राफेल में जो मोदी सरकार ने छिपाया वो सीक्रेट बाहर आया

राफेल में जो मोदी सरकार ने छिपाया वो सीक्रेट बाहर आया

न्यूज वीडियो

राफेल के कौन से ये सीक्रेट हैं जो आप जानना चाहते हैं और सरकार आपको बताता नहीं चाहती. आप क्या जानना चाहते हैं- दाम चाहिए, दाम बताऊंगा. ये क्या करामात करता है, करामात बताऊंगा.

आपको कहा गया है दाम मत पूछो, दुश्मन को राफेल के राज का पता चल जाएगा और ये नेशनल इंटरेस्ट में नहीं है. हुकूमत ने आपको इतना जरूर बताया है कि हम पूरी तरह से हथियारों से लैस कॉम्बैट राफेल खरीद रहे हैं. तो देखिए कि इसमें क्या क्या होता है-

राफेल= हर जंग का हरफनमौैला

  • ये 8 IN 1 एयरक्राफ्ट है. हवाई जंग का हरफनमौला है
  • ये आसमान में सबसे ऊंचा उड़ता है.
  • 20 हजार मीटर की ऊंचाई पकड़ सकता है.
  • ये 2130 km/घंटे की रफ्तार यानी आवाज की स्पीड से डबल स्पीड से उड़ता है
  • ये चप्पे-चप्पे की निगरानी यानी रिकनाइसां कर सकता है
  • इसका रेडार मल्टी डाइरेक्शनल है
  • इसका टेलिस्कोपिक जूम कैमरा एक टन का है

ये छुपा रुस्तम है. दुश्मन के रेडार को चकमा दे सकता है. उसके रेडार का पता लगा सकता है. ये हवा से हवा में, हवा से जमीन पर मार कर सकता है. ये सात तरह के बम और मिसाइल ढो सकता है. ये न्यूक्लियर आर्म्स भी कैरी कर सकता है. ये स्ट्रैटेजिक ठिकानों की हिफाजत के लिए दुश्मन के मिसाइल को रास्ते में डिकॉय भेजकर गुमराह और तबाह कर सकता है और किसी मूविंग निशाने के पीछे मिसाइल लगा दे तो एकदम प्रेसाइज, अचूक हमला कर सकता है.

रफ्तार की कोई सानी नहीं

  • ये छह मिसाइलें एक साथ लॉन्च कर सकता है और मिसाइल की रफ्तार होती है एक सेकेंड में 1050 मीटर
  • राफेल एक साथ सौ किलोमीटर के दायरे में 40 टारगेट पर बम गिरा सकता है.
  • 30 एमएम के ये 2500 शेल एक मिनट में मार सकता है
  • ये है 11 टन का लेकिन 16 टन बम मिसाइल और फ्यूल का लोड लेता है

3 तरह के राफेल

1.राफेल बी दो सीटों वाला जहाज, जिसमें पायलट नेवीगेटर है

राफेल बी
राफेल बी
(फोटो: दसॉ एविएशन)

2.राफेल सी सिंगल पायलट वाला है

राफेल सी
राफेल सी
(फोटो: दसॉ एविएशन)

3. राफेल एम

ये एयर क्राफ्ट कैरियर से उड़ सकता है. ये इतना काबिल है कि 400 मीटर के रनवे से टेक ऑफ और लैंड कर सकता है

राफेल एम (मरीन)
राफेल एम (मरीन)
(फोटो: दसॉ एविएशन)
एक्सपर्ट कहते हैं मल्टी रोल कॉमबैट एयरक्राफ्ट में ये दुनिया का बेजोड़ फाइटर है. पूरा जहाज पहले कॉमबैट इलेक्ट्रॉनिक्स सॉफ्टवेयर के जरिए वर्चुअल तरीके से बनने के बाद ही मैन्यूफैक्चरिंग में जाता है.

ये सीक्रेट कहां से पता लगा?

ये सारे सीक्रेट हैं राफेल के, जो मैंने आपको ब्रीफली बता दिए हैं. आप और भी सीक्रेट जानना चाहते हैं तो ये राज भी मैं आपसे शेयर कर लेता हूं लेकिन आप किसी को बताइयेगा नहीं. ये सब सीक्रेट्स मुझे अमेजन प्राइम पर राफेल पर एक डॉक्यूमेंट्री में मिले हैं!

राफेल की कीमत

अब आते हैं राफेल की कीमत पर. विकीपीडिया कहता है कि फ्लाई अवे राफेल बी 2011 में 7.4 करोड़ यूरो का था यानी करीब 520 करोड़ रुपए. अभी हमारे देश में विवाद ये है कि सरकार ने इसे खरीदा है 1600 करोड़ रुपए में. ये दाम 2015-16 के हैं.

सबसे मजे की बात ये है कि अमेजन की डॉक्यूमेंट्री में राफेल की कीमत भी बताई गई है. ये डॉक्यूमेंट्री 2016 की है सानी भारत के सौदे के बाद. इसमें राफेल की कीमत बताई गई है 12 करोड़ यूरो. यानी 75 रुपए के यूरो के हिसाब से एक राफेल 900 करोड़ रुपए का हुआ. ये संभवत: दसॉ का पब्लिसाइज्ड रेट है. एक जहाज का है. यानी होलसेल में खरीदो को कीमत 900 करोड़ रुपए से कम होनी चाहिए.

ये सब तो मोटी मोटी बातें हैं. नेशनल इंटरेस्ट में सीक्रेसी और कॉन्फिडेंशियलिटी का बहाना सब सरकारें बनाती हैं. ये ऐब्सर्ड है क्योंकि डिफेंस सेक्टर के सभी प्लेयर- खरीदनेवाले बेचनेवाले सब जानते हैं तो फिर जिस पब्लिक का पैसा है, जो मालिक है, उसी पब्लिक से क्या छुपाना?

ये भी देखें:

Video| राफेल में SC के आदेश से अपने जाल में उलझी सरकार: अरुण शौरी

Follow our न्यूज वीडियो section for more stories.

न्यूज वीडियो

    वीडियो