CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा हटाए गए, नागेश्वर राव को फिर मिला चार्ज

CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा हटाए गए, नागेश्वर राव को फिर मिला चार्ज

भारत

सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा का ट्रांसफर कर दिया गया है. पीएम नरेंद्र मोदी, जस्टिस सीकरी और नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के बीच हुई बैठक में यह फैसला लिया गया है. उनका तबादला कर उन्हें फायर सेफ्टी विभाग का डीजी बनाया गया है. गुरुवार शाम हुई सेलेक्ट कमिटी की इस बैठक में सीबीआई डायरेक्टर पर 2-1 से फैसला लिया गया. खड़गे ने वर्मा के पक्ष में वोट किया. फिलहाल नागेश्वर राव को एक बार फिर चार्ज दिया गया है.

इससे पहले मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने आलोक वर्मा को उनके पद पर बहाल किया था. इस फैसले के बाद बुधवार को वर्मा ने एक बार फिर कार्यभार संभाला और एक के बाद एक कई अहम फैसले लिए.

ये भी पढ़ें : CBI निदेशक के तौर पर वापसी करते ही वर्मा ने कई ट्रांसफर किए रद्द 

सेलेक्ट कमिटी ने लिया फैसला

सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा पर फैसले के लिए बनाई गई सेलेक्ट कमिटी में सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस की तरफ से जस्टिस सीकरी, सरकार की तरफ से खुद पीएम मोदी और लोकसभा में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल थे. इन सभी के बीच बुधवार को भी एक बैठक हुई, लेकिन इसमें कोई भी फैसला नहीं लिया गया. इसके बाद गुरुवार को हुई कमिटी की बैठक में यह अहम फैसला लिया गया.

बुधवार को ही आलोक वर्मा ने एक बार फिर सीबीआई डायरेक्टर का पद संभाला था, जिसके बाद उन्होंने नागेश्वर राव के कई फैसले पलट दिए थे. उन्होंने कुछ सीबीआई अधिकारियों के ट्रासंफर ऑर्डर को वापस ले लिया था, वहीं राकेश अस्थाना जांच मामले में भी बदलाव किया था. 

दो घंटे से ज्यादा चली बैठक

पीएम मोदी की अध्यक्षता में हुई ये बैठक करीब दो घंटे से भी ज्यादा वक्त तक चली. इस बैठक में मल्लिकार्जुन खड़गे ने कुछ आपत्तियां भी दर्ज कराई. लेकिन अंत में आलोक वर्मा को हटाए जाने का फैसला लिया गया.

ये भी पढ़ें : आधी रात को हटाए गए आलोक वर्मा ने दिन में संभाला CBI डायरेक्टर पद

कमिटी के सामने रखी गई सीवीसी की रिपोर्ट

सेलेक्ट कमिटी की इस बैठक में वर्मा पर राकेश अस्थाना के लगाए गए करप्शन के गंभीर आरोपों पर भी चर्चा हुई. इससे पहले सीवीसी ने कमिटी के सामने इस मामले से जुड़ी फाइलें रखी थीं. सीबीआई बनाम सीबीआई के इस केस से जुड़ी हर जानकारी कमिटी के सामने रखी गई थी. मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा था कि सिर्फ सीवीसी की रिपोर्ट पर फैसला नहीं किया जा सकता है, इसलिए उन्होंने वर्मा को भी शामिल करने की सिफारिश की थी.

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)

Follow our भारत section for more stories.

भारत

    वीडियो