ADVERTISEMENT

Safe Abortion Day: मेडिकल अबॉर्शन क्या है? एक्सपर्ट की राय और सावधानियां?

Abortion pills बिना डॉक्टर की सलाह, खाना कई तरह की गंभीर और जानलेवा समस्याएं पैदा कर सकता है.

Updated
फिट
7 min read
Safe Abortion Day: मेडिकल अबॉर्शन क्या है? एक्सपर्ट की राय और सावधानियां?
i

International Safe Abortion Day 2022: इंटरनेशनल सेफ अबॉर्शन डे पर हम ये लेख दोबारा प्रकाशित कर रहे हैं.

कुछ महीनों पहले अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने बुनियादी रूप से देश में अबॉर्शन के संवैधानिक अधिकार को खत्म कर पूरी दुनिया में एक बहस छेड़ दी. ऐसे में अबॉर्शन से जुड़ी बातें सुर्खियों में आ गयी. मां बनना या ना बनना हर एक महिला का निजी मामला है. जहां प्रेग्नेंसी एक महिला के लिए खूबसूरत एहसास है वहीं दूसरी के लिए शारीरिक और मानसिक पीड़ा का कारण भी हो सकता है. कभी अनचाहा गर्भ तो कभी समय और पैसे की किल्लत, कभी मां न बनने की इच्छा (जिसमें कोई बुराई नहीं है) तो कभी गर्भ में पल रहे शिशु का खराब स्वास्थ्य. अबॉर्शन का कारण कुछ भी हो सकता है और उसे सही या गलत ठहराने का हक किसी को नहीं है.

आज हम इस लेख में मेडिकल अबॉर्शन से जुड़ी बातों पर एक्स्पर्ट्स से चर्चा करेंगे.

Safe Abortion Day: मेडिकल अबॉर्शन क्या है? एक्सपर्ट की राय और सावधानियां?

  1. 1. मेडिकल अबॉर्शन क्या है?

    मेडिकल अबॉर्शन वह प्रक्रिया है, जिसके तहत दवाइयों द्वारा अबॉर्शन किया जाता है. जिसमें ये दवाइयां गर्भाशय की लाइनिंग को खत्म कर देती हैं, जिस कारण भ्रूण गर्भाशय से अलग होकर नष्ट हो जाता है.

    “7 हफ्ते तक के ही गर्भ का अबॉर्शन दवाइयों द्वारा संभव है. अगर यह फैल हो जाता है यानी मेडिकल अबॉर्शन के बाद भी कोई टुकड़ा अंदर रह जाता है, तो महिला को हॉस्पिटल में भर्ती करके डॉक्टर द्वारा बेहोशी की हालात में एक माइनर सर्जरी कर टुकड़े को शरीर से बाहर निकाला जाता है. यह प्रक्रिया मेडिकल अबॉर्शन से अलग होती है.”
    डॉ अंजना सिंह, डायरेक्टर एंड हेड - महिला एवं प्रसूति विभाग, फोर्टिस हॉस्पिटल, नॉएडा
    Expand
  2. 2. मेडिकल अबॉर्शन से पहले इन बातों का रखें ख्याल

    अबॉर्शन पिल्स से अबॉर्शन तभी संभव है, जब 4 से 6 वीक तक की प्रेगनेंसी अल्ट्रासाउंड के जरिए यूटेरस में दिखने लगे. लेकिन कई बार महिलाएं खुद ही हिसाब लगाकर सोच लेती है कि इतने वीक हो गए हैं और दवा ले लेती है, जो कि काफी नुकसानदेह है.

    अगर सही ढंग से मॉनिटरिंग नहीं हुई हो और इन अबॉर्शन पिल्स को जल्दी ले लिया गया हो तो यह काम ही नहीं करती हैं. इसलिए खुद से कैलकुलेट कर अपना इलाज न करें. डॉक्टर से मिलें और अल्ट्रासाउंड करवाएं.

