लोन मिलने में हो रही दिक्कत,सरकार देगी राहत: नितिन गडकरी Exclusive

इंपोर्ट-एक्सपोर्ट से लेकर MSMEs से जुड़े कई पहलुओं पर गडकरी की बात

Published28 Jun 2020, 11:53 AM IST
न्यूज वीडियो
2 min read

केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग और MSME मंत्री नितिन गडकरी ने क्विंट के एडिटोरियल डायरेक्टर संजय पुगलिया के साथ बातचीत में माना है कि MSMEs को लोन मिलने में दिक्कत हो रही है.

3 लाख करोड़ रुपये की क्रेडिट गारंटी स्कीम में MSMEs को बैंकों से हो रही दिक्कत से जुड़े सवाल पर गडकरी ने कहा,

‘’प्रधानमंत्री ने जो पैकेज घोषित किया है, उसमें उन्होंने बड़े साफ तौर पर कहा है- कोलेटरल फ्री लोन. 100 करोड़ (रुपये) जिनका टर्नओवर है, 25 फीसदी जिनका प्लांट में इन्वेस्टमेंट है, ऐसे लोगों के लिए 20 फीसदी कोलेटरल फ्री लोन मिलेगा. कोई गारंटी देने की जरूरत नहीं है. अलग-अलग बैकों में जो गाइडलाइन्स चल रही हैं, उससे डिस्बर्समेंट में थोड़ी दिक्कत आ रही है. ये बात मेरी जानकारी में आई.’’
नितिन गडकरी, केंद्रीय मंत्री

इसके अलावा गडकरी ने कहा कि उन्हें पता है कि सेंक्शन होता है लेकिन डिस्बर्समेंट होने में थोड़ा समय लगता है.

उन्होंने कहा, ''किसी भी प्रोग्राम के लागू होने में समस्याएं तो आती ही हैं. पॉलिसी की घोषणा के बाद उससे जुड़ी जो भी दिक्कतें आ रही हैं, हम वित्त मंत्री से बात करके उनका समाधान निकालेंगे. जरूरत हुई तो मैं प्रधानमंत्री जी से भी इस बारे में चर्चा करूंगा.''

गडकरी ने MSMEs की अहमियत को लेकर कहा, ‘’MSME देश के लिए काफी अहम सेक्टर है क्योंकि हमारी GDP ग्रोथ में 29 फीसदी ग्रोथ MSME से जुड़ती है. अब तक MSME ने 11 करोड़ रोजगार पैदा किए हैं.’’

'इंपोर्ट कम करने, एक्सपोर्ट को बढ़ाने की जरूरत'

केंद्रीय मंत्री ने इंपोर्ट पर निर्भरता कम करने के लिए पीपीई किट्स का उदाहरण दिया. उन्होंने कहा कि कुछ समय पहले भारत में चीन से स्पेशल हवाई जहाज के जरिए पीपीई किट मंगाई गई थीं, अब देश में हर रोज 5 लाख पीपीआई किट बनने लगी हैं.

‘’पीपीई किट के लिए एक समय हम इंपोर्ट पर निर्भर रहते थे, अब पीपीई किट हमारा देश भेज रहा है. अब कनाडा में, अमेरिका में, पूरी दुनिया में हमारी पीपीई किट जाने का मौका आया है. हमारा सैनिटाइजर जा रहा है अरब देशों में.’’
नितिन गडकरी, केंद्रीय मंत्री

उन्होंने कहा, ''अगर MSME को मौका मिलता है, तो इंपोर्ट को कम करना चाहिए और एक्सपोर्ट को बढ़ाना चाहिए. मैं दो किताबें प्रकाशित कर रहा हूं कि देश का एक्सपोर्ट कितना है तीन साल का और इंपोर्ट कितना है.''

गडकरी ने कहा, ''हम निश्चित तौर पर इंपोर्ट को कम करेंगे और एक्सपोर्ट को बढ़ावा देकर अपनी इकनॉमी को मजबूत बनाएंगे.'' उन्होंने कहा कि एक्सपोर्ट बढ़ने से नए रोजगार पैदा होंगे, हमारी जीडीपी ग्रोथ में एडिशन होगा और देश को उसका फायदा होगा.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर को और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!