ADVERTISEMENT

अरविंद केजरीवाल के वीडियो का अधूरा हिस्सा भ्रामक दावे से वायरल

अरविंद केजरीवाल का वीडियो बिना संदर्भ के शेयर किया जा रहा है,जिसमें वो 'भ्रष्टाचार चलते रहना चाहिए' कहते दिख रहे हैं

Published
अरविंद केजरीवाल के वीडियो का अधूरा हिस्सा भ्रामक दावे से वायरल
i

दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है, जिसमें केजरीवाल अर्थशास्त्रियों और भ्रष्टाचार के बारे में बोलते नजर आ रहे हैं. दावा किया जा रहा है कि आम आदमी पार्टी (AAP) भ्रष्टाचार का समर्थन करती है. वीडियो में केजरीवाल के पीछे Lokmat के बैनर भी देखे जा सकते हैं.

13 सेकेंड के इस वीडियो में केजरीवाल कहते दिख रहे हैं, ''मैंने एक भी अर्थशास्त्री को ये लिखते नहीं देखा कि भ्रष्टाचार देश को बर्बाद कर रहा है. भ्रष्टाचार जारी रहना चाहिए.''
ADVERTISEMENT

हमने पाया कि ये वीडियो एक बड़े वीडियो का छोटा सा हिस्सा भर है जिसे बिना संदर्भ के शेयर किया जा रहा है. वीडियो को केजरीवाल की उस स्पीच से लिया गया है जो उन्होंने 8 मई 2022 को नागपुर, महाराष्ट्र में न्यूज ऑर्गनाइजेशन Lokmat की 50वीं वर्षगांठ में हुए एक कार्यक्रम में दिया था.

संबोधन के दौरान, सीएम ने अर्थशास्त्रियों की 'फ्रीबी गवर्नेंस' की इस आलोचना पर कि इससे देश बर्बाद हो जाएगा, पर बोला था. उन्होंने कहा कि अभी तक उन्होंने इन लोगों को ये लिखते नहीं देखा कि भ्रष्टाचार से देश कैसे बर्बाद कर देगा.

दावा

13 सेकेंड के इस वीडियो के आधे हिस्से में अरविंद केजरीवाल को बोलते देखा जा सकता है और दूसरे आधे हिस्से में आम आदमी पार्टी के सदस्यों के भ्रष्टाचार से जुड़े होने से जुड़ी रिपोर्ट्स दिख रही हैं. वीडियो शेयर कर ये दावा किया जा रहा है कि आम आदमी पार्टी भ्रष्टाचार का समर्थन करती है.

<div class="paragraphs"><p>पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://perma.cc/2YBH-Q36M">यहां</a> क्लिक करें</p></div>

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

ऐसी ही पोस्ट के आर्काइव आप यहां और यहां देख सकते हैं.

ADVERTISEMENT

पड़ताल में हमने क्या पाया

वीडियो में सीएम केजरीवाल के पीछे और पोडियम में न्यूज ऑर्गनाइजेशन Lokmat का लोगो देखा जा सकता है. इसलिए, हमने ऑर्गनाइजेशन के वेरिफाइड यूट्यूब हैंडल पर जाकर देखा.

यहां हमें 8 मई 2022 को पब्लिश एक वीडियो मिला जिसका टाइटल था, 'Arvind Kejriwal in Lokmat Golden Jubilee Celebration'.

हमने पूरा वीडियो देखा. वीडियो के 58वें मिनट से सीएम केजरीवाल को बोलते देखा जा सकता है. सीएम केजरीवाल दिल्ली में शिक्षा और स्वास्थ्य के बारे में बात करते हुए देखे जा सकते हैं. केजरीवाल बताते हैं कि दिल्ली में सरकारी स्कूलों का रिजल्ट प्राइवेट स्कूलों से अच्छा आया.