    क्या अबॉर्शन सही रहेगा, कब अबॉर्शन की प्रक्रिया होनी चाहिए, कब अल्ट्रासाउंड करना है, अबॉर्शन पिल्स खाने के बाद भी कहीं कुछ बाकी तो नहीं रह गया, कब दोबारा प्रेगनेंसी की प्लानिंग करनी चाहिए ऐसी ही कई सावधानियों के लिए डॉक्टर के देखरेख में ही अबॉर्शन कराना जरुरी है.
    “जो भी महिला अपनी प्रेगनेंसी आगे नहीं बढ़ाना चाहती हैं, वो डॉक्टर द्वारा दी गयी गोलियां खा कर प्रेगनेंसी खत्म कर सकती हैं. मेडिकल अबॉर्शन क्लिनिक/हॉस्पिटल या घर में किया जा सकता है. दूसरा है सर्जिकल अबॉर्शन, जो डॉक्टर द्वारा हॉस्पिटल में किया जाता है क्योंकि उसके लिए एनेस्थीसिया दे कर बेहोश किया जाता है. एक माइनर सर्जरी होती है, पर उसमें हर तरह की सावधानी बरतनी जरुरी है.”
    डॉ यशिका गुडेसर, एचओडी और कन्सल्टंट - गायनकॉलिजस्ट, एचसीएमसीटी मणिपाल अस्पताल, द्वारका

    अबॉर्शन पिल्स लेने से पहले प्रेगनेंसी की सही स्थिति जानने के लिए डॉक्टर से मिलें. एक अल्ट्रासाउंड किया जाता है, जिसमें गर्भ का साइज देखा जाता है और साथ में यह भी देखा जाता है कि कहीं प्रेगनेंसी फैलोपियन ट्यूब में तो नहीं है यानी कि एक्टोपिक प्रेगनेंसी या अस्थानिक गर्भावस्था तो नहीं है. साथ ही अगर महिला हार्ट प्राब्लम, डायबिटीज, अस्थमा, एनीमिया जैसी बीमारी से पीड़ित हैं, तो ये पिल्स नहीं लेने की सलाह दी जाती है.

    मेडिकल अबॉर्शन से पहले और उसके बाद अल्ट्रासाउंड करना बेहद जरुरी है.
    Expand
  3. 3. मेडिकल अबॉर्शन डॉक्टर की सलाह से ही किया जाना चाहिए 

    डॉ यशिका कहती हैं, “हमारे पास अबॉर्शन के लिए 2 तरह की महिला मरीज आती हैं, एक शादीशुदा (married) और दूसरी गैर शादीशुदा (unmarried). जो 18 साल से बड़ी गैर शादीशुदा होती हैं, हम उन्हें जांच के बाद अबॉर्शन पिल्स दे देते हैं, वैसे ही जैसे शादीशुदा महिला को अबॉर्शन की इच्छा जताने पर जांच के बाद दी जाती है. मेरे पास औसतन दिन में 1 मरीज तो अबॉर्शन के लिए आती ही है, जिसमें शादीशुदा और गैर शादीशुदा की संख्या लगभग बराबर होती है.”

    अबॉर्शन पिल्स डॉक्टर की सलाह और बताए गए निर्देशों के अनुसार ही ली जानी चाहिए.

    मेडिकल अबॉर्शन डॉक्टर से संपर्क और सुझाव के बाद ही करना चाहिए. बिना डॉक्टर की सलाह और निगरानी में किया गया मेडिकल अबॉर्शन कई बार जानलेवा भी साबित हो सकता है.

    हमारे देश में ऐसा भी होता है कि लोग डॉक्टर से जांच कराए बिना सीधे केमिस्ट यानी दवा की दुकान से अबॉर्शन पिल खरीद कर खा लेते हैं. ऐसा करना खतरनाक साबित हो सकता है. कई तरह की जटिलताएं हो सकती है, यहां तक कि बात जान पर भी आ सकती है.

    “ऐसा भी होता है डॉक्टर से बिना जांच कराए अपने मन से अबॉर्शन पिल खाने के बाद ब्लीडिंग तो शुरू हो जाती है, पर प्रेगनेंसी तब भी बनी रहती है. बीते दिनों मेरे पास एक महिला आयी थी, जिसने 3 महीने पहले अबॉर्शन पिल खाया था पर उसकी प्रेगनेंसी तब भी बनी हुई थी. दवा खाने के बाद उसने अल्ट्रासाउंड नहीं कराया था जिसकी वजह से उसे प्रेगनेंसी के बने रहने की बात का पता नहीं चला था. अगर अबॉर्शन पिल खाने के बाद भी प्रेगनेंसी बनी रहती है, तो ऐसे में बच्चा अपाहिज भी पैदा हो सकता है.”
    डॉ यशिका गुडेसर
    Expand
  4. 4. अबॉर्शन पिल्स लेने के बाद रखें इन बातों का ख्याल

    हमारे एक्स्पर्ट्स के अनुसार, मेडिकल अबॉर्शन अगर डॉक्टर की साल से किया जाए तो समस्या आने की आशंका न के बराबर रहती है. मेडिकल अबॉर्शन की दवा के साइड इफेक्ट के कारण किसी किसी महिला में दवा से ऐलर्जी, बुखार, कंपकपी, डायरिया, कमजोरी जैसे लक्षण देखने को मिल सकते हैं.

