ADVERTISEMENT

हेमंत सोरेन की बढ़ी टेंशन,पंकज मिश्रा के बाद मीडिया सलाहकार पिंटू ED के रडार पर

अभिषेक प्रसाद पिंटू को 01 अगस्त को ईडी ऑफिस में पेश होना है.

Published
हेमंत सोरेन की बढ़ी टेंशन,पंकज मिश्रा के बाद मीडिया सलाहकार पिंटू ED के रडार पर
i

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. अवैध खनन घोटाला मामले में झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता से लेकर हेमंत सोरेन प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी के रडार पर चल रहे हैं. हेमंत सोरेन के प्रेस सलाहकार अभिषेक प्रसाद ‘पिंटू’ को ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) ने समन भेजा है. 01 अगस्त को अभिषेक प्रसाद को ईडी ऑफिस में पेश होना है. इससे पहले झारखंड मुक्ति मोर्चा के सदस्य और हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा (Pankaj Mishra) को ईडी ने गिरफ्तार किया था.

ADVERTISEMENT

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा से प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने जब पूछताछ की तो उन्होंने अभिषेक प्रसाद ‘पिंटू’ का नाम लिया जिसके बाद ईडी ने अभिषेक को समन भेजा है.

कौन-कौन रडार पर

इससे पहले मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के विधानसभा क्षेत्र बरहेट विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा को अवैध खनन और टेंडर मैनेज करने से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के केस में ED ने 19 जुलाई को बुलाया था. लेकिन करीब 8 घंटे की पूछताछ के बाद पंकज मिश्रा को जांच में सहयोग नहीं करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया. ईडी ने साल 2020 में बरहरवा थाने में टेंडर विवाद मामले में दर्ज प्राथमिकी के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में साल 2022 में प्राथमिकी दर्ज की थी. इसी मामले में ईडी ने दो बार समन भेजा था लेकिन पंकज गैरहाजिर रहे थे. वहीं गिरफ्तारी के बाद ईडी की विशेष अदालत ने पंकज मिश्रा को छह दिनों के लिए रिमांड पर लेकर पूछताछ की अनुमति दी थी. हालांकि रिमांड अवधि खत्म होने के बाद ईडी की विशेष अदालत ने रिमांड अवधि को छह दिनों के लिए और बढ़ा दिया.

ADVERTISEMENT

बता दें कि संथाल परगना में अवैध खनन के जरिए 100 करोड़ से ज्यादा की अवैध कमाई और टेंडर मैनेज करने से जुड़े खेल में पंकज मिश्रा से ईडी ने पूछताछ की थी.

बच्चू यादव और दाहू यादव पर ईडी की नजर

अवैध खनन और मनी लाउंड्रिंग से जुड़े मामले में पंकज मिश्रा की गिरफ्तारी के बाद कई और लोगों का नाम भी सामने आया था, जिसमें से एक है पंकज मिश्रा का करीबी दाहू यादव और दूसरा बच्चू यादव. ईडी ने दाहू यादव और बच्चू यादव से भी पूछताछ की थी.

ADVERTISEMENT

आईएएस अधिकारी पूजा सिंघल जेल में

अगर देखा जाए तो सीएम हेमंत सोरेन की मुश्किलें तब ही बढ़ना शुरू हो गई थी जब मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी ने झारखंड खनन विभाग की सचिव और साल 2000 बैच की झारखंड कैडर की IAS अधिकारी पूजा सिंघल को गिरफ्तार किया था.

पूजा सिंघल पर खूंटी जिले में मनरेगा योजना के तहत बड़े पैमाने पर गड़बड़ी का आरोप लगा है. सरकारी ऑडिट के बाद झारखंड पुलिस ने करप्शन एक्ट के तहत 16 मामले दर्ज किए थे. ईडी की पड़ताल के मुताबिक मनरेगा योजना में फंड की मंजूरी के संबंध में राम बिनोद सिन्हा और दूसरे इंजीनियरों की ओर से पूजा सिंघल को भुगतान किया गया था, जो उस समय खूंटी जिले की उपायुक्त थीं.

ईडी के मुताबिक पूजा सिंघल की गिरफ्तारी से पहले 6 मई 2022 को देशभर में करीब 27 अलग-अलग जगहों पर तलाशी अभियान चलाया गया था, जिस दौरान पूजा सिंघल से जुड़े लोगों के पास से 19 करोड़ 76 लाख रुपए जब्त किए गए थे.

बता दें कि खनन से जुड़े मामले को लेकर ईडी की कार्रवाई से हेमंत सोरोने की मुश्किलें इसलिए भी बढ़ती नजर आ रही हैं क्योंकिहेमंत सोरेन के पास खनन का प्रभार भी है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, news और politics के लिए ब्राउज़ करें

टॉपिक:  jharkhand   Hemant Soren 

ADVERTISEMENT
और देखें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×