ADVERTISEMENT

मां की मेंटल हेल्थ का ख्याल रखना क्यों है जरूरी? बता रहे हैं एक्सपर्ट

बच्चे की जिम्मेदारी माता-पिता को मिल कर उठानी चाहिए. जब भी जिम्मेदारी कोई एक उठाएगा तो परिणाम खराब आने ही हैं.

Published
फिट
7 min read
मां की मेंटल हेल्थ का ख्याल रखना क्यों है जरूरी? बता रहे हैं एक्सपर्ट
i

पिछले हफ्ते बेंगलुरु की घटना ने एक बार फिर मांओं के मानसिक स्वास्थ्य पर सवाल खड़े कर दिए हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, महिला ने अपनी 4 साल की बच्ची को अपार्टमेंट की चौथी मंजिल से नीचे फेंक दिया, जिससे बच्ची की मौत हो गई.

इसके बाद महिला ने भी वहां से कूदने की कोशिश की पर, उन्हें बचा लिया गया. पूरी घटना अपार्टमेंट में लगे CCTV कैमरे में रिकॉर्ड हुई है.

ADVERTISEMENT

क्या है केस? 

रिपोर्ट्स के अनुसार, कुछ महीनों पहले भी महिला ने बोलने-सुनने में अक्षम बच्ची को रेलवे स्टेशन पर छोड़ने की कोशिश की थी.

पुलिस ने 5 अगस्त को अपने अपार्टमेंट की बालकनी से बच्चे को नीचे फेंकने वाली मां की सीसीटीवी फुटेज हासिल की. कथित वीडियो में मां इस हरकत के बाद बालकनी से नीचे देखती नजर आ रही है. वह बालकनी की रेलिंग पर चढ़ती भी दिख रही है, जिसे अब आत्महत्या का प्रयास माना जा रहा है. पड़ोसियों ने उसे बचा लिया.

बेंगलुरु में हुई इस घटना में जिस महिला का जिक्र किया जा रहा है, वो पेशे से डेंटिस्ट हैं. ऐसा क्या हुआ जो एक पढ़ी-लिखी महिला ने इतना बड़ा कदम उठाया? मांओं के मानसिक स्वास्थ्य स्थिति को क्या हम सभी गंभीरता से लेते हैं? शारीरिक या मानसिक रूप से अस्वस्थ बच्चे के माता-पिता की मानसिक स्थिति क्या होती है? क्या जरूरी कदम उठाने चाहिए, जिससे किसी अप्रिय घटना को रोका जा सके? क्या परिवार और समाज अपनी जिम्मेदारी सही तरीके से उठा रहा है?

ऐसे कई सवाल हम नें हमारे एक्स्पर्ट्स से पूछे. आइए जानते हैं जवाब.

एक्स्पर्ट के अनुसार, डिलीवरी के बाद 1 से 2 हफ्ते में बेबी ब्‍लूज चला जाता है, लेकिन पोस्‍टपार्टम डिप्रेशन लंबे समय तक चलता है और अगर इलाज न किया जाए तो यह और लंबे समय तक चल सकता है.

शारीरिक या मानसिक रूप से अस्वस्थ बच्चे के माता-पिता

हर बच्चा अलग होता है और उसकी समस्याएं अलग होती हैं. उन समस्याओं से डील करने का तरीका भी सबके लिए अलग-अलग होता है.

सर गंगाराम हॉस्पिटल, दिल्ली के चाइल्ड साइकेट्रिस्ट, डॉ दीपक गुप्ता ने फिट हिंदी को बताया, "ऐसे बच्चों के केस में सही है कि मां और बाकी परिवार वालों के मेंटल हेल्थ पर भी असर पड़ता है और ऐसे में मां को डिप्रेशन होना कॉमन है. इसलिए जरूरी है कि सही समय पर सही मदद ली जाए (थेरपी). अक्सर ऐसे में मां सिर्फ बच्चे को देखती रह जाती है और अपने फिजिकल और मेंटल हेल्थ का ध्यान नहीं रखती है. लेकिन ऐसे में जरूरी है कि मां (या अन्य परिवार वाले) अगर मायूसी या डिप्रेशन से जूझ रही है, तो उसे साइकाइट्रिस्ट से मदद दिलाएं".

