाहिए.”

शाहीन बाग के लोग ऐसा नहीं कर रहे क्योंकि वह खुद ही कह रहे हैं कि ये लोग कहां से आए हैं उन्हें पता नहीं, तिवारी ने कहा ये लोग पैसे पर, भाड़े पर लाए गए हैं. उन्हें बिरयानी खिलाई जा रही है. उन्होंने बच्चों और महिलाओं को बिठा रखा है. 

मनोज तिवारी ने कहा शाहीन बाग में गृहमंत्री को गोली मारने की बात कही जा रही है. तो इस बात पर जब उनसे पूछा गया कि पार्टी फिर केस क्यों नहीं दर्ज करा रही तो उन्होंने कहा केस उनपर दर्ज होगा जो शाहीन बाग का समर्थन कर रहे हैं. और जल्द ही इस पर कार्रवाई की जाएगी.

बीजेपी का तंज बिरयानी पर क्यों?

इस सवाल पर मनोज तिवारी ने कहा कि हमें खाने वाली बिरयानी से परेशानी नहीं है बल्कि देश बांटने वाली बिरयानी से परेशानी है और हम उन्हें उनकी औकात बता कर रहेंगे.

जावड़ेकर का केजरीवाल को आतंकी कहना सही?

तिवारी ने बताया प्रकाश जावड़ेकर ने आतंकी नहीं कहा बल्कि उनकी उस बात का जवाब दिया जो केजरीवाल कह रहे हैं क्या हम आतंकी है, केजरीवाल आतंकी विचारधारा को समर्थन कर रहे हैं. जो आतंकी गतिविधि से जुड़े हैं उन्हें बचाने की कोशिश की जा रही है. हम केजरीवाल से इस बात पर सवाल कर रहे हैं.

बीजेपी के नेताओं के गोली मारो बयान पर क्या कहेंगे?

इस सवाल पर तिवारी ने कहा हम इसकी बिल्कुल निंदा करेंगे इस तरह के शब्द का प्रयोग नहीं करना चाहिए.

मैंने भी इन लोगों को ऐसे बयान के लिए मना किया है, मैंने स्पष्ट किया है कि बीजेपी का कोई भी नेता ऐसी बात नहीं करेगा और जो हमारी बात नहीं सुनेगा उस पर कार्रवाई की जाएगी. लेकिन पीएम मोदी को गोली मारने की बात की जा रही है, कब्र खोदने की बात की जा रही है तो ऐसे में वह चुप नहीं रहेंगे.

बीजेपी ने दिल्ली चुनाव में किसी भी मुसलमान को टिकट नहीं दिया इस सवाल पर मनोज तिवारी ने कहा, उन्हें कई बार टिकट दिया गया लेकिन मुस्लिम कम्युनिटी उन्हें जिताती ही नहीं है. जिन क्षेत्रों में मुस्लिम वोटर हैं वहां हमने उम्मीदवार दिया लेकिन वहां हार गए. इसलिए अब उन्हें राज्यसभा में ले आते हैं. मुख्तार अब्बास नकवी को मंत्री बनाया गया.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!