पश्चिम बंगाल में BJP कार्यकर्ता की हत्या? 2018 की है घटना

ये घटना हाल की नहीं, बल्कि मई 2018 की है. गृहमंत्री अमित शाह ने तब इस घटना पर एक ट्वीट भी किया था.

Updated
वेबकूफ
3 min read
पश्चिम बंगाल में BJP कार्यकर्ता की हत्या? 2018 की है घटना

सोशल मीडिया पर कई यूजर्स, पेड़ पर लटकी एक लाश की फोटो शेयर कर दावा कर रहे हैं कि तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने 18 वर्षीय एक युवक की हत्या कर दी है. दावा में टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन की हाल ही में कथित गैंगरेप पीड़िता के परिवार से मिलने के लिए हाथरस की यात्रा पर भी सवाल उठाया गया है.

असल में ये घटना हाल की नहीं, बल्कि 2018 की है. मई 2018 में, पश्चिम बंगाल के पुरुलिया में 18 साल का एक एक कथित बीजेपी सदस्य मृत पाया गया था.

दावा

फोटो के साथ दावे में लिखा है, “ये पश्चिम बंगाल का एक 18 साल का लड़का त्रिलोचन महतो है। जिसका TMC कार्यकर्ताओं ने हत्या कर दी और उसके टीशर्ट पर लिख दिया ‘ये भाजपा में शामिल होने का सज़ा है।' और आज TMC सांसद डेरेक ओ ब्रायन यूपी गए है कानून व्यवस्था पर ज्ञान छिलने। घिनौनी राजनीति देख रहे हो इनके?”

अर्पिता जाना नाम की एक यूजर के ट्वीट पर ये आर्टिकल लिखे जाने तक 7500 रीट्वीट और 11,000 लाइक्स आ चुके थे.

पश्चिम बंगाल में BJP कार्यकर्ता की हत्या? 2018 की है घटना
(स्क्रीनशॉट: ट्विटर)

Kreately वेबसाइट, जो इससे पहले भी गलत जानकारी दे चुकी है, ने इस घटना पर एक आर्टिकल पब्लिश कर इस घटना को हाल ही का बताया.

पश्चिम बंगाल में BJP कार्यकर्ता की हत्या? 2018 की है घटना
(स्क्रीनशॉट: ट्विटर)

फेसबुक और ट्विटर पर कई सोशल मीडिया यूजर्स ने फोटो को इसी दावे के साथ शेयर किया.

पश्चिम बंगाल में BJP कार्यकर्ता की हत्या? 2018 की है घटना
(स्क्रीनशॉट: ट्विटर)
पश्चिम बंगाल में BJP कार्यकर्ता की हत्या? 2018 की है घटना
(स्क्रीनशॉट: फेसबुक)

हमें जांच में क्या मिला?

हमने गूगल रिवर्स इमेज किया, जिसके बाद हमें 2018 में पब्लिश हुआ इंडिया टुडे का एक आर्टिकल मिला, जिसमें ये फोटो मौजूद थी.

आर्टिकल में लिखा है कि पश्चिम बंगाल के पुरुलिया जिले में 18 साल के एक युवक की लाश पेड़ से लटकी पाई गई थी. बीजेपी ने बाद में दावा किया था कि वो पार्टी का सदस्य है.

पश्चिम बंगाल में BJP कार्यकर्ता की हत्या? 2018 की है घटना
(स्क्रीनशॉट: इंडिया टुडे)

इसके अलावा, गृहमंत्री अमित शाह ने मई 2018 में फोटो को शेयर करते हुए लिखा था कि "एक युवा सदस्य को एक पेड़ पर इसलिए लटका दिया गया क्योंकि उसकी विचारधारा राज्य के गुंडों से अलग थी."

पश्चिम बंगाल में BJP कार्यकर्ता की हत्या? 2018 की है घटना
(स्क्रीनशॉट: ट्विटर)

क्विंट ने भी 2018 में इस घटना को रिपोर्ट किया था. हालांकि तब पीड़ित की पहचान को स्वतंत्र रूप से वेरिफाई नहीं किया जा सका था, अमित शाह ने ट्वीट में दावा किया था कि पीड़ित का नाम "त्रिलोचन महतो" था.

18 वर्षीय के शव के साथ एक कथित नोट मिला था, जिसमें लिखा था, "18 साल की उम्र में बीजेपी के साथ जुड़ना तुम्हारी मौत का कारण है. मैं चुनावों के बाद से ये (तुम्हें मारना) करना चाहता था, लेकिन मैं असफल रहा. आज, तुम्हारा जीवन खत्म हुआ."

घटना से एक दिन पहले, युवक अपने गांव से कुछ तीन किलोमीटर दूर एक जगह गया था, और वहां से वापस नहीं लौटा. उसने रात को अपने भाई को फोन किया था और बताया था कि उसे अगवा कर लिया गया है. उसने खुद को बचाने का आग्रह किया था.

वरिष्ठ जिला पुलिस अधिकारी ने तब कहा था, "हमें उसके परिवार ने इस घटना के बारे में जानकारी दी, लेकिन रातभर ढूंढने के बाद भी हम उसकी तलाश नहीं कर पाए."

शाह ने तब पश्चिम बंगाल की तृणमूल कांग्रेस सरकार इस मौत का जिम्मेदार बताते हुए आरोप लगाया था. टीएमसी ने आरोपों को निराधार और मनगढ़ंत करार दिया था.

इससे साफ होता है कि एक पुरानी घटना को हाल ही का बताकर शेयर किया जा रहा है.’

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!