सिब्बल ने कहा था जिंदा रहते राम मंदिर नहीं बनने देंगे?फेक है न्यूज

इससे पहले, पिछले साल भी अयोध्या पर फैसले से पहले इस तरह का मैसेज वायरल हुआ था

Published28 Jul 2020, 09:50 AM IST
वेबकूफ
3 min read

अयोध्या में पांच अगस्त को राम मंदिर के भूमि पूजन से पहले, कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल को लेकर एक गलत खबर सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही है. सोशल मीडिया पर लोगों ने दावा किया है कि कपिल सिब्बल ने एक बार कहा था कि "अगर राम मंदिर बना तो वो आत्महत्या कर लेंगे."

दावा

फेसबुक और WhatsApp पर खूब शेयर हो रहे इस मैसेज में लिखा है: "कपिल सिब्बल ने एकबार कहा था राम मंदिर निर्माण शुरू बोने पर वो आत्महत्या कर लेंगे."

सिब्बल ने कहा था जिंदा रहते राम मंदिर नहीं बनने देंगे?फेक है न्यूज
(स्क्रीनशॉट: ट्विटर)
सिब्बल ने कहा था जिंदा रहते राम मंदिर नहीं बनने देंगे?फेक है न्यूज
(स्क्रीनशॉट: ट्विटर)
सिब्बल ने कहा था जिंदा रहते राम मंदिर नहीं बनने देंगे?फेक है न्यूज
(स्क्रीनशॉट: फेसबुक)

यही दावा 2019 में अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले भी वायरल हुआ था.

सिब्बल ने कहा था जिंदा रहते राम मंदिर नहीं बनने देंगे?फेक है न्यूज
(स्क्रीनशॉट: फेसबुक)

हमें जांच में क्या मिला?

इस बयान को मेनस्ट्रीम मीडिया में रिपोर्ट नहीं किया गया और ये इसकी सत्यता पर सवाल खड़े करता है. हमने ये खबर गूगल पर सर्च की, लेकिन पुरानी या नई, कोई रिपोर्ट नहीं मिली, जिसमें सिब्बल के हवाले से ये बात कही गई हो.

बल्कि, हमें वर्डप्रेस पर मार्च 2018 का 'योगी आदित्यनाथ की सेना' नाम से एक यूजर का ब्लॉग पोस्ट मिला, जिसमें कपिल सिब्बल के हवाले से ये लिखा था. इस ब्लॉग की हेडलाइन थी: 'जब तक जिंदा हूँ, नही बनने दूंगा राम मंदिर : कपिल सिब्बल, काँग्रेस'

सिब्बल ने कहा था जिंदा रहते राम मंदिर नहीं बनने देंगे?फेक है न्यूज

इस आर्टिकल को पढ़ने पर हमें कहीं ये बात नहीं लिखी मिली कि सिब्बल ने कहा है कि वो जिंदा रहते राम मंदिर नहीं बनने देंगे. आर्टिकल में सिब्बल के हवाले से बस ये लिखा है- "राम मंदिर तब बनेगा जब राम चाहेंगे, मोदी के चाहने पर नहीं." इसे लेकर कोई सफाई नहीं दी गई थी कि आर्टिकल ने ये हेडलाइन क्यों दी है.

कपिल सिब्बल के नाम से यही बयान पिछले साल वायरल हो गया था, जब राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद जमीन विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आना था. इस दावे को तब फैक्ट-चेकिंग वेबसाइट Alt News ने डिबंक किया था.

वेरिफिकेशन के लिए, हमने कांग्रेस से संपर्क किया, जिन्होंने साफ किया कि ये दावा गलत है.

इससे साफ होता है कि कपिल सिब्बल के नाम से गलत बयान सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है.

आप हमारी सभी फैक्ट-चेक स्टोरी को यहां पढ़ सकते हैं.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!