    • अपने खान-पान का ध्यान रखना चाहिए, जिससे कि कमजोरी दूर हो सके. किसी-किसी को ब्लीडिंग अधिक होती है. ऐसे समय पर थोड़ा आराम करना अच्छा होगा.

    • सामान्य दिनचर्या बनाए रखना चाहिए.

    • मेडिकल अबॉर्शन के बाद डॉक्टर के बताए समय पर अल्ट्रासाउंड जरुर कराना चाहिए ताकि आगे चल कर किसी तरह की समस्या का सामना न करना पड़े.

    • मान लें, अबॉर्शन पिल्स लेने के बाद भी अबॉर्शन नहीं हुआ, तो इसके बाद डॉक्टर की सलाह से सर्जिकल अबॉर्शन करवा लेना चाहिए.

    • अगर बहुत ज्यादा ब्लीडिंग हो रही है और साथ में बुखार भी है, तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं.

    • दिनचर्या में अधिक समस्या आने पर डॉक्टर से संपर्क करें.

    • मेडिकल अबॉर्शन के बाद गर्भनिरोध के तरीकों का इस्तेमाल जरुर करें.

    “मेडिकल अबॉर्शन अगर सही तरीके और पूरी तरह से नहीं हुआ हो तो पीरियड्स में अनियमिता आ सकती है. जो लोग गर्भनिरोध इस्तेमाल नहीं कर रहे होते हैं, उन्हें उसके इस्तेमाल की सलाह दी जाती है. क्योंकि कई बार ऐसा देखा गया है कि गर्भनिरोध इस्तेमाल नहीं करने के कारण अबॉर्शन के 15 दिनों बाद नई प्रेगनेंसी शुरू हो जाती है. जब कि कम से कम 3 महीने का अंतर होना चाहिए अबॉर्शन और प्रेगनेंसी के बीच.”
    डॉ यशिका गुडेसर
    Expand
  5. 5. मेडिकल अबॉर्शन इन हालातों में यह जानलेवा साबित हो सकती है

    मेडिकल अबॉर्शन हाई रिस्क मरीजों के लिए नहीं है. अगर करना ही है, तो उन्हें डॉक्टर की निगरानी में हॉस्पिटल में एडमिट हो कर ही इस प्रक्रिया से गुजरना चाहिए.

    बिना डॉक्टर की सलाह और जांच के मेडिकल अबॉर्शन घातक साबित हो सकता है खास कर उन महिलाओं के लिए जो हाई रिस्क मरीज हों. एनिमिया के मरीजों के लिए मेडिकल अबॉर्शन खतरनाक साबित हो सकता है. अगर कोई महिला एनिमिया से ग्रसित है, तो मेडिकल अबॉर्शन से पहले ब्लड चढ़ाना बेहद जरुरी है. ब्लड चढ़ाए बिना मेडिकल अबॉर्शन नहीं किया जा सकता है. एनिमिया ग्रसित महिला अगर बिना डॉक्टर की सलाह और जांच के अबॉर्शन पिल का सेवन कर लें तो वो उसके लिए जानलेवा साबित हो सकता है.

    • अबॉर्शन प्रक्रिया के दौरान अधिक मात्रा में ब्लीडिंग होने से

    • फैलोपियन ट्यूब में प्रेग्नन्सी होने से मेडिकल अबॉर्शन के कारण ट्यूब फटने की आशंका होती है

    • हार्ट प्राब्लम

    • डायबिटीज

    • अस्थमा

    • एनीमिया

    अगर किसी महिला का हीमोग्लोबिन 8 ग्राम से कम है तो डॉक्टर उसे मेडिकल अबॉर्शन करने की सलाह नहीं दे सकता है. ऐसी महिला हाई रिस्क कैटेगरी में गिनी जाती है. मेडिकल अबॉर्शन ऐसी महिलाओं के लिए है रिस्की जो एनिमिया, हार्ट प्रॉब्लम, दवाओं से ऐलर्जी और अन्य गंभीर बीमारी से जूझ रही हों.

