ADVERTISEMENT

कुरुक्षेत्र के मंदिर में मजार और रोजा ना रखने पर कत्लेआम जैसे झूठे दावों का सच

इस हफ्ते सोशल मीडिया पर वायरल हुए भ्रामक दावों का सच यहां है

Published
कुरुक्षेत्र के मंदिर में मजार और रोजा ना रखने पर कत्लेआम जैसे झूठे दावों का सच
i

सोशल मीडिया पर इस हफ्ते भ्रामक साम्प्रदायिक दावों की भरमार रही. कभी हिंदू परिवार के पूर्वजों के स्मारक को कुरुक्षेत्र के मंदिर में बन रही मजार बताया गया. तो कभी सीरिया (Syria) के गृह युद्ध का वीडियो इस गलत दावे से शेयर हुआ कि इन लोगों को रोजा न रखने की वजह से मारा जा रहा है. क्विंट की वेबकूफ टीम ने इन सभी दावों की पड़ताल की है एक नजर में जानिए इनका सच.

ADVERTISEMENT

कुरुक्षेत्र के मंदिर में बन रही मजार?

कुरुक्षेत्र के ज्योतिसर में गीता उपदेश स्थली का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल है, जिसमें एक शख्स मंदिर प्रांगण में बने एक स्ट्रक्चर को दिखाते हुए दावा कर रहा है कि ये मजार है. सुदर्शन न्यूज के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से भी इस वीडियो को ट्वीट करते हुए मामले को 'लैंड जिहाद' का नाम दिया गया.

<div class="paragraphs"><p><strong>पोस्ट का अर्काइव <a href="https://archive.is/fgC9s#selection-621.0-621.138">यहां </a>देखें</strong></p></div>

पोस्ट का अर्काइव यहां देखें

सोर्स : स्क्रीनशॉट/ट्विटर

ये दावा सच नहीं है. पुलिस, प्रशासन से लेकर ज्योतिसर के स्थानीय रहवासियों तक का यही कहना है कि मंदिर में कोई इस्लामिक मजार नहीं थी. असल में वीडियो में जो स्ट्रक्चर दिखाया गया वो एक हिंदू ब्राह्मण परिवार के पूर्वजों का स्मारक है. स्थानीय लोगों का कहना है कि किसी शरारती तत्व ने इस स्मारक पर चादर डाल दी, जिसके बाद वीडियो वायरल हो गया.

वायरल वीडियो में जो स्मारक दिख रहा है वो स्थानीय निवासी विनोद शर्मा के पूर्वजों का है. विनोद ने भी क्विंट से बातचीत में पुष्टि की है कि ये कोई दरगाह नहीं है, जैसा कि वीडियो में दिखाया गया. विनोद ने आगे बताया कि किसी शरारती तत्व ने ये चादर डाली और उसका वीडियो गलत दावे के साथ वायरल हो गया. विनोद शर्मा ने विवाद बढ़ने के बाद अब इस स्मारक को अपने ही खेत में शिफ्ट कर लिया है.


पूरी पड़ताल यहां देखें

मनीष सिसोदिया ने नहीं कहा ''AAP कराती है देश में दंगे''

सोशल मीडिया पर एक एडिटेड वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया आम आदमी पार्टी (AAP) के एक सर्वे के बारे में बात करते दिख रहे हैं. वीडियो में मनीष सिसोदिया हैं ''जनता बहुत स्पष्ट रूप से इस बात को समझती है कि आम आदमी पार्टी ही इस देश में दंगे कराती है''.

<div class="paragraphs"><p><strong>पोस्ट का अर्काइव <a href="https://perma.cc/CQ8Y-FFFC">यहां</a> देखें</strong></p></div>

पोस्ट का अर्काइव यहां देखें

सोर्स : स्क्रीनशॉट/ट्विटर

ADVERTISEMENT

वीडियो की ओरिजनल क्लिप देखने पर साफ हो रहा है कि वायरल हो रही क्लिप एडिटेड है. और मनीष सिसोदिया ने ऐसा कुछ नहीं कहा.

4 मई को AAP के ऑफिशियल यूट्यूब चैनल से मनीष सिसोदिया के इस पूरे भाषण का सीधा प्रसारण यानी लाइव स्ट्रीमिंग हुआ था. इस वीडियो में मनीष सिसोदिया कहते दिख रहे हैं ''जनता स्पष्ट रूप से ये समझ चुकी है कि देश में बीजेपी ही दंगे कराती है. और आम आदमी पार्टी में सबसे ज्यादा ईमानदार लोग हैं''

पूरी पड़ताल यहां देखें

रोजा न रखने पर मारे गए लोगों का है ये वीडियो?

सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो के आधार पर दावा किया जा रहा है सीरिया में लोगों को गोली मारकर शवों को गड्ढे में फेंक दिया जाता है, क्योंकि उन्होंने रमजान के दौरान रोजा रखने से इनकार कर दिया था.

<div class="paragraphs"><p><strong>ये वीडियो कई लोगों ने शेयर किया है</strong></p></div>

ये वीडियो कई लोगों ने शेयर किया है

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

ये वीडियो 2013 का है, जिसमें कई लोगों को मारते हुए दिखाया गया है. ये घटना सीरियाई गृहयुद्ध के दौरान हुई थी, जहां 2013 में 97,000 लोग मारे गए थे.

पूरी पड़ताल यहां देखें

ADVERTISEMENT

सड़क पर नमाज अदा करते लोगों की ये फोटो 10 साल पुरानी है

सोशल मीडिया पर एक फोटो वायरल हो रही है, जिसमें सड़क पर नमाज अदा करते हुए लोग दिख रहे हैं. फोटो शेयर कर ये दावा किया जा रहा है कि मुंबई के बांद्रा रेलवे स्टेशन में सड़क पर नमाज पढ़ी जा रही है.

फोटो को महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महा विकास अघाड़ी (MVA) सरकार पर तंज कसते हुए शेयर किया जा रहा है. दावा है कि महाराष्ट्र सरकार सड़क पर नमाज अदा करने की अनुमित दे रही है, लेकिन राज्य में लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा बजाने की अनुमति नहीं है.

<div class="paragraphs"><p><strong>पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए <a href="https://archive.is/N9ReT">यहां</a> क्लिक करें</strong></p></div>

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

वायरल फोटो 2012 की है जिसे राज्य में चल रहे लाउडस्पीकर विवाद से जोड़ गलत दावे से शेयर किया जा रहा है. इसके अलावा, 2012 में राज्य में कांग्रेस पार्टी की सरकार थी और तब राज्य के सीएम पृथ्वीराज चव्हाण थे.

पूरी पड़ताल यहां देखें

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×