वीडियो में आगे केजरीवाल दिल्ली के सरकारी अस्पतालों की स्थिति और चिकित्सा व्यवस्था के बारे में बात करते हुए बताते हैं कि कैसे दिल्ली में स्वास्थ्य सेवा मुफ्त, बेहतर और सस्ती हुई है. वो कहते हैं कि अगर आप सरकारी अस्पताल में इलाज कराएंगे तो सारा इलाज मुफ्त में होगा.

शासन करने के अपने मॉडल के बारे में बोलते हुए, वो आगे कहते हैं कि कैसे राजनीतिक दल उनकी 'फ्रीबी' सरकार की आलोचना करते हैं. केजरीवाल लोगों से ये पूछते देखे जा सकते हैं कि क्या कमजोर परिवारों के बच्चों को मुफ्त, अच्छी क्वालिटी की शिक्षा देना गलत है.

दिल्ली सीएम आगे कहते हैं कि आजकल बड़े-बड़े अर्थशास्त्री आर्टिकल लिख रहे हैं कि अगर ''फ्रीबी कल्चर'' चालू रहा तो देश बर्बाद हो जाएगा, लेकिन वो ऐसा भ्रष्टाचार के बारे में ऐसा नहीं लिखते. वीडियो के इस हिस्से को 1 घंटे 26 मिनट से सुना जा सकता है.

आजकल मैं देख रहा हूं कि बड़े-बड़े अर्थशास्त्री अखबारों में आर्टिकल लिख रहे हैं कि अगर 'फ्रीबी कल्चर'' चालू रखा तो देश बर्बाद हो जाएगा. मैंने एक भी अर्थशास्त्री को ये आर्टिकल लिखते नहीं देखा कि अगर भ्रष्टाचार चालू रहा तो देश बर्बाद हो जाएगा. भ्रष्टाचार चलते रहना चाहिए.
दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल, लोकमत के कॉन्फ्रेंस में
ADVERTISEMENT

वो आगे कहते हैं कि, ''मैं ये फ्रीबी कैसे दे रहा हूं?"

''मेरे पास पैसा कहां से आ रहा है? मेरे पास तो पैसा है नहीं, तो ये पैसा कहां से आ रहा है, तो मैं ये कैसे कर रहा हूं?'' इसके आगे वो कहते हैं कि ऐसा मैं भ्रष्टाचार खत्म करके कर रहा हूं.

उन्होंने कहा, ''जो पैसे पहले नेताओं और अधिकारियों की जेब में जाते थे, अब वो मैं लोगों के बीच में बांट देता हूं. किसी को मुफ्त बिजली तो किसी को मुफ्त में दवाएं मिल जाती हैं.''

अपनी स्पीच के आखिर में केजरीवाल कहते हैं कि जितने अर्थशास्त्री मेरे खिलाफ लिख रहे हैं वो ये नहीं लिख रहे कि भ्रष्टाचार खत्म होना चाहिए, वो सिर्फ ये लिख रहे हैं कि फ्रीबी बंद होना चाहिए. उन्होंने ये आरोप भी लगाया कि नेताओं को फ्री में मिलने वाली सुविधाओं के बारे में भी कुछ नहीं लिखा जाता है.

वो कहते हैं कि ''नेताओं के फ्रीबी के बारे में कुछ नहीं लिखा जाता, सिर्फ आम लोगों के बारे में ऐसा लिखा जाता है. ये नहीं चलेगा.''

आम आदमी पार्टी के वेरिफाइड ट्विटर अकाउंट पर भी केजरीवाल की स्पीच की एक क्लिप शेयर की गई है, जहां वायरल हो रहे हिस्से को इसके संदर्भ के साथ सुना जा सकता है.

मतलब साफ है कि दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल के वीडियो का एक छोटा सा हिस्सा बिना किसी संदर्भ के शेयर कर ये भ्रामक दावा किया जा रहा है कि आम आदमी पार्टी भ्रष्टाचार का सपोर्ट करती है.

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9643651818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं )

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×