ADVERTISEMENT

Kannauj: छात्र की संदिग्ध मौत, पिता का आरोप-घड़ी चोरी के आरोप में टीचर ने मारा

दिलशान खान आरएस इंटर कॉलेज में कक्षा 9 का छात्र था.

Published
भारत
2 min read
Kannauj: छात्र की संदिग्ध मौत, पिता का आरोप-घड़ी चोरी के आरोप में टीचर ने मारा
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

यूपी (Uttar Pradesh) के कन्नौज जिले में एक मुस्लिम छात्र की संदिग्ध मौत का मामला सामने आया है. घरवालों का आरोप है कि अध्यापकों ने घड़ी चोरी का आरोप लगाकर छात्र की पिटाई कर दी, जिससे छात्र की हालत खराब हो गई और इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. वहीं पुलिस इस मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद कुछ अलग ही जानकारी दे रही है, जो इस मामले को नए एंगल की ओर मोड़ रहा है.

ADVERTISEMENT
दिलशान खान आरएस इंटर कॉलेज में कक्षा 9 का छात्र था. उसके पिता जहांगीर के मुताबिक 23 जुलाई को दिलशान पढ़ने के लिए स्कूल गया था, जहां पर अध्यापकों ने घड़ी चोरी का आरोप लगाकर दिलशान की जमकर पिटाई कर दी, घर आने पर दिलशान ने घटना की जानकारी घरवालों को दी, कुछ देर बाद उसे उल्टी होने लगी, घरवाले छात्र को डॉक्टर के पास ले गए हालत बिगड़ने के बाद डॉक्टर ने उसे कानपुर रेफर कर दिया गया, छात्र की कानपुर में इलाज के दौरान मौत हो गई. इसके बाद मामले ने तूल पकड़ा.

मृतक छात्र के पिता का आरोप है कि प्रभाकर, शिवकुमार और विवेक नाम के तीन लोगों ने डेढ़ घंटे तक मेरे बच्चे को स्कूल में बहुत पीटा.

मेरे बच्चे ने स्कूल से फोन करके बताया कि पापा हम पर बहुत मार पड़ रही है, हमने कहा कि मेरे बच्चे को छोड़ दो उसके बदले हमको जूतों की माला डालकर हमें घुमा लेना. गलती यह है कि विजय पाल के बच्चे ने एक लड़की के बैग में घड़ी रख दी. मारपीट के बाद मेरा बच्चा घर आया और तुरंत ही उल्टी करने लगा.
ADVERTISEMENT

इस पूरे मामले में पिता अब शव को कब्र से निकलवाकर फिर से पोस्टमार्टम की मांग कर रहा हैं. कन्नौज के पुलिस अधीक्षक अनुपम सिंह का कहना है कि नियमानुसार पंचनामा करके पोस्टमार्टम की कार्रवाई कराई गई और पोस्टमार्टम के अनुसार शरीर पर चोट के निशान नहीं पाए गए हैं.

उनका कहना है कि पिटाई और मारपीट से मौत की बात सही नहीं है, इस केस में जांच जारी है.

( इनपुट- प्रभम श्रीवास्तव)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×