ऐसे बच्चों के माता-पिता का स्ट्रेस बहुत अधिक होता है. उनके लिए हर दिन चुनौती भरा होता है.

"जन्म के पहले कुछ महीने तो वैसे ही बहुत चुनौतीपूर्ण होते हैं. मां के ऊपर बहुत तरह का प्रेशर रहता है और जब धीरे- धीरे उसे समझ आता है कि उसका बच्चा किसी तरह की परेशानी का सामना कर रहा है, तो माता-पिता दोनों के लिए यह बहुत मुश्किल हो जाता है. उनके ऊपर मेंटल प्रेशर बहुत ज्यादा हो जाता है, इस बात को स्वीकार करने और उसके साथ डील करने में."
डॉ रचना खन्ना सिंह, एक्सपर्ट, मेंटल वेलनेस एंड रिलेशनशिप, आर्टेमिस हॉस्पिटल
दूसरे बच्चों के माता-पिता की तुलना ऐसे बच्चों के माता-पिता का स्ट्रेस लेवल कही ज्यादा होता है. खासकर मां जो बच्चे कि प्राइमरी केयरगिवर होती है.

हर दिन लगातार अपनी, परिवार और बच्चे की असामान्य समस्याओं से जूझते हुए मां मानसिक रोग का शिकार हो सकती है.

ADVERTISEMENT

ऐसे में क्या करें माता-पिता

"3-4 साल की उम्र के बाद पता चले की बच्चे को कोई परेशानी है, तो ऐसे में माता-पिता के मेंटल हेल्थ की स्थिति समझना हर किसी के लिए संभव नहीं है."
डॉ रचना खन्ना सिंह, एक्सपर्ट, मेंटल वेलनेस एंड रिलेशनशिप, आर्टेमिस हॉस्पिटल

डॉ दीपक गुप्ता के अनुसार, अक्षमता (disability) के रूप और डिग्री पर निर्भर करता है माता-पिता को क्या करना चाहिए और क्या नहीं. वो आगे कहते हैं, "हमारे पास कुछ बच्चे आते हैं, जिनमें बहुत कम दिक्कत होती है और कुछ ऐसे आते हैं, जिनमें ज्यादा दिक्कत होती है. ऐसे केस में हमें थेरपिस्ट को इन्वॉल्व करना पड़ता है. ये थेरपिस्ट मां-पिता के साथ मिल कर काम करते हैं ,जैसे कि ऑक्युपेशनल या बिहेव्यरल थेरपिस्ट".

  • ये थेरपिस्ट बच्चों के साथ काम करते हैं और माता-पिता को गाइड करते हैं. लेकिन साथ ही जरूरी है कि माता-पिता संयम और सबर रखें और थेरपिस्ट की बताई बातों पर अमल करें.

  • बच्चों को अप्रीशिएट करना और बढ़ावा देना क्योंकि डिसबिलिटी वाले बच्चों मे धीरे-धीरे फर्क आता है. ऐसे बच्चों को सारे स्कूल पहले तो लेते नहीं हैं, लेकिन जो स्कूल इन्हें अड्मिशन देते हैं उनके साथ मिल-जुल कर काम करना होता है. स्कूल में ये बताना होता है कि बच्चे को क्या परेशानी है. कुछ स्कूल ज्यादा सहयोग देते हैं, तो कुछ बिल्कुल ही नहीं.

  • साथ ही जरूरी है एक डायरी मेन्टेन करना, जिसमें सारी दिक्कतें और सुधार नोट करना है और इसे थेरपिस्ट के साथ शेयर करना.

