NCRB डेटा: देश में रोजाना 87 रेप, UP महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित

NCRB का डेटा बताता है कि 2018 के मुकाबले, 2019 में महिलाओं के खिलाफ अपराध 7.3% तक बढ़ा.

Published
भारत
3 min read
NCRB का डेटा बताता है कि 2018 के मुकाबले, 2019 में महिलाओं के खिलाफ अपराध 7.3% तक बढ़ा.
i

4 लाख 5 हजार 861. ये पिछले साल, 2019 में भारत में महिलाओं के खिलाफ हुए अपराध का आकंड़ा है. 29 सितंबर को नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) के डेटा 'क्राइम इन इंडिया' में ये खुलासा हुआ है. महिलाओं के खिलाफ अपराध का ये डेटा उसी दिन आया, जिस दिन हाथरस गैंगरेप पीड़िता ने 15 दिनों तक लड़ने के बाद दम तोड़ दिया.

डेटा के मुताबिक, भारत में 2019 में रोजाना औसतन 87 रेप के मामले दर्ज किए गए.

NCRB डेटा: देश में रोजाना 87 रेप, UP महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित
(कार्ड- क्विंट हिंदी)

NCRB का डेटा बताता है कि 2018 के मुकाबले, 2019 में महिलाओं के खिलाफ अपराध 7.3% तक बढ़ा.

NCRB डेटा: देश में रोजाना 87 रेप, UP महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित
(कार्ड- क्विंट हिंदी)

महिलाओं के लिए सबसे बेकार राज्य उत्तर प्रदेश?

योगी आदित्यनाथ का उत्तर प्रदेश महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित राज्य है. केवल उत्तर प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ 59,853 अपराध दर्ज किए गए. ये सभी राज्यों में सबसे ज्यादा है.

NCRB डेटा: देश में रोजाना 87 रेप, UP महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित
(कार्ड- क्विंट हिंदी)

वहीं, असम में महिलाओं के खिलाफ सबसे ज्यादा अपराध दर रिकॉर्ड किया गया. प्रति लाख महिलाओं पर 117.8 महिलाएं पिछले साल अपराध का शिकार हुईं. 2018 में 58.8 के मुकाबले, 2019 में अपराध रेट बढ़कर 62.4 हो गया.

NCRB डेटा: देश में रोजाना 87 रेप, UP महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित
(कार्ड- क्विंट हिंदी)

ज्यादातर मामले इस तरह के हैं

NCRB की रिपोर्ट के मुताबिक, महिलाओं के खिलाफ सबसे ज्यादा अपराध 'पति या उसके परिवार द्वारा हिंसा' के तहत दर्ज किए गए.

NCRB डेटा: देश में रोजाना 87 रेप, UP महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित
(कार्ड- क्विंट हिंदी)

इन राज्यों में सबसे ज्यादा रेप केस

राजस्थान में रेप के सबसे ज्यादा केस (5,997) दर्ज किए गए. उत्तर प्रदेश में 3,065 केस और मध्य प्रदेश में 2,485 केस दर्ज किए गए.

रेप केसों की दर भी राजस्थान में सबसे ज्यादा (प्रति लाख आबादी पर 15.9) है.

NCRB डेटा: देश में रोजाना 87 रेप, UP महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित
(कार्ड- क्विंट हिंदी)

बच्चियों के खिलाफ अपराध

NCRB के डेटा में बच्चियों के खिलाफ अपराध में भी बढ़ोतरी देखने को मिली. 2018 के मुकाबले, 2019 में बच्चियों के खिलाफ अपराध 4.5% तक बढ़ा.

NCRB डेटा: देश में रोजाना 87 रेप, UP महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित
(कार्ड- क्विंट हिंदी)

2019 में बच्चियों के खिलाफ 1.48 अपराध दर्ज किए गए.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!