ADVERTISEMENTREMOVE AD

निर्भया के दोषियों को फांसी की तीसरी तारीख तय, मगर पेंच अब भी बाकी

निर्भया के चारों दोषियों को फांसी पर लटकाने के लिए नया डेथ वारंट जारी

Updated
भारत
3 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

निर्भया गैंगरेप मामले में तीसरी बार चारों दोषियों का डेथ वारंट जारी किया गया है. पिछले कई महीनों से चारों की फांसी की बात हो रही है. डेथ वारंट भी जारी किए गए, लेकिन हर बार कानूनी दांव-पेंच के चलते दोषी फांसी टलवाने में कामयाब रहे. अब नए डेथ वारंट के मुताबिक चारों दोषियों को 3 मार्च को सुबह 6 बजे फांसी दी जाएगी. लेकिन सबके मन में अब फिर सवाल उठ रहा है कि क्या वाकई में दोषियों को तय तारीख पर ही फांसी होगी?

ADVERTISEMENTREMOVE AD

कहां फंस सकता है पेंच?

अब बात करते हैं कि क्या वाकई में 3 मार्च को चारों दोषी फांसी के फंदे पर लटका दिए जाएंगे? इसका जवाब सीधे हां में नहीं हो सकता है. क्योंकि अब भी एक विकल्प ऐसा है जो इस तारीख को आगे बढ़ा सकता है. चारों में से एक दोषी पवन गुप्ता के पास दया याचिका का विकल्प बाकी है. जिसका वो कभी भी इस्तेमाल कर सकता है. वहीं उसने अब तक क्यूरेटिव पिटीशन भी दायर नहीं की है.

अब अगर पवन फांसी से ठीक पहले यानी 1 या 2 मार्च को भी राष्ट्रपति के पास दया याचिका दायर करता है तो फिर वही नियम लागू होगा. जिसके तहत दया याचिका खारिज होने के 14 दिन बाद ही दोषी को फांसी हो सकती है. यानी जब पवन दया याचिका दायर करेगा और वो राष्ट्रपति से खारिज होगी, उसके 14 दिन बाद ही चारों को फांसी हो सकती है.
0

एक साथ होगी फांसी

हम यहां फांसी टाले जाने की संभावनाओं को लेकर बात इसलिए कर रहे हैं, क्योंकि नियम ये कहते हैं कि एक केस के सभी दोषियों को एक साथ ही फांसी दी जा सकती है. इस नियम को लेकर केंद्र सरकार ने भी दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी. जिसमें कहा गया था कि दोषियों को अलग-अलग फांसी दिए जाने का प्रावधान हो. लेकिन हाईकोर्ट ने इसे खारिज कर दिया. जिसके बाद केंद्र ने इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की. सुप्रीम कोर्ट ने अभी इस पर फैसला नहीं सुनाया है.

सुप्रीम कोर्ट को अलग-अलग फांसी वाली इस याचिका पर शुक्रवार 14 फरवरी को फैसला सुनाना था, लेकिन जस्टिस भानुमति फैसला सुनाने से ठीक पहले बेहोश हो गईं. भानुमति अचानक बेहोश हो गईं. जिसके बाद पीठ ने मामले को स्थगित कर कहा कि आदेश बाद में जारी किया जाएगा. अगर सुप्रीम कोर्ट अलग-अलग फांसी को मंजूरी देता है तो तीन दोषियों- अक्षय, मुकेश और विनय की फांसी 3 मार्च को पक्की है.

जनवरी में जारी हुआ पहला डेथ वारंट

निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटकाए जाने की चर्चा जनवरी में शुरू हुई थी. जब पहला डेथ वारंट जारी किया गया था. 22 जनवरी की तारीख तय थी, लेकिन 17 जनवरी को राष्ट्रपति के पास याचिका लंबित होने की दलील के बाद इसे टाल दिया गया.

ADVERTISEMENT

दूसरा डेथ वारंट

निर्भया के दोषियों को फांसी का दूसरा डेथ वारंट भी जारी हुआ. कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि 2 फरवरी को दोषियों को फांसी के फंदे पर लटकाया जाएगा. लेकिन फांसी की तारीख नजदीक आते ही कुछ ही घंटे पहले कोर्ट ने फांसी को टाल दिया.

कोर्ट ने निर्भया के दोषियों की तरफ से फांसी टालने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए ये फैसला सुनाया था. दोषियों ने कोर्ट से कहा था कि उनके पास अभी कई विकल्प बाकी हैं. बिना उनका इस्तेमाल किए फांसी नहीं दी जा सकती है.

अब ये पूरा गणित समझने के बाद नजर सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले पर होगी, जिसमें चारों दोषियों को अलग-अलग फांसी देने की मांग की गई है. अगर हाईकोर्ट की तरह सुप्रीम कोर्ट भी इस याचिका को खारिज कर देता है तो फिर मामला फंस सकता है. ये कहा जा सकता है कि 3 मार्च को फांसी होना मुश्किल है. लेकिन अगर अलग-अलग फांसी पर कोर्ट मान जाता है तो तीन दोषियों का फांसी के फंदे पर लटकना तय है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENTREMOVE AD
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×