ADVERTISEMENTREMOVE AD

Recap: Covid-19, भारत जोड़ो यात्रा, पठान और पीएम मोदी से जुड़े झूठे दावों का सच

न तो Covid का XBB सबवैरिएंट पुराने वैरिएंट से 5 गुना खतरनाक है, न ही राहुल गांधी के जूते की लेस पूर्वमंत्री ने बांधी

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

भारत जोड़ो यात्रा (Bharat Jodo Yatra) से लेकर Covid-19 के XBB वैरिएंट तक और पठान से लेकर पीएम नरेंद्र मोदी तक, इस हफ्ते सोशल मीडिया पर कई झूठे और भ्रामक दावे वायरल हुए. ऐसे तमाम झूठे दावों का सच आपको यहां एक जगह एक साथ मिलेगा.

क्या Covid का XBB वैरिएंट 'डेल्टा वैरिएंट से 5 गुना ज्यादा घातक' है?

कोरोना के XBB वैरिएंट को लेकर एक लंबा मैसेज सोशल मीडिया पर शेयर किया गया. दावा किया गया कि ये वेरिएंट डेल्टा से 5 गुना ज्यादा घातक होता है और इसकी तुलना में मृत्युदर ज्यादा है. इसके अलावा, लक्षणों को लेकर भी दावा किया गया कि इसमें खांसी या बुखार जैसे लक्षण नहीं दिखते.

न तो Covid का XBB सबवैरिएंट पुराने वैरिएंट से 5 गुना खतरनाक है, न ही राहुल गांधी के जूते की लेस पूर्वमंत्री ने बांधी

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

ADVERTISEMENTREMOVE AD

हालांकि, पड़ताल में हमने पाया कि वायरल मैसेज में किए गए ज्यादातर दावे गलत हैं.

XBB कोई नया वैरिएंट नहीं है, यह COVID-19 के Omicron वैरिएंट का ही एक सबवैरिएंट है. क्विंट ने फिजीशियन और एपिडेमियोलॉजिस्ट डॉ. चंद्रकांत लहारिया से भी बात की. उन्होंने कहा, "XBB BA.2 सबवैरिएंट है और ओमिक्रॉन के पिछले वैरिएंट से बहुत अलग नहीं है."

इसके अलावा, WHO सहित दूसरे हेल्थ ऑर्गनाइजेशन की रिसर्च में ऐसा कहीं नहीं बताया गया है कि XBB पिछले वैरिएंट की तुलना में ज्यादा घातक है.

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

क्या सच में पूर्व मंत्री ने बांधा राहुल गांधी के जूते का फीता?

बीजेपी आइटी सेल हेड अमित मालवीय ने एक वीडियो शेयर कर दावा किया कि पूर्व केंद्रीय मंत्री भंवर जितेंद्र सिंह ने भारत जोड़ो यात्रा में राहुल गांधी के जूतों के लेस बांधे.

न तो Covid का XBB सबवैरिएंट पुराने वैरिएंट से 5 गुना खतरनाक है, न ही राहुल गांधी के जूते की लेस पूर्वमंत्री ने बांधी

पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

हमें इस घटना के दूसरे एंगल से शूट किए गए कई वीडियो सामने मिले, जिनमें देखा जा सकता है कि भंवर सिंह राहुल के नहीं बल्कि अपने जूतों के लेस बांधने के लिए झुके थे.

न तो Covid का XBB सबवैरिएंट पुराने वैरिएंट से 5 गुना खतरनाक है, न ही राहुल गांधी के जूते की लेस पूर्वमंत्री ने बांधी

वीडियो के इस छोटे से हिस्से को देखने पर साफ हो रहा है कि जितेंद्र सिंह खुद के जूते का फीता बांध रहे हैं

(सोर्स: Accessed by Quint)

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

ADVERTISEMENTREMOVE AD

क्या शाहरुख ने ट्वीट कर कहा- 'Pathaan की पहले दिन की कमाई पाकिस्तानी NGO को देंगे'?

BBC News Hindi का एक कथित स्क्रीनशॉट शेयर कर दावा किया गया कि शाहरुख खान ने पाकिस्तान को अपना दूसरा घर बताया है और वो फिल्म पठान की पहले दिन की कमाई पाकिस्तानी एनजीओ को डोनेट करेंगे.