    मेडिकल अबॉर्शन की सफलता दर

    डॉक्टरों के अनुसार, मेडिकल अबॉर्शन की सफलता दर 85-90% होती है अगर सही समय पर, डॉक्टर की सलाह से किया जाए तो. मेडिकल अबॉर्शन की असफलता बिना डॉक्टर की सलाह दवा लेने वालों में बहुत ज्यादा देखी जाती है.

    Expand
  6. 6. अबॉर्शन भारत में कानूनी है

    डॉ अंजना सिंह बताती हैं, “हमारे देश भारत में अबॉर्शन ‘मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी कानून (MTP - 1971) के अनुसार महिलाओं को अबॉर्शन का अधिकार प्राप्त है. फिर वो चाहे शादीशुदा हों या गैर शादीशुदा”.

    संक्षेप में जानते हैं MTP कानून में आए बदलाव के बारे में.

    • विशेष परिस्थितियों में अबॉर्शन की अवधि को 20 हफ्ते से 24 हफ्ते कर दिया गया है . इन परिस्थितियों में रेप के द्वारा ठहरे गर्भ, इन्सेस्ट के गर्भ, शारीरिक रूप से अक्षम गर्भधारक, नाबालिग गर्भधारण, और फिर असामान्य गर्भधारण जैसे हालात को शामिल किया गया है.

    • एक नई बात जो जुड़ी है, वो यह है कि अगर गर्भ में पल रहे बच्चे में कोई बड़ी समस्या है, तो कोर्ट में अपील करके 24 हफ्ते के बाद भी अबॉर्शन कराने की अनुमति ली जा सकती हैं.

    • 20 हफ्ते से कम की प्रेगनेंसी में 1 गायनकॉलिजस्ट की सलाह और देखरेख से अबॉर्शन कराया जा सकता है लेकिन अगर प्रेगनेंसी 20 हफ्ते से ज्यादा की है, तो 2 गायनकॉलिजस्ट की सलाह से ही अबॉर्शन कराया जा सकता है.

    • अबॉर्शन करने वाली महिला का नाम और उसकी पहचान को गुप्त रखने की बात कानून में कही गयी है.

    प्रत्येक महिला को MTP ACT का पालन करते हुए अबॉर्शन का अधिकार प्राप्त है. इससे गैर कानूनी अबॉर्शन पर रोक लगने में मदद मिलेगी.

    सुरक्षित और निगरानी वाले अबॉर्शन के विकल्प हमेशा खुले और आसान होने चाहिए ताकि गर्भवती महिलाओं में अनचाही प्रेगनेंसी को ले कर डर या घबराहट का माहौल न बने. ऐसा नहीं होने पर महिलाएं समस्या से नीयतने के लिए स्तिथि को अपने हाथ में लेंगी, और मेडिकल गाइडेंस के बिना विकल्पों की तलाश करने के लिए मजबूर होंगी, जो उनकी सुरक्षा सुनिश्चित कर सकते हैं.

    (हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

    Expand

मेडिकल अबॉर्शन क्या है?

मेडिकल अबॉर्शन वह प्रक्रिया है, जिसके तहत दवाइयों द्वारा अबॉर्शन किया जाता है. जिसमें ये दवाइयां गर्भाशय की लाइनिंग को खत्म कर देती हैं, जिस कारण भ्रूण गर्भाशय से अलग होकर नष्ट हो जाता है.

“7 हफ्ते तक के ही गर्भ का अबॉर्शन दवाइयों द्वारा संभव है. अगर यह फैल हो जाता है यानी मेडिकल अबॉर्शन के बाद भी कोई टुकड़ा अंदर रह जाता है, तो महिला को हॉस्पिटल में भर्ती करके डॉक्टर द्वारा बेहोशी की हालात में एक माइनर सर्जरी कर टुकड़े को शरीर से बाहर निकाला जाता है. यह प्रक्रिया मेडिकल अबॉर्शन से अलग होती है.”
डॉ अंजना सिंह, डायरेक्टर एंड हेड - महिला एवं प्रसूति विभाग, फोर्टिस हॉस्पिटल, नॉएडा
ADVERTISEMENT

मेडिकल अबॉर्शन से पहले इन बातों का रखें ख्याल

अबॉर्शन पिल्स से अबॉर्शन तभी संभव है, जब 4 से 6 वीक तक की प्रेगनेंसी अल्ट्रासाउंड के जरिए यूटेरस में दिखने लगे. लेकिन कई बार महिलाएं खुद ही हिसाब लगाकर सोच लेती है कि इतने वीक हो गए हैं और दवा ले लेती है, जो कि काफी नुकसानदेह है.