"बच्चे को परेशानी है ही लेकिन उसका ध्यान रखने वाली मां को तनाव कहीं ज्यादा होता है. उसे अपनी परेशानियों के साथ-साथ बच्चे की बीमारी या उससे जुड़ा स्ट्रेस ले कर रोज जीना पड़ता है. यहां पर मां का मेंटल हेल्थ सही रहना बहुत जरुरी और चुनौतिपूर्ण हो जाता है."
डॉ रचना खन्ना सिंह, एक्सपर्ट, मेंटल वेलनेस एंड रिलेशनशिप, आर्टेमिस हॉस्पिटल
केयरगिवर के ऊपर भी बहुत स्ट्रेस होता है, उनका ध्यान रखना भी बहुत जरूरी है.
ADVERTISEMENT

माता-पिता रखें इन बातों का ध्यान

इसमें जरूरी है कि पति और पत्नी दोनों साथ मिल कर जिम्मेदारी उठाएं. मेडिकल स्टेप्स हों या अपॉइंटमेंट हों और साथ ही एक दूसरे की भी देखभाल भी करें.
  • ऐसे हालात में अपने मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य का ध्यान रखना माता-पिता की जिम्मेदारी बन जाती है

  • रोज व्यायाम करें

  • मेडिटेशन करें

  • पैनिक नहीं करें और अपना संयम बनाए रखें

  • परिवार और दोस्तों का सपोर्ट लें

  • सोशल सपोर्ट लेना भी जरुरी है

  • एक जैसी समस्या से लड़ते हुए लोगों के सोशल सपोर्ट ग्रूप का हिस्सा बनना भी काम आता है

  • स्कूल/टीचर से सपोर्ट लेना भी जरुरी है

  • इस तरह के हालात से जूझते दूसरे माता-पिता से संपर्क में रहना और एक दूसरे को सपोर्ट देना भी एक सही कदम है

  • माता-पिता को काउंसलिंग/थेरपी लेना बहुत जरुरी है. उन्हें अपने मेंटल स्ट्रेस और हेल्थ का ध्यान रखना आना चाहिए तभी वो बच्चे को संभाल पाएंगे

  • पति-पत्नी में तालमेल होना चाहिए और एक दूसरे का सपोर्ट बनाना चाहिए

एक्स्पर्ट ने कहा, अपना ध्यान रखना बहुत जरूरी है तभी बच्चे का ध्यान रखा जा सकता है. पार्ट्नर का साथ होना बहुत जरूरी है, सही डॉक्टर और बच्चे का इलाज कराएं. आजकल ऐसी कोई बीमारी नहीं है, जिसका इलाज नहीं कर सकते या मैनेज नहीं कर सकते.
"माता-पिता अक्सर ऐसी स्थिति में परेशान हो जाते हैं, हताश हो जाते हैं. ऐसे में जरूरी है खुद पर विश्वास रखना. चाहे जो हो मुसीबत का सामना करेंगे और अपने बच्चे की ताकत बनेंगे. जरूरी ये भी है कि माता-पिता एक दूसरे को सपोर्ट करें. इस तरह के मामले कुछ दिनों में ठीक नहीं होते, इनमें लंबा समय लगता है इसलिए जरूरी है कि पेरेंट्स इस समय एक दूसरे का सहारा बनें."
डॉ दीपक गुप्ता, चाइल्ड साइकेट्रिस्ट, सर गंगाराम हॉस्पिटल, दिल्ली
घर परिवार, नौकरी और अस्वस्थ बच्चे को सम्भालते-सम्भालते स्ट्रेस कब नुकसान पहुंचने की कगार पर बढ़ जाता है कि कुछ समझ नहीं आता. इसलिए जरुरी है समय रहते-रहते स्ट्रेस से डील करना.

बच्चे की उम्र के साथ-साथ हर दिन स्ट्रगल और स्ट्रेस बढ़ता जाता है

  • दूसरे बच्चों के स्ट्रगल से ऐसे बच्चों का स्ट्रगल कहीं अधिक होता है. जिसमें उन्हें हर समय किसी न किसी की मदद की जरुरत पड़ती है.

  • साधारण सी दिनचर्या को पूरा करने के लिए बच्चे को मदद के साथ भी घंटों लग सकते हैं. ये मदद उन्हें माता-पिता से मिलती है.

  • बच्चे की उम्र के साथ-साथ हर दिन स्ट्रगल और स्ट्रेस बढ़ता जा सकता है.

  • किशोरावस्था की उम्र में ये समस्या बढ़ जाती है क्योंकि कई बार ऐसे बच्चे वो बातें नहीं समझ पाते, जो उस उम्र के दूसरे बच्चे समझ कर सीख लेते हैं. खास कर लड़कियों में मेंस्ट्रुएशन से जुड़ी बातें.