न तो Covid का XBB सबवैरिएंट पुराने वैरिएंट से 5 गुना खतरनाक है, न ही राहुल गांधी के जूते की लेस पूर्वमंत्री ने बांधी

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/फेसबुक)

पड़ताल में हमने पाया कि BC News Hindi के ऑफिशियल अकाउंट से ऐसा कोई ट्वीट नहीं किया गया है. वायरल स्क्रीनशॉट फर्जी है. जिसे 'Ok Satire' नाम के एक पैरोडी फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट किया गया था.

इसके अलावा, हमें ऐसी कोई रिपोर्ट भी नहीं मिली, जिसमें ये बताया गया हो कि शाहरुख खान अपनी फिल्म के पहले दिन की कमाई पाकिस्तानी एनजीओ को डोनेट करेंगे. वायरल दावा गलत है.

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

ADVERTISEMENTREMOVE AD

स्टेशन में खड़े PM मोदी और 4:20 समय दिखाती घड़ी की फोटो का सच

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक फोटो वायरल है. फोटो में पीएम मोदी रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर एक घड़ी के नीचे खड़े हैं, जिसमें समय 4 बजकर 20 मिनट दिख रहा है. फोटो शेयर कर पीएम पर मजाकिया लहजे में तंज कसा जा रहा है. दरअसल हिंदी भाषा में 420 शब्द का इस्तेमाल, आमतौर पर किसी को 'घोखाधड़ी करने वाला' बताने के लिए कहा जाता है.

न तो Covid का XBB सबवैरिएंट पुराने वैरिएंट से 5 गुना खतरनाक है, न ही राहुल गांधी के जूते की लेस पूर्वमंत्री ने बांधी

पोस्ट का अर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

वायरल फोटो एडिटेड है. असली तस्वीर में पीएम मोदी जिस घड़ी के नीचे खड़े हैं उसमें 1:13 बजे हैं. ये फोटो उस वक्त की है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रात के वक्त बनारस रेलवे स्टेशन का औचक निरीक्षण किया था.

न तो Covid का XBB सबवैरिएंट पुराने वैरिएंट से 5 गुना खतरनाक है, न ही राहुल गांधी के जूते की लेस पूर्वमंत्री ने बांधी

पीएम मोदी की दिसंबर 2021 की फोटो को एडिट किया गया

(फोटो : Altered by Quint)

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

ADVERTISEMENTREMOVE AD

MVA की 'हल्ला बोल रैली' का बता संजय राउत ने शेयर किया पुराना वीडियो?

सोशल मीडिया पर महाराष्ट्र में 17 दिसंबर को शिवसेना के नेतृत्व वाले गठबंधन महा विकास अघाड़ी की 'हल्ला बोल रैली' का बताकर संजय राउत ने एक वीडियो शेयर किया.

महाराष्ट्र के उप-मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस ने इस रैली को 'नैनो मोर्चा' कहते हुए तंज कसा था. ऐसे में संजय राउत समेत कई सोशल मीडिया यूजर्स ने हजारों की भीड़ दिखाता वीडियो शेयर कर उसे MVA की 'हल्ला बोल' रैली का बताया.

न तो Covid का XBB सबवैरिएंट पुराने वैरिएंट से 5 गुना खतरनाक है, न ही राहुल गांधी के जूते की लेस पूर्वमंत्री ने बांधी

पोस्ट का आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/ट्विटर)

वायरल वीडियो अभी का नहीं, बल्कि 2017 का है. तब मुंबई में 'मराठा क्रांति मोर्चा' की तरफ से मराठा समाज को आरक्षण की मांग को लेकर प्रदर्शन हुआ था. ये वीडियो उसी प्रदर्शन का है.

न तो Covid का XBB सबवैरिएंट पुराने वैरिएंट से 5 गुना खतरनाक है, न ही राहुल गांधी के जूते की लेस पूर्वमंत्री ने बांधी

2017 का है वायरल वीडियो

(सोर्स: स्क्रीनशॉट/यूट्यूब)

इसके अलावा, इंडियन एक्सप्रेस पर 'मराठा क्रांति मोर्चा' की इस रैली का वीडियो भी हमें मिला. साफ है कि पुराना वीडियो शेयर कर गलत दावा किया गया.

पूरी पड़ताल यहां पढ़ें

ADVERTISEMENTREMOVE AD

(अगर आपके पास भी ऐसी कोई जानकारी आती है, जिसके सच होने पर आपको शक है, तो पड़ताल के लिए हमारे वॉट्सऐप नंबर 9643651818 या फिर मेल आइडी webqoof@thequint.com पर भेजें. सच हम आपको बताएंगे. हमारी बाकी फैक्ट चेक स्टोरीज आप यहां पढ़ सकते हैं)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×