ADVERTISEMENT

‘पिछले 4 साल में यूपी में नहीं हुआ कोई दंगा’- झूठा है ये दावा

योगी आदित्यनाथ ने दावा किया है कि उत्तर प्रदेश में 2017 के बाद से कोई दंगा नहीं हुआ है

Updated
 योगी आदित्यनाथ ने दावा किया है कि उत्तर प्रदेश में 2017 के बाद से कोई दंगा नहीं हुआ है
i

उत्तर प्रदेश में बीजेपी सरकार के चार साल पूरे होने पर 19 मार्च को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस रखी गई. जिसमें सीएम योगी आदित्यनाथ ने सरकार की सफलताएं गिनाईं. इस दौरान योगी ने फिर ये झूठा दावा किया कि उत्तर प्रदेश में 2017 के बाद से दंगे का कोई मामला सामने नहीं आया.

ये वही उत्तर प्रदेश है जहां कोई भी उत्सव शांति पूर्वक नहीं मनाया जा सकता था. आज, मैं खुशी और गर्व के साथ कह सकता हूं कि पिछले चार सालों में सभी उत्सव और त्योहार शांतिपूर्वक मनाए गए हैं. यही नहीं, पिछले चार सालों में राज्य में कोई दंगा नहीं हुआ है.
योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश

योगी आदित्यनाथ ने यही दावा जनवरी, 2019 में भी किया था. द क्विंट की वेबकूफ टीम समेत कई फैक्ट चेकिंग वेबसाइट्स की पड़ताल में ये दावा झूठा साबित हुआ था.

आंकड़े बताते हैं: यूपी में 5,714 दंगे हुए

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) के साल 2019 के डेटा के मुताबिक यूपी में एक साल में 5,714 दंगों के मामले सामने आए. महाराष्ट्र और बिहार के बाद दंगे के मामले में यूपी तीसरे स्थान पर रहा.  साल 2018 में यूपी दंगे के 8,908 मामलों के साथ तीसरे स्थान पर और साल 2017 में दंगों के 8,990 मामलों के साथ बिहार के बाद दूसरे स्थान पर रहा.

ADVERTISEMENT

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 11 दिसंबर, 2018 को लोकसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए बताया कि साल 2017 में सांप्रदायिक घटनाओं के मामले में यूपी पहले स्थान पर रहा. 2014-16 के बाद राज्य में इस तरह के सबसे ज्यादा मामले सामने आए.

ADVERTISEMENT

सांप्रदायिक दंगों से जुड़ी रिपोर्ट्स पर एक नजर

2018 की कुछ मीडिया रिपोर्ट्स पर ही एक नजर डालें तो सीएम योगी का दावा साफतौर पर भ्रामक नजर आता है. जनवरी 2018 में हिंदू और मुस्लिम समुदाय के लोगों के बीच हुए टकराव से तनाव बढ़ गया था. तीन दुकानें दो बसें और एक कार आगजनी का शिकार हुईं. 112 लोगों की गिरफ्तारी हुई और इस तनाव ने एक शख्स की जान भी ले ली थी.

ADVERTISEMENT

उत्तर प्रदेश पुलिस ने नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में प्रदर्शन कर रहे 135 लोगों पर आजमगढ़ के बिलारियागंज इलाके में दंगा करने के आरोप में मामला भी दर्ज किया था.

उत्तर प्रदेश विधानसभा में एसपी सांसद राकेश प्रताप सिंह के फरवरी 2020 में हुए सीएए आंदोलन से जुड़े एक सवाल का योगी आदित्यनाथ ने लिखित जवाब दिया था. ये जवाब ही योगी के हालिया दावे को झूठा साबित करता है.

न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, उस समय योगी आदित्यनाथ ने बताया था कि, पिछले छह महीने में दंगों में 21 लोगों की जान गई.

योगी आदित्यनाथ ने कहा था-

पिछले छह महीनों में, राज्य में दंगों, विरोध प्रदर्शनों में 21 लोग मारे गए. प्रदर्शनकारियों के पथराव से 400 पुलिसकर्मी घायल हो गए, 61 पुलिसकर्मी गोली लगने से घायल हुए.
ADVERTISEMENT

यूपी में शांतिपूर्वक त्योहारों के दावे का सच

ये दावा तथ्यों की कसौटी पर खरा नहीं उतरता क्योंकि त्योहारों के दौरान भी हिंसा की कई खबरें सामने आई हैं. पीलीभीत में मार्च 2019 में होली के दौरान दो समुदायों के बीच टकराव का मामला सामने आया. इस टकराव में 1 शख्स की जान गई और चार घायल हो गए थे.

सितंबर 2018 में मोहर्रम के दौरान गोरखपुर में भीड़ और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई. इसमें कई लोग घायल भी हुए थे. डेक्कन हैराल्ड की खबर के मुताबिक पथराव कर रही हिंसक भीड़ से निपटने केे लिए पुलिस को लाठीचार्ज और आंसू गैस का इस्तेमाल करना पड़ा था.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, अक्टूबर 2017 में मोहर्रम के दौरान यूपी में झड़प की कई घटनाएंं हुई थीं. बलिया में छह लोग घायल हो गए थे और चार दो पहिया वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया था. वहीं कानपुर में 30 लोग घायल हुए थे और 10 गाड़ियों और दुकानों में आगजनी व तोड़फोड़ हुई थी.

मतलब साफ है - मीडिया रिपोर्ट्स और सरकार के ही आंकड़े ये साबित करते हैं कि यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ का दावा झूठा है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT