ADVERTISEMENTREMOVE AD

नूपुर शर्मा, कानपुर हिंसा, सीएम योगी और अमित शाह से जुड़े झूठे दावों की पड़ताल

न तो सीएम योगी ने नूपुर शर्मा का समर्थन किया है और न ही अमित शाह ने नूपुर को Z सिक्योरिटी देने के लिए लैटर लिखा

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

पैगंबर मोहम्मद (Prophet Muhammad) पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) की आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद से नूपुर शर्मा विवाद से जोड़कर कई फेक दावे सोशल मीडिया पर वायरल हुए. कभी यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) का 7 साल पुराना वीडियो इस झूठे दावे से शेयर किया गया कि उन्होंने नूपुर शर्मा का समर्थन किया है. तो कभी अमित शाह के नाम पर एक फेक लेटर शेयर कर ये दावा किया गया कि उन्होंने नूपुर शर्मा को Z सिक्योरिटी देने के लिए कहा है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

कानपुर में हुई हिंसा (Kanpur Violence) से जोड़कर भी कई फेक दावे वायरल हुए हैं. जैसे इटावा का पुराना वीडियो कानपुर हिंसा का बता शेयर किया गया. ऐसे ही बरेली का एक और वीडियो भी कानपुर का बताकर शेयर किया गया.

नूपुर शर्मा विवाद के बाद अफगानिस्तान (Afghanistan) की एक महिला एंकर की बुर्के में फोटो शेयर कर ये दावा किया गया कि ये कतर (Qatar) की महिला एंकर है जो भारत में 'अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता' को लेकर चिंता जाहिर कर रही है. ऐसे तमाम दावों की पड़ताल कर क्विंंट की वेबकूफ टीम ने उनका सच बताया.

0

Nupur Sharma के समर्थन में CM Yogi ने दिया बयान?

योगी आदित्यनाथ का सार्वजनिक मंच से बोलते हुए एक वीडियो शेयर कर ये दावा किया गया कि उन्होंने पैगंबर मोहम्मद पर नूपुर शर्मा की टिप्पणी के बाद नूपुर शर्मा का समर्थन किया है.

न तो सीएम योगी ने नूपुर शर्मा का समर्थन किया है और न ही अमित शाह ने नूपुर को Z सिक्योरिटी देने के लिए लैटर लिखा

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

पड़ताल में हमने पाया कि ये वीडियो हाल का नहीं, बल्कि 2015 का है. तब योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद में विश्व हिंदू महासंघ के एक कार्यक्रम के दौरान दूधेश्वरनाथ मंदिर में 2015 में स्पीच दी थी. इस स्पीच का एक छोटा सा हिस्सा गलत दावे से शेयर किया जा रहा है. इसका नूपुर शर्मा विवाद से कोई संबंध नहीं है.

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

ADVERTISEMENT

नूपुर शर्मा को Z सुरक्षा देने के लिए गृहमंत्री अमित शाह ने लिखा पत्र?

गृहमंत्री अमित शाह के बताए जा रहे एक लैटर की कॉपी वायरल हुई. दावा किया गया कि अमित शाह ने ये उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को लैटर लिखकर नूपुर शर्मा को Z सुरक्षा देने के लिए कहा है.

पत्र में लिखा है कि नूपुर शर्मा आरएसएस की विचारधारा का प्रसार करने वाली आइकन हैं. साथ ही, ये भी लिखा है कि वो ''हिंदू राष्ट्र'' के लक्ष्य को प्राप्त करने में अहम भूमिका निभाएंगी.
न तो सीएम योगी ने नूपुर शर्मा का समर्थन किया है और न ही अमित शाह ने नूपुर को Z सिक्योरिटी देने के लिए लैटर लिखा

पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

हमारी पड़ताल में सामने आया कि ये लैटर फेक है. इसी फॉर्मेट में पिछले साल भी एक लेटर वायरल हुआ था. ऐसी कोई विश्वसनीय रिपोर्ट भी अब तक मीडिया में नहीं आई है जिससे पुष्टि होती हो कि नूपुर शर्मा को सरकार ने Z सुरक्षा दी है.

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

ADVERTISEMENTREMOVE AD

Kanpur Violence का बता इटावा का पुराना वीडियो वायरल

कानपुर हिंसा का बताकर एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया गया. वीडियो में एक पुलिसकर्मी फोन पर बात करता नजर आ रहा है और विधायक और जिलाध्यक्ष का जिक्र करते हुए बोल रहा है कि BJP वाले बम लेकर भी आए थे. फोन में पुलिसकर्मी पत्थरबाजी के बारे में बात करता नजर आ रहा है.

न तो सीएम योगी ने नूपुर शर्मा का समर्थन किया है और न ही अमित शाह ने नूपुर को Z सिक्योरिटी देने के लिए लैटर लिखा

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

हालांकि, हमने पाया कि वायरल वीडियो कानपुर का नहीं है. ये वीडियो 2021 का है और यूपी के इटावा का है. तब इटावा में ब्लॉक प्रमुख के चुनाव के दौरान हिंसा हुई थी और एसपी सिटी प्रशांत कुमार प्रसाद का ये वीडियो वायरल हुआ था. तब इटावा एसपी रहे प्रशांत कुमार ने भी क्विंट को बताया कि ये वीडियो कानपुर का नहीं है.

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

ADVERTISEMENT

Kanpur Violence में फायरिंग करते लोगों का बताया जा रहा वीडियो 1 साल पुराना है

कानपुर हिंसा का बताकर एक वीडियो शेयर किया गया, जिसमें भीड़ के बीच 2 लोग हाथ में बंदूक लिए दिख रहे हैं. दावा किया गया कि कानपुर में नमाज के बाद हुए प्रदर्शन और हिंसा के बीच फायरिंग की गई.

न तो सीएम योगी ने नूपुर शर्मा का समर्थन किया है और न ही अमित शाह ने नूपुर को Z सिक्योरिटी देने के लिए लैटर लिखा

पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

हालांकि, पड़ताल में हमने पाया कि वायरल हो रहा वीडियो कानपुर में हुई हालिया हिंसा से एक साल पहले का है और बरेली का है. बरेली पुलिस ने भी आधिकारिक बयान जारी कर स्पष्ट किया है कि 9 मई, 2021 को बरेली के भोजीपुरा इलाके में एक ही समुदाय के लोगों के बीच मीट खरीदने को लेकर विवाद हो गया था. ये वीडियो उसी घटना का है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

Qatar की है बुर्का पहने खबर पढ़ती एंकर की ये तस्वीर?

नूपुर शर्मा की पैगंबर मोहम्मद पर आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर हुए विवाद के बीच सोशल मीडिया पर एक फोटो शेयकर की गई. दावा किया गया कि कतर (Qatar) में बुर्का पहनकर खबर पढ़ रही एंकर ने भारत में 'अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता' को लेकर चिंता जाहिर की.

न तो सीएम योगी ने नूपुर शर्मा का समर्थन किया है और न ही अमित शाह ने नूपुर को Z सिक्योरिटी देने के लिए लैटर लिखा

पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

हमारी पड़ताल में सामने आया कि ये तस्वीर न तो हाल की है और न ही इसका पैगंबर को लेकर बीजेपी प्रवक्ता की तरफ से की गई टिप्पणी से कोई संबंध है. असल में ये फोटो अफगानिस्तान में खबर पढ़ रही महिला एंकर की है.

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9643651818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं )

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×