अगर सही ढंग से मॉनिटरिंग नहीं हुई हो और इन अबॉर्शन पिल्स को जल्दी ले लिया गया हो तो यह काम ही नहीं करती हैं. इसलिए खुद से कैलकुलेट कर अपना इलाज न करें. डॉक्टर से मिलें और अल्ट्रासाउंड करवाएं.

क्या अबॉर्शन सही रहेगा, कब अबॉर्शन की प्रक्रिया होनी चाहिए, कब अल्ट्रासाउंड करना है, अबॉर्शन पिल्स खाने के बाद भी कहीं कुछ बाकी तो नहीं रह गया, कब दोबारा प्रेगनेंसी की प्लानिंग करनी चाहिए ऐसी ही कई सावधानियों के लिए डॉक्टर के देखरेख में ही अबॉर्शन कराना जरुरी है.
“जो भी महिला अपनी प्रेगनेंसी आगे नहीं बढ़ाना चाहती हैं, वो डॉक्टर द्वारा दी गयी गोलियां खा कर प्रेगनेंसी खत्म कर सकती हैं. मेडिकल अबॉर्शन क्लिनिक/हॉस्पिटल या घर में किया जा सकता है. दूसरा है सर्जिकल अबॉर्शन, जो डॉक्टर द्वारा हॉस्पिटल में किया जाता है क्योंकि उसके लिए एनेस्थीसिया दे कर बेहोश किया जाता है. एक माइनर सर्जरी होती है, पर उसमें हर तरह की सावधानी बरतनी जरुरी है.”
डॉ यशिका गुडेसर, एचओडी और कन्सल्टंट - गायनकॉलिजस्ट, एचसीएमसीटी मणिपाल अस्पताल, द्वारका

अबॉर्शन पिल्स लेने से पहले प्रेगनेंसी की सही स्थिति जानने के लिए डॉक्टर से मिलें. एक अल्ट्रासाउंड किया जाता है, जिसमें गर्भ का साइज देखा जाता है और साथ में यह भी देखा जाता है कि कहीं प्रेगनेंसी फैलोपियन ट्यूब में तो नहीं है यानी कि एक्टोपिक प्रेगनेंसी या अस्थानिक गर्भावस्था तो नहीं है. साथ ही अगर महिला हार्ट प्राब्लम, डायबिटीज, अस्थमा, एनीमिया जैसी बीमारी से पीड़ित हैं, तो ये पिल्स नहीं लेने की सलाह दी जाती है.

मेडिकल अबॉर्शन से पहले और उसके बाद अल्ट्रासाउंड करना बेहद जरुरी है.
ADVERTISEMENT

मेडिकल अबॉर्शन डॉक्टर की सलाह से ही किया जाना चाहिए 

डॉ यशिका कहती हैं, “हमारे पास अबॉर्शन के लिए 2 तरह की महिला मरीज आती हैं, एक शादीशुदा (married) और दूसरी गैर शादीशुदा (unmarried). जो 18 साल से बड़ी गैर शादीशुदा होती हैं, हम उन्हें जांच के बाद अबॉर्शन पिल्स दे देते हैं, वैसे ही जैसे शादीशुदा महिला को अबॉर्शन की इच्छा जताने पर जांच के बाद दी जाती है. मेरे पास औसतन दिन में 1 मरीज तो अबॉर्शन के लिए आती ही है, जिसमें शादीशुदा और गैर शादीशुदा की संख्या लगभग बराबर होती है.”

अबॉर्शन पिल्स डॉक्टर की सलाह और बताए गए निर्देशों के अनुसार ही ली जानी चाहिए.

मेडिकल अबॉर्शन डॉक्टर से संपर्क और सुझाव के बाद ही करना चाहिए. बिना डॉक्टर की सलाह और निगरानी में किया गया मेडिकल अबॉर्शन कई बार जानलेवा भी साबित हो सकता है.