  • ऐसे बच्चों को सेक्शुअली ओरिएंट करना मुश्किल हो जाता है. प्यूबर्टी के बदलावों को समझना और लड़कियों में मेन्स्ट्रूएशन से जुड़ी बातों को समझना. साथ ही पीयर प्रेशर को सम्भालना भी मुश्किल हो जाता है.

समय रहते अगर डिप्रेशन से जुड़ी समस्या का इलाज नहीं किया जाए तो पर्सनल स्ट्रेस और फ़्रस्ट्रेशन इतना ज्यादा हो जाता है कि तब कुछ समझ नहीं आता है.
ADVERTISEMENT

केयरगिवर का रखें खास ख्याल 

"ऐसे समय अक्सर परिवार में लोग एक दूसरे पर उंगली उठाते हैं और इल्जाम लगाते हैं, जरूरी है कि हम ऐसा न करें और मिल जुल कर पूरा परिवार बच्चे और उसका ध्यान रखने वाली मां की मदद करें. ऐसे में जरूरी है की सारा बोझ अकेली मां पर न आ जाए, वो प्राइमेरी केयरगिवर होती है लेकिन बाकी परिवार के सदस्यों के लिए जरुरी है उसकी मदद करना और उसे सपोर्ट करना. जरूरी है कि परिवार वाले मां को ब्लेम न करें और हर तरह से उसे सपोर्ट करें" ये कहना है डॉ दीपक गुप्ता का.

मां के लिए अपना ध्यान रखना बेहद जरुरी है. अगर मां मानसिक रूप से स्वस्थ होगी तभी वो बच्चे का ध्यान रख सकेगी.

केयरगिवर स्ट्रेस एक सच्चाई है. उससे निकलना जरुरी है. आसान नहीं होता केयरगिवर स्ट्रेस.
"एक मां पर इसका प्रभाव बहुत अधिक हो सकता है क्योंकि ऐसे में समाधान खोजने के लिए दबाव और तनाव बढ़ जाता है. अक्सर माता-पिता बच्चे की समस्या के लिए खुद को दोष देते हैं. यह अत्यधिक गिल्ट का कारण बन सकता है, जिससे तेजी से मूड में बदलाव आ सकते हैं. बहुत जल्दी मूड खराब या चिड़चिड़ापन या तेज गुस्सा आ सकता है. इससे माता-पिता असहाय महसूस कर सकते हैं क्योंकि उन्हें समझ नहीं आता कि बच्चे की क्या और कैसे मदद की जाए. सपोर्ट सिस्टम होना और इस संबंध में पेशेवरों और विशेषज्ञों से पर्याप्त जानकारी लेना जरूरी होता है."
डॉ कामना छिबर, क्लिनिकल ​​साइकोलॉजिस्ट, हेड- मेंटल हेल्थ, मेंटल हेल्थ और बेहवियरल साइंस विभाग, फोर्टिस हेल्थकेयर

ध्यान दें मां/केयरगिवर के बदलते व्यवहार पर 

अगर मां/केयरगिवर में ऐसा बदलाव आता है, जो नुकसानदायक है तो परिवार के लोगों को समझने की कोशिश करनी चाहिए कि कहीं कोई दिक्कत तो नहीं है. हो सकता है कि यह डिप्रेशन की तरफ बढ़ता कदम हो.

  • गुमसुम हो जाए

  • नेगेटिव बातें करे

  • उसमें घबराहट या बेचैनी आ जाए

  • उदास और निराश महसूस करे

  • अत्यधिक चिंता करे

  • ऐंजाइयटी हो

  • अधिक या कम सोए

  • आसपास की चीजों में कोई रुचि न ले

  • खाने-पीने पर ध्यान न दे

  • परिवार और दोस्तों से दूर रहने लगे

  • अत्यधिक गुस्सा करे

  • बच्चे के साथ कोई बॉन्डिंग महसूस न करे

  • अपने आप को हर समय जज करे

  • खुद को बुरी मां माने

  • हर समय बच्चे की दूसरे बच्चे से तुलना करे

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, fit के लिए ब्राउज़ करें

टॉपिक:  Mental Health   women mental health 

ADVERTISEMENT
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×