ADVERTISEMENT

World Diabetes Day 2022: बच्चों में डायबिटीज से हो सकती हैं गंभीर समस्याएं

डायबिटीज के लक्षणों को बिना नजरअंदाज किये सही तरह से कंट्रोल करना बहुत जरुरी होता है.

Updated
फिट
4 min read
World Diabetes Day 2022: बच्चों में डायबिटीज से हो सकती हैं गंभीर समस्याएं
i

World Diabetes Day 2022: डायबिटीज एक ऐसा रोग है, जो पूरे शरीर को बुरी तरह से प्रभावित करता है फिर वो चाहे बड़ों में हो या बच्चों में. सरल भाषा में समझें तो, बच्चे के शरीर में ब्लड शुगर का लेवल नॉर्मल से बढ़ जाने को डायबिटीज कहते हैं. बच्चों और बड़ों में ब्लड शुगर के लेवल का मापदंड एक ही होता है.

बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज का जोखिम ज्यादा होता है. इस स्थिति में शरीर पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन नहीं बना पाता है.

बीते कुछ समय से बच्चों में टाइप 2 डायबिटीज के मामले भी बढ़ रहे हैं क्योंकि बच्चों में ओबेसिटी की समस्या बढ़ गयी है.
ADVERTISEMENT

डायबिटीज को अगर समय पर नियंत्रण न किया जाए, तो यह कई रोगों को बुलावा देता है. इससे हृदय, किडनी एवं आंख संबंधी रोग होने का खतरा बढ़ जाता है. फिट हिंदी ने मेदांता अस्पताल, गुरुग्राम के एंडोक्रिनोलॉजी एंड डायबिटोलॉजी के डायरेक्टर, डॉ. सुनील कुमार मिश्रा से बच्चों में डायबिटीज और उसकी वजह से बढ़ रहे जोखिमों के बारे में बातचीत की.

“बच्चों में अधिकतर टाइप 1 डायबिटीज पाया जाता है. पर बीते कुछ समय से टाइप 2 डायबिटीज के मामले भी बढ़ रहे हैं क्योंकि बच्चों में ओबेसिटी बढ़ गयी है. टाइप 1 डायबिटीज में बहुत जल्दी इंसुलिन की क्षमता कम हो जाती है. जिससे बच्चे में प्यास ज्यादा लगना, वजन घटना, बार-बार पेशाब आना जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं. अगर ऐसा हो रहा है, तो बच्चे का ब्लड शुगर जरुर जांच कराएं” ये कहते हुए डॉ सुनील ने बच्चों में डायबिटीज के कुछ लक्षणों को बताया.

टाइप-1 और टाइप-2 डायबिटीज के लक्षण बच्चों में एक जैसे होते हैं, जिन्हें समय पर पहचानने की जरूरत होती है.

बच्चों में डायबिटीज के लक्षण

बच्चों को डायबिटीज में भूख ज्यादा लगती है 

(फोटो:iStock)

  • थकान ज्यादा होना: बच्चों के ब्लड में शुगर का घटता और बढ़ता स्तर थकान पैदा कर सकता है

  • बार-बार पेशाब आना: टाइप-1 और टाइप-2 डायबिटीज में बच्चे को पेशाब ज्यादा आता है

  • बहुत ज्यादा प्यास लगना: शुगर का स्तर बढ़ने की वजह से उन्हें अधिक प्यास लग सकती है

  • भूख ज्यादा लगना: ब्लड में शुगर का स्तर बढ़ने से बच्चे को ज्यादा भूख लग सकती है. ऐसा इसलिए क्योंकि इंसुलिन के अपर्याप्त उत्पादन की वजह से बॉडी में एनर्जी की कमी हो जाती है, जिससे बच्चा अक्सर भूखा महसूस करता है.

  • वजन कम होना: डायबिटीज की वजह से बच्चों का वजन तेजी से कम हो सकता है.