हमारे देश में ऐसा भी होता है कि लोग डॉक्टर से जांच कराए बिना सीधे केमिस्ट यानी दवा की दुकान से अबॉर्शन पिल खरीद कर खा लेते हैं. ऐसा करना खतरनाक साबित हो सकता है. कई तरह की जटिलताएं हो सकती है, यहां तक कि बात जान पर भी आ सकती है.

“ऐसा भी होता है डॉक्टर से बिना जांच कराए अपने मन से अबॉर्शन पिल खाने के बाद ब्लीडिंग तो शुरू हो जाती है, पर प्रेगनेंसी तब भी बनी रहती है. बीते दिनों मेरे पास एक महिला आयी थी, जिसने 3 महीने पहले अबॉर्शन पिल खाया था पर उसकी प्रेगनेंसी तब भी बनी हुई थी. दवा खाने के बाद उसने अल्ट्रासाउंड नहीं कराया था जिसकी वजह से उसे प्रेगनेंसी के बने रहने की बात का पता नहीं चला था. अगर अबॉर्शन पिल खाने के बाद भी प्रेगनेंसी बनी रहती है, तो ऐसे में बच्चा अपाहिज भी पैदा हो सकता है.”
डॉ यशिका गुडेसर
ADVERTISEMENT

अबॉर्शन पिल्स लेने के बाद रखें इन बातों का ख्याल

हमारे एक्स्पर्ट्स के अनुसार, मेडिकल अबॉर्शन अगर डॉक्टर की साल से किया जाए तो समस्या आने की आशंका न के बराबर रहती है. मेडिकल अबॉर्शन की दवा के साइड इफेक्ट के कारण किसी किसी महिला में दवा से ऐलर्जी, बुखार, कंपकपी, डायरिया, कमजोरी जैसे लक्षण देखने को मिल सकते हैं.

  • अपने खान-पान का ध्यान रखना चाहिए, जिससे कि कमजोरी दूर हो सके. किसी-किसी को ब्लीडिंग अधिक होती है. ऐसे समय पर थोड़ा आराम करना अच्छा होगा.

  • सामान्य दिनचर्या बनाए रखना चाहिए.

  • मेडिकल अबॉर्शन के बाद डॉक्टर के बताए समय पर अल्ट्रासाउंड जरुर कराना चाहिए ताकि आगे चल कर किसी तरह की समस्या का सामना न करना पड़े.

  • मान लें, अबॉर्शन पिल्स लेने के बाद भी अबॉर्शन नहीं हुआ, तो इसके बाद डॉक्टर की सलाह से सर्जिकल अबॉर्शन करवा लेना चाहिए.

  • अगर बहुत ज्यादा ब्लीडिंग हो रही है और साथ में बुखार भी है, तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं.

  • दिनचर्या में अधिक समस्या आने पर डॉक्टर से संपर्क करें.

  • मेडिकल अबॉर्शन के बाद गर्भनिरोध के तरीकों का इस्तेमाल जरुर करें.

“मेडिकल अबॉर्शन अगर सही तरीके और पूरी तरह से नहीं हुआ हो तो पीरियड्स में अनियमिता आ सकती है. जो लोग गर्भनिरोध इस्तेमाल नहीं कर रहे होते हैं, उन्हें उसके इस्तेमाल की सलाह दी जाती है. क्योंकि कई बार ऐसा देखा गया है कि गर्भनिरोध इस्तेमाल नहीं करने के कारण अबॉर्शन के 15 दिनों बाद नई प्रेगनेंसी शुरू हो जाती है. जब कि कम से कम 3 महीने का अंतर होना चाहिए अबॉर्शन और प्रेगनेंसी के बीच.”
डॉ यशिका गुडेसर
ADVERTISEMENT

मेडिकल अबॉर्शन इन हालातों में यह जानलेवा साबित हो सकती है

मेडिकल अबॉर्शन हाई रिस्क मरीजों के लिए नहीं है. अगर करना ही है, तो उन्हें डॉक्टर की निगरानी में हॉस्पिटल में एडमिट हो कर ही इस प्रक्रिया से गुजरना चाहिए.

बिना डॉक्टर की सलाह और जांच के मेडिकल अबॉर्शन घातक साबित हो सकता है खास कर उन महिलाओं के लिए जो हाई रिस्क मरीज हों. एनिमिया के मरीजों के लिए मेडिकल अबॉर्शन खतरनाक साबित हो सकता है. अगर कोई महिला एनिमिया से ग्रसित है, तो मेडिकल अबॉर्शन से पहले ब्लड चढ़ाना बेहद जरुरी है. ब्लड चढ़ाए बिना मेडिकल अबॉर्शन नहीं किया जा सकता है. एनिमिया ग्रसित महिला अगर बिना डॉक्टर की सलाह और जांच के अबॉर्शन पिल का सेवन कर लें तो वो उसके लिए जानलेवा साबित हो सकता है.