ADVERTISEMENT

डायबिटीज से संबंधित जटिलताएं दो प्रकार की होती हैं

लॉन्ग-टर्म कॉम्प्लिकेशन की संभावना हो सकती है अगर शुरू से कंट्रोल न किया जाए 

(फोटो:iStock)

अक्यूट कॉम्प्लिकेशन और लॉन्ग-टर्म कॉम्प्लिकेशन

1.अक्यूट कॉम्प्लिकेशन:

तीव्र जटिलताएं आमतौर पर बहुत अधिक ब्लड-शुगर के स्तर के कारण होती हैं - उनमें से एक डायबिटीज कीटोएसिडोसिस है, जिसमें शरीर में ग्लूकोज का स्तर बहुत अधिक होता है और शरीर फैट के मेटाबलिज्म के कारण रक्त में एसिड उत्पन्न करना शुरू कर देता है. शुरू में उन एसिड को शरीर द्वारा निष्प्रभावी कर दिया जाता है, लेकिन एक सीमा के बाद शरीर का बफर सिस्टम उस एसिड को बेअसर करने में सक्षम नहीं होता है और रक्त का पीएच बदल जाता है, जिसके परिणामस्वरूप एक गंभीर चिकित्सा आपात वाली स्थिति पैदा हो सकती है.

दूसरी ओर यदि हम बच्चों को इंसुलिन देते हैं, तो यह हाइपोग्लाइसीमिया (लो ब्लड-शुगर) का कारण बन सकता है, जो कभी तो हल्का होता है पर कभी-कभी गंभीर हो सकता है. जिस स्थिति में चिकित्सा सहायता की आवश्यकता पड़ सकती है.

2.लॉन्ग-टर्म कॉम्प्लिकेशन:

डायबिटीज की लॉन्ग-टर्म कॉम्प्लिकेशन में शरीर के विभिन्न अंगों जैसे आंखों, नसों, किडनी और हृदय को पहुँचने वाले नुकसान शामिल है. लंबे समय तक अनियंत्रित डायबिटीज के मामलों में इन जटिलताओं की संभावना काफी बढ़ जाती है.

डायबिटीज को शुरू से ही कंट्रोल करना बहुत जरूरी है. कई परीक्षणों में यह देखा गया है कि जिन मामलों में डायबिटीज को लंबे समय तक नियंत्रण में रखा गया है, उनमें लॉन्ग-टर्म कॉम्प्लिकेशन की संभावना भी कम होती है.

इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि एचबीए1सी के स्तर को 7 से नीचे और यदि संभव हो तो 6.5 से नीचे तक बनाए रखा जाए, जब तक कि यह हाइपोग्लाइसीमिया को इंडूस किए बिना किया जा सके.

ADVERTISEMENT

बच्चे को डायबिटीज होने पर ऐसे रखें उसका ख्याल

डायबिटीज होने पर खानपान का विशेष रूप से रखें ख्याल 

(फोटो:iStock)

“डायबिटीज के लक्षण दिखाई देते ही माता-पिता को सबसे पहले डॉक्टर से सलाह लेकर ब्लड शुगर की जांच करानी चाहिए. अगर जांच में डायबिटीज होने की पुष्टि होती है, तो डॉक्टर की दी गयी सलाह को मानें साथ ही बच्चे को डराएं नहीं बल्कि समझाएं कि उसे अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखने के लिए माता-पिता की बात मानने की और खानपान के साथ व्यायाम की आवश्यकता है."
डॉ सुनील मिश्रा, डायरेक्टर, एंडोक्रिनोलॉजी एंड डायबिटोलॉजी, मेदांता अस्पताल, गुरुग्राम

माता-पिता रखें इन बातों का ख्याल:

  • बच्चे के ब्लड में शुगर के स्तर की जांच समय-समय पर करें

  • बच्चे के लाइफस्टाइल में बदलाव करें

  • ध्यान रखें कि बच्चा डाइट में ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करें, जिससे उसके ब्लड शुगर का स्तर नॉर्मल रहे

  • बच्चे को नियमित रूप से शारीरिक व्यायाम करवाएं

लक्षणों को अनदेखा न करें. कई बार टाइप 1 डायबिटीज में खतरा इतना बढ़ जाता है कि बात बच्चे की जान पर आ सकती है.

वर्ल्ड डायबिटीज डे पर इस आर्टिकल को दोबारा पब्लिश किया जा रहा है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×