  • अबॉर्शन प्रक्रिया के दौरान अधिक मात्रा में ब्लीडिंग होने से

  • फैलोपियन ट्यूब में प्रेग्नन्सी होने से मेडिकल अबॉर्शन के कारण ट्यूब फटने की आशंका होती है

  • हार्ट प्राब्लम

  • डायबिटीज

  • अस्थमा

  • एनीमिया

अगर किसी महिला का हीमोग्लोबिन 8 ग्राम से कम है तो डॉक्टर उसे मेडिकल अबॉर्शन करने की सलाह नहीं दे सकता है. ऐसी महिला हाई रिस्क कैटेगरी में गिनी जाती है. मेडिकल अबॉर्शन ऐसी महिलाओं के लिए है रिस्की जो एनिमिया, हार्ट प्रॉब्लम, दवाओं से ऐलर्जी और अन्य गंभीर बीमारी से जूझ रही हों.

मेडिकल अबॉर्शन की सफलता दर

डॉक्टरों के अनुसार, मेडिकल अबॉर्शन की सफलता दर 85-90% होती है अगर सही समय पर, डॉक्टर की सलाह से किया जाए तो. मेडिकल अबॉर्शन की असफलता बिना डॉक्टर की सलाह दवा लेने वालों में बहुत ज्यादा देखी जाती है.

ADVERTISEMENT

अबॉर्शन भारत में कानूनी है

डॉ अंजना सिंह बताती हैं, “हमारे देश भारत में अबॉर्शन ‘मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी कानून (MTP - 1971) के अनुसार महिलाओं को अबॉर्शन का अधिकार प्राप्त है. फिर वो चाहे शादीशुदा हों या गैर शादीशुदा”.

संक्षेप में जानते हैं MTP कानून में आए बदलाव के बारे में.

  • विशेष परिस्थितियों में अबॉर्शन की अवधि को 20 हफ्ते से 24 हफ्ते कर दिया गया है . इन परिस्थितियों में रेप के द्वारा ठहरे गर्भ, इन्सेस्ट के गर्भ, शारीरिक रूप से अक्षम गर्भधारक, नाबालिग गर्भधारण, और फिर असामान्य गर्भधारण जैसे हालात को शामिल किया गया है.

  • एक नई बात जो जुड़ी है, वो यह है कि अगर गर्भ में पल रहे बच्चे में कोई बड़ी समस्या है, तो कोर्ट में अपील करके 24 हफ्ते के बाद भी अबॉर्शन कराने की अनुमति ली जा सकती हैं.

  • 20 हफ्ते से कम की प्रेगनेंसी में 1 गायनकॉलिजस्ट की सलाह और देखरेख से अबॉर्शन कराया जा सकता है लेकिन अगर प्रेगनेंसी 20 हफ्ते से ज्यादा की है, तो 2 गायनकॉलिजस्ट की सलाह से ही अबॉर्शन कराया जा सकता है.

  • अबॉर्शन करने वाली महिला का नाम और उसकी पहचान को गुप्त रखने की बात कानून में कही गयी है.

प्रत्येक महिला को MTP ACT का पालन करते हुए अबॉर्शन का अधिकार प्राप्त है. इससे गैर कानूनी अबॉर्शन पर रोक लगने में मदद मिलेगी.

सुरक्षित और निगरानी वाले अबॉर्शन के विकल्प हमेशा खुले और आसान होने चाहिए ताकि गर्भवती महिलाओं में अनचाही प्रेगनेंसी को ले कर डर या घबराहट का माहौल न बने. ऐसा नहीं होने पर महिलाएं समस्या से नीयतने के लिए स्तिथि को अपने हाथ में लेंगी, और मेडिकल गाइडेंस के बिना विकल्पों की तलाश करने के लिए मजबूर होंगी, जो उनकी सुरक्षा सुनिश्चित कर सकते हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, fit के लिए ब्राउज़ करें

टॉपिक:  Abortion   Medical abortion 

ADVERTISEMENT
Published: 
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×